•  20°C  Mist
Dainik Bhaskar Hindi

Home » Entertainment » A love story of bollywood actress monika and gangster abu salem

एक Click पर पढ़िए, अबू सलेम और मोनिका बेदी की पूरी लव स्टोरी

BhaskarHindi.com | Last Modified - September 07th, 2017 18:34 IST

डिजिटल डेस्क,मुंबई। मुंबई में साल 1993 में हुए सीरियल बम ब्लास्ट के मामले में गुरूवार को अबू सलेम समेत 5 को सजा सुनाई गई। जिसमें सलेम को उम्र कैद की सजा सुनाई गई है। अबू जबसे इस मामले में आरोपी बना था तब से ही बॉलीवुड का एक नाम उससे जुड़ता रहा। एक डॉन का नाम बॉलीवुड से जुड़ना कोई नई बात नहीं है इससे पहले भी कई गैंगस्टर का नाम सितारों के साथ जुड़ता रहा था, लेकिन सलेम का नाम बॉलीवुड की एक ऐसी हसीना से जुड़ा जो फिल्मों में रहते हुए कभी सुर्खियां नहीं बन पाई। वो नाम है मोनिका बेदी का, सलेम और मोनिका की प्रेम कहानी ने खूब लाइमलाट बटोरी।

यह भी पढ़ें :अबू सलेम की याद में मोनिका ने भोपाल जेल में काटी हैं कई रातें

उन दिनों मोनिका बेदी के साथ अबू सलेम के रिश्तों को खूब हंगामा मचा हुआ था। कहते हैं मोनिका अबू सलेम की जान हुआ करती थी। सिर्फ इतना ही नहीं भारत से भाग जाने के बाद भी मोनिका सबकुछ छोड़-छाड़कर अबू सलेम के साथ ही रहा करती थी। रिपोर्ट्स के मुताबिक जब दोनों को पुर्तगाल में हिरासत में लिया गया, तब भी दोनों साथ साथ थे। दोनों अमेरिका के न्‍यू जर्सी शहर से पुर्तगाल पहुंचे थे। जहां भारत के आग्रह पर पुर्तगाली अधिकारियों ने गिरफ्तार कर लिया था।

मोनिका को फर्जी पासपोर्ट बनवाने की दोषी पाया गया था। अब वो अपने हिस्से की सजा काटकर रुपहले परदे पर कमबैक कर चुकी है। गिरफतारी के बाद उन्होंने एक खत के जरिए अपनी लव लाइफ पर खुलासे किए लेकिन कभी अबू का नाम जुबान पर नहीं लाई। 

यह भी पढ़ें : मुंबई बम ब्लास्ट : डॉन अबू सलेम समेत 2 को उम्रकैद, 2 को फांसी

कैसे हुई मुलाकात?
मोनिका और अबू सलेम की मुलाकात एक स्टेज शो के दौरान हुई थी। कहते हैं तब मोनिका उन्हें देखते ही उन पर फिदा हो गईं थी। मोनिका को उसके बातचीत करने का तरीका बेहद पसंद आया और वो इसी वजह से उससे बेहद इम्प्रेस हुई थी। इसी के बाद से दोनों एक दूसरे के करीब आने लगे और देखते ही देखते मोनिका और अबू सलेम अपने रिश्तों को लेकर सुर्खियों में छाने लगे। सिर्फ इतना ही नहीं दोनों की निकाह की ख़बरें भी मीडिया में आई थीं। हालांकि इन दोनों ने अपने इस रिश्ते को कभी सार्वजनिक रूप में स्वीकार नहीं किया। 

ऐसे बढ़ी मुलाकातें
स्टेज शो के दौरान अबु ने खुद को एक कारोबारी बताया था। मोनिका के मुताबिक स्टेज शो के पहले अबु नाम बदलकर बातें करता था। लेकिन उसके बात करने का अंदाज ऐसा था कि पहली मुलाकात में ही वो उसे पसंद करने लगी थी। मोनिका की मानें तो फोन पर हमारी बातें होती थीं लेकिन मुझे लगता था कि कहीं न कहीं हम-दोनों के बीच कोई कनेक्शन जरूर है। मोनिका बताती हैं कि मैंने कभी नहीं सोचा था कि किसी शख्स से फोन पर बातें करते-करते मैं उसे इस कदर पसंद करने लगूंगी कि बिना बात के रहा नहीं जाएगा। मैं ये नहीं कहूंगी कि मैं उसके प्यार में पड़ गई थी, लेकिन हां, ये जरूर है कि मैं उसे पसंद करने लगी थी। 

