Dainik Bhaskar Hindi

यूपी में कैफियत एक्स. के 10 डिब्बे पटरी से उतरे, 74 घायल

डिजिटल डेस्क, लखनऊ। शनिवार को ही उत्तरप्रदेश के मुजफ्फरनगर में एक रेल हादसा हुआ था, जिसके 5 दिन बाद ही प्रदेश में एक और रेल हादसा हो गया। आजमगढ़ से दिल्ली जा रही कैफियत एक्सप्रेस (12225) औरैया के पास एक डंपर से टकरा गई। डंपर से टकराने के बाद ट्रेन के इंजन सहित 10 डिब्बे पटरी से उतर गए, जिसमें 74 लोग घायल हो गए। अच्छी बात ये है कि इस हादसे में किसी भी यात्री की जान नहीं गई। हादसा मंगलवार-बुधवार रात करीब 2:30 बजे के आसपास हुआ। 

प्रशासन राहत कार्य में जुटा

हादसे की जानकारी मिलते ही रेलवे प्रशासन मौके पर पहुंच पर राहत कार्य में जुट गया है। वहीं औरैया के डीएम और एसपी भी घटनास्थल पर पहुंचकर हालत का जायजा ले रहे हैं। घायलों की मदद के लिए औरैया समेत इटावा और कन्नौज समेत एंबुलेंस मंगाई गई है। राहत बचाव कार्य में NDRF की टीम को भी भेजा गया था। खबरों के मुताबिक हादसे में राहत कार्य पूरा हो चुका है। रेलवे ने भी हेल्पलाइन नंबर जारी किए हैं। 

कैसे हुआ ये हादसा? 

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक एक डंपर रेलवे ट्रेक को पार रहा था, तभी दूसरी तरफ से फास्ट स्पीड में आ रही कैफियत एक्सप्रेस इससे टकरा गई। फास्ट स्पीड में टकराने की वजह से कैफियत एक्सप्रेस के इंजन समेत 10 डिब्बे पटरी से उतर गए। ये रेल हादसा वीरपुर गांव के पास हुआ है, जो कानपुर-इटावा के बीच पड़ने वाले अछल्दा रेलवे स्टेशन के पास है। बताया जा रहा है कि डंपर ड्राइवर को नींद आ गई थी, जिस वजह से ये हादसा हुआ है। इस हादसे में अब तक 80 से ज्यादा लोगों के घायल होने की खबर है। सभी घायलों को पास के हॉस्पिटल में ही एडमिट कराया गया है। 

रेल मंत्री ने क्या कहा? 

हादसे के बाद रेल मंत्री सुरेश प्रभु ने ट्विट कर कहा कि इस हादसे में कुछ लोग घायल हुए हैं जिन्हें पास के हॉस्पिटल में एडमिट कराया गया है।इसके साथ ही उन्होंने रेलवे ऑफिशियल्स को भी सीधे घटनास्थल पर जाने को कहा है। वहीं यूपी पुलिस के ट्विटर अकाउंट से भी कहा गया है कि हादसे के बाद सभी यात्री पूरी तरह सेफ हैं। यूपी पुलिस ने इसके साथ ही कुछ जरुरी नंबर भी दिए हैं। 

शनिवार को ही हुआ था रेल हादसाा

उत्तरप्रदेश में शनिवार यानी 19 अगस्त को ही पुरी से हरिद्वार जा रही कलिंग-उत्कल एक्सप्रेस ट्रेन के 14 डिब्बे पटरी से उतर गए, जिससे 23 लोगों की जान चली गई और 150 से ज्यादा लोग घायल हो गए थे। इस ट्रेक पर पहले से ही मरम्मत का काम चल रहा था लेकिन उसके बाद भी इस रुट से ट्रेन को निकाला गया। जैसे ही ट्रेन ड्राइवर की नजर ट्रेक पर चल रहे काम पर पड़ी तो उसने जोर से ब्रेक भी लगाए जिस कारण ट्रेन के 14 डिब्बे पटरी से ही उतर गए। 

LIFE STYLE

FOLLOW US ON

**230**