Dainik Bhaskar Hindi

मासूम को अस्पताल में नहीं मिला 4 घंटे तक इलाज, मौत

मासूम को अस्पताल में नहीं मिला 4 घंटे तक इलाज, मौत

डिजिटल डेस्क, सतना। जिला अस्पताल में इलाज नहीं मिलने के कारण फिर एक मासूम की मौत हो गई। परिजन के आरोप है कि जिस वक्त पिं्रस को जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया था अगर उसी समय इलाज मिल जाता तो उसकी जान बच जाती। परिजन ने अस्पताल प्रबंधन से शिकायत कर कार्यवाही की मांग की है। 

सिविल अस्पताल से कराया था रेफर

मैहर पुरानी बस्ती निवासी प्रहलाद रजक ने बताया कि उसके बेटे प्रिंस रजक(9) की पिछले 4 दिनों से तबियत खराब थी। दो दिन पहले उसे मैहर डा. प्रदीप निगम के क्लीनिक में दिखाया, मलेरिया की शिकायत बताकर प्रिंस को सिविल अस्पताल मैहर में भर्ती कराया गया। परिजन के मुताबिक अस्पताल में दो दिन इलाज चला लेकिन प्रिंस को आराम नहीं मिल रहा था। बताया गया है कि प्रिंस को झटके आने लगे थे। परिजनों ने डॉक्टरों को इस बात की जानकारी दी। जिसके बाद डॉक्टर ने प्रिंस को इंजेक्शन लगाए। इसके बाद भी हालत सुधरने की बजाए बिगड़ती जा रही थी लिहाजा परिजन प्रिंस को मंगलवार-बुधवार की दरमियानी रात जबरन रेफर कराकर जिला अस्पताल ले आए। 

किसी ने देखा तक नही

परिजन ने आरोप लगाया है कि प्रिंस को लेकर सुबह सवा ४ बजे जिला अस्पताल पहुंच गए थे। बच्चा वार्ड में स्टाफ नर्स द्वारा रेफर के कागज देखकर सिर्फ वॉटल चढ़ा दिया था। प्रिंस की हालत बिगड़ती देख घर वाले लगातार डॉक्टरों को बुलाने की मांग कर रहे थे लेकिन कोई नहीं आया। सुबह 8 बजे जब डॉक्टर राउंड पर आए और प्रिंस को देखा तब तक उसकी मौत हो चुकी थी।

Similar News
टीबी: एक लाख आबादी के बीच दो सौ रोगी

टीबी: एक लाख आबादी के बीच दो सौ रोगी

हैवान पति ने दहेज के लिए पत्नी को छत से फेंका, फिर घर में किया कैद

हैवान पति ने दहेज के लिए पत्नी को छत से फेंका, फिर घर में किया कैद

स्वच्छता मिशन : बेहतर सफाई व्यवस्था के लिए सतना नगर निगम का सम्मान

स्वच्छता मिशन : बेहतर सफाई व्यवस्था के लिए सतना नगर निगम का सम्मान

एक्शन में कलेक्टर, बोले- समय पर होना चाहिए फ्लाईओवर का काम

एक्शन में कलेक्टर, बोले- समय पर होना चाहिए फ्लाईओवर का काम

LIFE STYLE

FOLLOW US ON