Dainik Bhaskar Hindi

बाबा की चलती है अलग करेंसी, पानी के अंदर रेस्तरां, ये है आलीशान डेरा

बाबा की चलती है अलग करेंसी, पानी के अंदर रेस्तरां, ये है आलीशान डेरा

डिजिटल डेस्क, सिरसा। बाबा राम रहीम अपनी स्टायलिश लाइफ के लिए जाने जाते हैं। कभी महंगी कारों, ब्रांडेड कपड़ों, अपने अनोखे स्टाईल के लिए बाबा चर्चा में रहते हैं, तो कभी अपनी फिल्मों और एल्बम के लिए। बाबा का डेरा सच्चा सौदा ऐशो-आराम से भरी सुख-सुविधाओं के लिए जाना जाता है। डेरे में वे सभी आधुनिक सुविधाएं है, जो किसी स्मार्ट सिटी में होती हैं।

डेरे में चलती है बाबा की अलग करेंसी

डेरे के अंदर और आस-पास की दुकानों में नाम के पहले 'सच' लिखा होता है। बाबा के अपने लोग ही इन दुकानों को चलाते हैं और ग्राहकों को खुल्ले पैसे देने के लिए अपनी करेंसी का उपयोग करते हैं। यदि किसी दुकानदार के पास ग्राहक को देने के लिए खुल्ले पैसे नहीं होता तो वह 5 और 10 के प्लास्टिक के सिक्के देते हैं। इन सिक्कों पर 'धनधन सतगुरु तेरा ही आसरा, डेरा सच्‍चा सौदा सिरसा' लिखा होता था।

डेरे में है ये सारी सुविधाएं

डेरे में पानी के अंदर रेस्तरां बना हुआ है, जिसका नाम कशिश है। एक एंटरटेनमेंट पार्क, फाइव स्टार कैटेगरी की सुविधा वाला रिजॉर्ट (SMG), सिनेमा हॉल, अपने पेट्रोल पंप, सुपर स्पेश्यलिटी अस्पताल, इंटरनेशनल लेवल का स्टेडियम, स्केटिंग स्टेडियम, आईटी कॉलेज, गर्ल्ज कॉलेज, इंटरनेशनल स्कूल, खुद का दैनिक अखबार, मासिक पत्रिका, चैनल सब है।

कब बना था डेरा?

हरियाणा के सिरसा शहर में 1948 में सच्चा सौदा डेरा बना था। बलूचिस्तान के फकीर शाह मस्ताना जी अपने गुरु सावन शाह (राधास्वामी, व्यास) के आदेश पर सिरसा आए थे और इस डेरे को बनवाया था। गुरमीत सिंह से पहले सतनाम सिंह 1990 तक गद्दी पर काबिज रहे और फिर गुरमीत सिंह को 23 साल की उम्र में डेरे की गद्दी मिली। डेरे की गद्दी मिलने के बाद गुरमीत सिंह ने 7 किमी आगे विशाल डेरा बनाया। यह 700 एकड़ में बताया जाता है। इस 7 किमी के रास्ते में सड़क के दोनों ओर की अधिकतर जमीन बाद में डेरा ने खरीद ली।

करीब 30 करोड़ की सालाना कमाई

शुरुआत में डेरे में कैलेंडर, तस्वीरें, सत्संग की VCD और लॉकेट बिकने शुरू हुए। धीरे-धीरे ऐसा कोई उत्पाद नहीं बचा, जिसे बनाने और बेचने का काम नहीं होता हो। आज MSG नाम से प्रॉडक्ट्स की वैसी ही चेन है, जैसी पतंजलि या दूसरे उत्पादों की है। आयकर विभाग की सूचना के अनुसार, 2010-11 में डेरे की वार्षिक आय 29 करोड़, 18 लाख, 68 हजार थी, करीब 7 लाख 99 हजार प्रतिदिन। 

MSG खेल गांव

डेरे में 23 एकड़ में फैला MSG खेलगांव बना है, जिसमें अंतरराष्ट्रीय स्तर का क्रिकेट स्टेडियम, लॉन टेनिस में क्ले कोर्ट और सिंथेटिक कोर्ट, रोलर स्केटिंग स्टेडियम, वॉलीबॉल, हॉकी, बॉस्केटबॉल, फुटबॉल, हैंडबॉल, जिमनास्टिक, गन शूटिंग, नेटबॉल स्टेडियम हैं। हाल में ही हरियाणा सरकार के शिक्षा मंत्री रामविलास शर्मा ने 51 लाख रुपये अपनी तरफ से दिए है। 