फोन का करतीं थीं इंतेजार
बकौल मोनिका 'मैं उसके फोन का बेसब्री से इंतजार करने लगी थी और जब फोन नहीं आता तो मैं बैचेन हो उठती थी। फोन पर बात करने के दौरान अबू मुझे बहुत ही संजीदा और सुलझे हुए इंसान लगे।' 

दुबई में शो के बाद हम दोनों इतने करीब आ गए कि अबू हर आधे घंटे में मुझे फोन लगा देते थे। वो मेरी काफी परवाह करने लगे थे। दुबई में दो बार मिलने के बाद मैं मुंबई वापस आई तो मैंने अबू को मुंबई आने के लिए कहा। लेकिन वो हमेशा कोई बहाना बना देते। अबू अपना नाम आर्सलन अली बताया था। अबू हमेशा यही नाम इस्तेमाल करते थे। यहां तक की जब पुर्तगाल में हम गिरफ्तार हुए तब भी अबू ने अपना नाम आर्सलन अली बताया था।

अपना सच छुपाया
मोनिका बताती हैं कि 'अबू को दुनिया कैसे भी जानती हो, लेकिन मैं जब तक उसके साथ रही, वो मेरे लिए एक आम इंसान की तरह था। वह मेरे साथ अच्छे से पेश आता था। उसने मुझे कभी भी उसके पीछे के सच से वाकिफ नहीं होने दिया। मैंने हमेशा उसे जरूरतमंदों की मदद करते हुए देखा। वो मुझे दयालु हृदय का लगा। मुझे उसके बीते हुए कल के बारे में कुछ भी पता नहीं था। मुझे नहीं पता था कि उसने क्या गलत किया।

टाइम पास रिलेशनशिप नहीं था
हम दोनों के बीच एक बहुत ही निजी संबंध था। वो किस किस से जुड़ा था मुझे उससे कुछ भी लेना-देना नहीं था। मैं उसके अलावा किसी से नहीं मिली। वो मेरी बहुत फिक्र करता था और मेरा सम्मान भी। मैं कह सकती हूं कि हमारे बीच 'टाइम पास रिलेशनशिप' नहीं था। शुरूआती दिनों में मुझे नहीं पता था कि वो किस तरह का आदमी है, बस उसकी बातें दिल को छू जाती थीं। मैं पहली दफा उसके साथ दो-तीन दिन रहकर मुंबई वापस आई तब भी मेरे साथ उसका अच्छा बर्ताव ही था। 

जल्द एहसास हुआ एक-दूजे से हैं अलग
जब मैं उसके साथ रहने लगी तब मुझे अहसास हुआ कि हम एक-दूसरे के लिए नहीं बने हैं। मुझे अहसास हुआ कि हम दोनों की सोच-समझ अलग है। तब मुझे लगा कि मैं उसके साथ नहीं रह पाउंगी।

loading...
Que.

क्या नोट बंदी के फैसले से अर्थव्यवस्था ख़राब हुई ?

Similar News
अबू सलेम की याद में मोनिका ने भोपाल जेल में काटी हैं कई रातें

अबू सलेम की याद में मोनिका ने भोपाल जेल में काटी हैं कई रातें

शादी करना चाहता है अबू सलेम , कोर्ट से मांगी इजाजत

शादी करना चाहता है अबू सलेम , कोर्ट से मांगी इजाजत

CBI वकील की मांग- अबु सलेम को फांसी नहीं उम्रकैद हो

CBI वकील की मांग- अबु सलेम को फांसी नहीं उम्रकैद हो

समाचार पर अपनी प्रतिक्रिया यहाँ दें l

एक नज़र इधर भी
loading...

FOLLOW US ON