Dainik Bhaskar Hindi

यूनिवर्सिटी का 50-50 फार्मूला लटका

यूनिवर्सिटी का 50-50 फार्मूला लटका

डिजिटल डेस्क, नागपुर।  राष्ट्रसंत तुकड़ोजी महाराज नागपुर यूनिवर्सिटी की ओर से कुछ महीने पहले शुरू हुआ 50-50 का फार्मूला लड़खड़ाता नजर आ रहा है। इसे अपनाने का निवेदन नागपुर यूनिवर्सिटी से से संबध्य सभी कॉलेजों को दिया गया था। इसे लेकर कॉलेजों के प्राचार्यों के साथ बैठक भी ली गई, लेकिन जबाव नहीं मिला और अब निर्णय ठंडे बस्ते में चला गया है। हालांकि कुछ महाविद्यालयों ने इस निर्णय से सहमति जताने और संबंधित निवेदन नागपुर विद्यापीठ में देने के बाद उम्मीद की जा रही थी कि विवि में 50-50 का फार्मूला शुरू होगा।

किया गया था विरोध 

परीक्षा का 50-50 फार्मूला यानी स्नातक (ग्रेजुएशन) के आधे पाठ्यक्रमों की परीक्षा लेने की जिम्मेदारी महाविद्यालय तथा आधे सेमिस्टर की परीक्षा की जिम्मेदारी विवि पर होगी। विश्वविद्यालय द्वारा यह प्रणाली सभी कॉलेजों में लागू करने का निर्णय लिया गया है। एकेडमिक काउंसिल की बैठक में इस पर सहमति भी बनी थी, लेकिन जून में हुई सभी महाविद्यालयों के प्राचार्यों की बैठक के बाद प्राचार्याें द्वारा इसका विरोध करने से विवि ने अपना निर्णय वापस ले लिया था। निर्णय पर नए शैक्षणिक सत्र में दोबारा अमल किए जाने का विश्वास कुलगुरु ने व्यक्त किया है। 

ऐसा था प्रारूप 

50-50 का फार्मूला तीन संकाय आर्ट्स, कॉमर्स व साइंस में लागू होने वाला था। इसके तहत पहले, तीसरे और चौथे सेमिस्टर की परीक्षाएं कॉलेज में होनी थीं। यह परीक्षाएं कॉलेज लेने वाले थे। इसी तरह दूसरे, पांचवें और छठवें सेमिस्टर की परीक्षा विश्वविद्यालय की ओर से होनी थी। 

कॉलेजों से नहीं मिल पाया प्रतिसाद
नागपुर विद्यापीठ की ओर से परीक्षा को लेकर 50-50 प्रारूप तैयार किया गया था। संबंधित सभी कॉलेजों के प्रिंसिपल को सूचित भी किया गया, लेकिन किसी भी कॉलेज से उचित प्रतिसाद नहीं मिला। इससे  योजना साकार नहीं हो पाई। निर्णय लिया गया है कि अगले वर्ष इसे अमल में लाने का प्रयास किया जाएगा।
 

LIFE STYLE

FOLLOW US ON