डेरे के हैं कई वर्ल्ड रिकार्ड

डेरे के मुताबिक, उनके पास 22 गिनीज वर्ल्ड रेकॉर्ड, 44 एशिया बुक ऑफ रेकॉर्ड्स, 3 लिमका बुक ऑफ रेकॉर्ड्स और 7 इंडिया बुक ऑफ रेकॉर्ड्स हैं। जिनमें अधिकतर सबसे ज्यादा लोगों के साथ कोई हेल्थ चेकअप या रक्तदान शिविर लगाने से जुड़े हैं। अब तक सवा 2 लाख लीटर रक्तदान का दावा किया जाता है।

आधार नंबर की तरह लॉकेट

बाबा अपने सभी अनुयायियों को एक लॉकेट देते है जिसमे पीछे एक क्रमवार नंबर होता है, जिससे लॉकेट की संख्या और अनुयायियों की संख्या का पता चलता है। लॉकेट देते समय अनुयायियों का पूरा बायोडेटा लिया जाता है। डेरा के पास अपने अनुयायियों की सिलसिलेवार डीटेल है। पढ़ाई लिखाई, फोन नंबर से लेकर ई-मेल तक सब की डिटेल रखी जाती है। 

सोशल मीडिया पर भी आगे हैं ये बाबा

ट्विटर पर बाबा राम रहीम के फॉलोअर्स की संख्या 37 लाख से ज्यादा है। हर ट्वीट पर औसतन 20 हजार रीट्वीट आते हैं, चाहे वह कुछ भी हो। ठीक ऐसे ही लाखों फॉलोअर्स वाले कई हैंडल हैं, जो अलग-अलग डिविजन के हैं।

सवा लाख का ग्रीन वेलफेयर फोर्स

ऐसा दावा किया जाता है कि देश में बड़ी आपदाओं के वक्त शाह सतनाम जी ग्रीन वेलफेयर फोर्स की मौजूदगी आपदा प्रबंधन के तौर पर दिखती है। चाहे गुजरात का भूकंप हो या नेपाल की बाढ़ हो या भूकंप। सफाई महाअभियान हो या कोई और मौका। ऐसे समय में यह फोर्स लोगों की मदद के लिए पहुंचती है। इसके लोगों को आग से निपटने, तैरने जैसे कई काम सिखाए जाते हैं। आरोप लगते रहे हैं कि इन्हें हथियारों की ट्रेनिंग भी दी जाती है, लेकिन इन आरोपों की कभी पुष्टि नहीं हो सकी। इस फोर्स ने कई शहरों को एक ही दिन में साफ करने के अभियानों में हिस्सा लिया है। बाबा के इस फोर्स में 1लाख 25 हजार से ज्यादा अनुयायी बताए जाते है।

Similar News
जेल में गए बाबा, अब कौन संभालेगा उनकी अरबों की विरासत ?

जेल में गए बाबा, अब कौन संभालेगा उनकी अरबों की विरासत ?

1000 रुपये, फ्री का खाना देकर भाड़े पर लाए गए थे राम रहीम के गुंडे

1000 रुपये, फ्री का खाना देकर भाड़े पर लाए गए थे राम रहीम के गुंडे

राम-रहीम पर फैसला आज, चार जिलों में स्कूल-कॉलेज और दफ्तर बंद

राम-रहीम पर फैसला आज, चार जिलों में स्कूल-कॉलेज और दफ्तर बंद

राम रहीम को सजा सुनाने हेलीकॉप्टर से रोहतक जेल पहुंचेंगे जज

राम रहीम को सजा सुनाने हेलीकॉप्टर से रोहतक जेल पहुंचेंगे जज

10वीं में फेल हुए थे बाबा, लड़की छेड़ा तो स्कूल से निकाल दिया गया

10वीं में फेल हुए थे बाबा, लड़की छेड़ा तो स्कूल से निकाल दिया गया

FOLLOW US ON