Dainik Bhaskar Hindi

मलेशिया: इस्लामी स्कूल में लगी आग, 23 बच्चों समेत 2 वॉर्डन की मौत

मलेशिया: इस्लामी स्कूल में लगी आग, 23 बच्चों समेत 2 वॉर्डन की मौत

डिजिटल डेस्क, कुआलालंपुर। मलेशिया की राजधानी कुआलालंपुर में गुरुवार की सुबह कहर बनकर आई। राजधानी के एकदम बीचों-बीच स्थित एक इस्लामी स्कूल में अचानक आग लग गई, जिस वजह से  23 बच्चों की मौत हो गई। इसके साथ ही 2 वॉर्डन की भी इस हादसे में मौत की खबर है। जिस स्कूल में आग लगी वो स्कूल कुआलालंपुर के जालान दातुक केरामत इलाके में आता है और इस स्कूल का नाम तहफीज दारूल कुरान इत्तिफाकिया है। बताया जा रहा है कि जिस वक्त स्कूल में आग लगी, उस समय बच्चे सो रहे थे। 

20 साल बाद हुआ ऐसा हादसा

आग पर काबू करने गई मलेशिया की फायर एंड रेस्क्यू टीम के डायरेक्टर खिरुदीन दरमन ने मीडिया से बात करते हुए बताया कि इस हादसे में अभी तक 25 लोगों के मरने की खबर है, जिनमें 23 बच्चे और 2 वॉर्डन शामिल हैं। दरमन का कहना है कि 'मुझे लगता है कि 20 सालों के अंदर मलेशिया में कोई भी इतना बड़ा हादसा नहीं हुआ है।' उन्होंने बताया कि अभी तक आग कैसे लगी, इस बारे में कोई जानकारी नहीं है। हालांकि आग लगने के कारणों का पता लगाया जा रहा है। 

बच्चों को ले जाया गया हॉस्पिटल

अग लगने के बाद रेस्क्यू टीम बच्चों को तुरंत बाद बच्चों को हॉस्पिटल ले जाया जा रहा है। माना जा रहा है कि आग के बाद उठे धुंए की वजह से बच्चों का दम घुटने लगा, जिससे उनकी जान चली गई। हालांकि अभी ये नहीं पता चल सका है कि मरने वालों की उम्र कितनी है। रेस्क्यू टीम का कहना है कि जैसे ही उन्हें स्कूल में आग लगने की जानकारी मिली वो तुरंत यहां आ गए। ये भी कहा जा रहा है कि तीन फ्लोर के इस स्कूल के टॉप फ्लोर में अभी भी आग लगी हुई है। इसी फ्लोर पर सुबह की नमाज अदा की जाती थी। 

Similar News
मलेशिया: इस्लामी स्कूल में लगी आग, 23 बच्चों समेत 2 वॉर्डन की मौत

मलेशिया: इस्लामी स्कूल में लगी आग, 23 बच्चों समेत 2 वॉर्डन की मौत

अब नासिक बना नवजातों के लिए कब्रगाह, 1 महीने में 55 बच्चों की मौत

अब नासिक बना नवजातों के लिए कब्रगाह, 1 महीने में 55 बच्चों की मौत

गोरखपुर के बाद अब फर्रुखाबाद में 49 बच्चों की मौत

गोरखपुर के बाद अब फर्रुखाबाद में 49 बच्चों की मौत

गोरखपुर के BRD अस्पताल में महीनेभर में 290 बच्चों की मौत

गोरखपुर के BRD अस्पताल में महीनेभर में 290 बच्चों की मौत

LIFE STYLE

FOLLOW US ON