•  15°C  Mist
Dainik Bhaskar Hindi

Home » National » BJP is at the forefront of raising fund from corporate and industrial houses

BJP कार्पोरेट और औद्योगिक घरानों से फंड जुटाने में सबसे आगे

BhaskarHindi.com | Last Modified - August 18th, 2017 17:01 IST

BJP कार्पोरेट और औद्योगिक घरानों से फंड जुटाने में सबसे आगे

डिजिटल डेस्क,नई दिल्ली। देश की सबसे बड़ी राजनीतिक पार्टी है बीजेपी। इसके कार्यकर्ता, नेता और फॉलोअर्स भी सबसे ज्यादा हैं। साथ ही बीजेपी को बाहरी पार्टियों का सपोर्ट भी सबस ज्यादा है। लेकिन आप नहीं जानते होंगे की बीजेपी फंड जमा करने भी सबसे आगे है। ये खुलासा हुआ है एसोसिएशन फॉर डेमोक्रेटिक रिफॉर्म्स (ADR) की एक रिपोर्ट में। रिपोर्ट के मुताबिक सत्ताधारी बीजेपी को कॉर्पोरेट और औद्योगिक घरानों भी सबसे ज्यादा पसंद करते हैं और बीजेपी इनसे फंड जुटाने में सबसे आगे है।

ADR के मुताबिक पिछले कुछ सालों में राजनीतिक पार्टियों में फंड की राशि में काफी उछाल आया हैं। लेकिन बीजेपी को फंड सबसे ज्यादा दिया गया है। ADR की रिपोर्ट के मुताबिक राष्ट्रीय राजनीतिक पार्टियों को 2013 से  2016 के बीच कॉर्पोरेट/व्यापारिक घरानों से इन चार सालों के दौरान साढ़े 9 सौ करोड़ रुपए का चंदा मिला है, जबकि इससे पहले 8 साल में 2004 से लेकर 2012 के दौरान ये आंकड़ा साढ़े 3 सौ करोड़ ही था। 

चुनाव वॉचडॉग संस्था ADR के मुताबिक बीजेपी को सबसे ज़्यादा 7 सौ करोड़ दान मिला, जबकि कांग्रेस को 2 सौ करोड़ दान में मिले। तीसरे नंबर पर शरद पवार की पार्टी NCP को 50 करोड़ रुपए मिले। रिपोर्ट में खुलासा हुआ है कि बीजेपी को 92% फंड कॉर्पोरेट से मिला है, जबकि कांग्रेस का 85% फंड कॉर्पोरेट से मिला है। वहीं सबसे ज्यादा फंड लोकसभा चुनाव 2014-15 के दौरान 573.18 करोड़ रुपए लिया गया।

ADR ने फंड के लिए 14 कैटेगिरीज बनाई हैं। जिसके तहत राजनीतिक पार्टी फंड कॉर्पोरेट और व्यापारिक घरानों से ले सकते हैं। इस रिपोर्ट में बीजेपी और कांग्रेस के अलावा एनसीपी, माकपा और भाकपा को शामिल किया गया है। बसपा हालांकि राष्ट्रीय पार्टी है लेकिन उसका कहना है कि इस अवधि में उसने किसी एक दानकर्ता से 20 हजार रुपए से ज्यादा का फंड नहीं लिया।

सुप्रीम कोर्ट बनाए हैं नियम

सुप्रीम कोर्ट ने 13 सितंबर 2013 को पार्टी फंड को लेकर फैसला किया था, जिसके मुताबिक 20 हजार रुपए से ज्यादा का चंदा देने वाले व्यक्ति या ऑर्गेनाइजेशन को अपना पैन नंबर देना अनिवार्य है। राजनीतिक दल के लिए ऐसे सभी चंदे का ब्यौरा चुनाव आयोग को देते समय इसके लिए निर्धारित फॉर्म 24ए की सभी प्रविष्टियां भरना जरूरी है।

loading...
Que.

क्या नोट बंदी के फैसले से अर्थव्यवस्था ख़राब हुई ?

Similar News
3 दिन के भोपाल दौरे पर अमित शाह, सीएम समेत मंत्रियों और नेताओं ने की अगवानी

3 दिन के भोपाल दौरे पर अमित शाह, सीएम समेत मंत्रियों और नेताओं ने की अगवानी

2014 का करिश्मा दोहराएंगे शाह ?

2014 का करिश्मा दोहराएंगे शाह ?

बंगाल में ममता का जादू बरकरार, कांग्रेस-लेफ्ट का सूपड़ा साफ, बीजेपी दूसरे नंबर पर

बंगाल में ममता का जादू बरकरार, कांग्रेस-लेफ्ट का सूपड़ा साफ, बीजेपी दूसरे नंबर पर

निकाय चुनाव : जैतवारा नगर पंचायत के अध्यक्ष पद पर भाजपा का कब्जा

निकाय चुनाव : जैतवारा नगर पंचायत के अध्यक्ष पद पर भाजपा का कब्जा

IAS की बेटी से छेड़छाड़ मामला, BJP नेता का बेटा विकास गिरफ्तार

IAS की बेटी से छेड़छाड़ मामला, BJP नेता का बेटा विकास गिरफ्तार

समाचार पर अपनी प्रतिक्रिया यहाँ दें l

एक नज़र इधर भी
loading...

FOLLOW US ON