Thursday, June 29, 2017
  • Follow us on:

@फादर्स डे विशेष : इन्होंने बच्चों की खातिर अपना कॅरियर छोड़ा


Dainik Bhaskar News Desk

Updated June 18, 2017 02:42 pm


1 / 5
टीम डिजिटल, भोपाल. अपने सपनों को छोड़कर बच्चों की खुशियों और उनके सपनों को सजाने वाले पैरेंट्स आपने अनेक देखे होंगे. लेकिन कुछ ऐसे भी पिता हैं जिन्होंने अपने बच्चों की खुशी की खातिर अपना कॅरियर, सपने सबकुछ दांव पर लगा दिया. फादर्स डे 18 जून के अवसर पर आज हम आपको कुछ ऐसे ही फादर्स से मिलाने जा रहे हैं...


बेटे ने किया सपना पूरा
परिवार की जिम्मेदारियां इतनी थीं कि टाॅपर होने के बाद भी बड़ा अफसर बनने का सपना अधूरा ही रह गया. लेकिन हिम्मत नहीं हारी बेटे के जन्म के बाद उसके लिए मेहनत की. जयप्रकाश नगर निवासी आईएएस अफसर नितिश्वर सिंह के पिता राम प्रसाद सिंह का. ये बताते हैं एक दिन बेटा बिना बताए दिल्ली चला गया. उसके दोस्तों से इस बारे में खबर मिली. बेटा बोला पढ़ाई करने गया है फिर मैंने उसे अपने दूसरे खर्चों में कटौती कर पैसे भेजना शुरु किया. घर की हालत बहुत खराब थी, लेकिन बेटे को अफसर बनाना ही एकमात्र सपना था. मेरी मेहनत उस दिन रंग लाई जब नितिश्वर आईएएस के लिए चुन लिया गया.


ट्रेंडिंग न्यूज़