•  16.8°C  Partly cloudy
Dainik Bhaskar Hindi

Home » City » a girl raped by her father

शर्मसार: पिता ही निकला बेटी की अस्मत का लुटेरा

BhaskarHindi.com | Last Modified - September 13th, 2017 12:34 IST

शर्मसार: पिता ही निकला बेटी की अस्मत का लुटेरा

डिजिटल डेस्क,सतना। बेटी को अपने पिता के सबसे करीब माना जाता है, लेकिन सिविल लाइन पुलिस के पास एक ऐसा मामला सामने आया है जिसमें इस मान्यता की धज्जियां उड़ाकर रख कर दी हैं जिसमें एक व्यक्ति ने पहली पत्नी से जन्मी नाबालिग बेटी को अपनी हवस का शिकार बना डाला जिससे वह गर्भवती हो गई। पिता के कुकर्म का शिकार बनी पीड़िता ने पहले तो चुप्पी साध ली, जब ननिहाल में हिम्मत मिली तो पुलिस के पास पहुंच गई।

 सिविल लाइन टीआई भूपेन्द्र सिंह ने बताया कि चटाई फैक्ट्री के पास महादेवा निवासी संतोष 44 वर्ष की पहली पत्नी की मौत कई साल पहले हो गई थी, जिसके कुछ दिन बाद ही बेटी को नाना-नानी अपने साथ जबलपुर ले गए थे। इधर युवक ने दूसरी शादी कर ली और गांव छोड़कर सतना में रहने लगा। लगभग 8 माह पूर्व जबलपुर जाकर सास-ससुर से यह कहकर बेटी को अपने साथ ले आया कि अब उसकी जिम्मेदारी खुद उठाएगा। लिहाजा किसी ने आपत्ति नहीं की पर तब नाना-नानी को जरा भी अंदाजा नहीं था कि उसके मन में क्या चल रहा है। सतना लौटते ही आरोपी पिता ने रंग दिखाने शुरू कर दिए और काम के बहाने अश्लील हरकत करने लगा, जिस पर पीड़िता ने ध्यान नहीं दिया। इस वजह से आरोपी के हौंसले बढ़ते गए और 25 जनवरी 17 को उसने रिश्ते की मर्यादा को तार-तार करते हुए नाबालिग को हवस का शिकार बना लिया। इस दौरान विरोध करने पर जान से मार डालने की धमकी दी जिससे घबराकर पीड़िता ने चुप्पी साध ली। एक बार मनमानी में सफल रहने पर आरोपी आए दिन ज्यादती करने लगा।

ऐसे सामने आई हकीकत
 जब पिता की घिनौनी हरकतें नहीं थमी तो पीड़िता ने वापस लौटने का फैसला कर लिया और फरवरी माह में मामा को बुलाकर उनके साथ ननिहाल चली गई पर तब भी उसने पिता की करतूत किसी को नहीं बताई। हाल ही में जब उसकी तबियत बिगड़ी तो परिजन ने डॉक्टर को दिखाया, जिसने रिपोर्ट में लड़की को तीन माह का गर्भ होने का खुलासा किया। यह बात सुनते ही सबके होश उड़ गए, तब उसे समझा-बुझाकर पूछताछ की तो पीड़िता ने हकीकत बता दी, जिस पर ननिहाल वाले उसको जबलपुर के महिला थाने ले गए जहां बयान व मेडिकल के आधार पर 1 सितम्बर को जीरो में धारा 376 (एन), 354 (डी), 284, 506 आईपीसी  व पास्को एक्ट 2012 की धारा 8/10 (1) (2) के तहत कायमी कर केस डायरी सतना भेज दी गई, जिस पर सिविल लाइन थाने में कायमी कर पुलिस टीम ने आरोपी की तलाश प्रारंभ कर दी है।

loading...
Que.

क्या नोट बंदी के फैसले से अर्थव्यवस्था ख़राब हुई ?

समाचार पर अपनी प्रतिक्रिया यहाँ दें l

FOLLOW US ON