•  16.8°C  Partly cloudy
Dainik Bhaskar Hindi

Home » City » government efforts is effortless against Malnutrition

शिशु मृत्यु दर : सरकारी कोशिशों पर कुपोषण भारी

BhaskarHindi.com | Last Modified - September 07th, 2017 19:25 IST

शिशु मृत्यु दर : सरकारी कोशिशों पर कुपोषण भारी

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। शिशु मृत्यु दर पर प्रभावी रोकथाम की सरकारी कोशिशों पर कुपोषण पानी फेर रहा है। हालात यह हैं कि जबलपुर समेत आसपास के 12 जिलों में अति कुपोषित बच्चों की संख्या 18 हजार तथा कुपोषितों की संख्या पौने 2 लाख के आंकड़े को पार कर चुकी है। जबकि इन जिलों में कुपोषण की रोकथाम के लिये करोड़ों रुपए पानी की तरह बहाये जा रहे हैं। जानकारों का कहना है कि महिला को गर्भावस्था में पोषण आहार न मिलने तथा नवजात शिशु के खानपान में लापरवाही की वजह से प्रदेश में कुपोषण पर जीत नहीं मिल पा रही है। हालांकि सरकार द्वारा गर्भवती महिलाओं की गोद भराई से लेकर प्रसूति तक की सुविधाएं उपलब्ध कराई गई हैं।  

कटनी में सबसे ज्यादा कुपोषित 
कटनी में सर्वाधिक 2635 अति कुपोषित बच्चे चिन्हित किये गए हैं। जबलपुर संभाग के छिंदवाड़ा में 2474, दमोह 1780, मंडला 1371, डिंडौरी 1188, नरसिंहपुर 1501, बालाघाट 1041 तथा सिवनी में अति कुपोषित बच्चों की संख्या 1112 पहुंच चुकी है। शहडोल संभागीय मुख्यालय के अनूपपुर में तो कुपोषण से एक बच्चे की मौत तक हो चुकी है। अनूपपुर जिले मेे 1691 उमरिया में 1511 तथा संभागीय मुख्यालय शहडोल में अतिकुपोषित बच्चों का आंकड़ा 1682 है।

पोषण पुनर्वास केन्द्र बने सहारा 
कुपोषित बच्चों के लिये पोषण पुनर्वास केन्द्र सहारा बने हैं। इन 12 जिलों में संचालित 50 से अधिक केन्द्रों में कुपोषित बच्चों को भर्ती कर इलाज किया जाता है। उक्त जिलों में करीब 20 हजार आंगनबाड़ी केन्द्र हैं जहां लाखों बच्चे दर्ज हैं।

मृत्यु दर पर एक नजर 
प्रदेश में पांच वर्ष से छोटे बच्चों की बाल मृत्यु एवं एक वर्ष से छोटे बच्चों की शिशु मृत्यु एवं एक माह से छोटे बच्चों की नवजात शिशु मृत्यु दर के आंकड़े न सिर्फ चौंकाने वाले बल्कि  राष्ट्रीय औसत से ज्यादा हैं। नवजात शिशु मृत्यु दर का राष्ट्रीय औसत 26 एवं प्रदेश में 35 है। शिशु मृत्यु दर का राष्ट्रीय औसत 39 जबकि प्रदेश में 52 है। पांच वर्ष से छोटे बच्चों की मृत्यु का राष्ट्रीय औसत 45 जबकि प्रदेश में 65 है। 

कहां कितने कुपोषित
जिला        कुपोषित बच्चे
छिंदवाड़ा -   30,000        
मंडला     -   16207         
डिण्डौरी  -    9325            
नरसिंहपुर-  18000        

कटनी     -   24070             
बालाघाट -   24287         
सिवनी    -   16835  
शहडोल  -   21180      
अनूपपुर  -   22734      
उमरिया  -    2156        
दमोह     -    3539    
 

loading...
Que.

क्या नोट बंदी के फैसले से अर्थव्यवस्था ख़राब हुई ?

Similar News
रेकी कर पेट्रोल पंप संचालक से लूट, 2 लाख लेकर फरार हुए आरोपी

रेकी कर पेट्रोल पंप संचालक से लूट, 2 लाख लेकर फरार हुए आरोपी

जबलपुर के दो गांव मंडला में शामिल करने विधायक का सीएम को खत

जबलपुर के दो गांव मंडला में शामिल करने विधायक का सीएम को खत

अब 26 नहीं 32 करोड़ में बनेगी घमापुर-रांझी फोरलेन, दोबारा तैयार होगा प्रस्ताव

अब 26 नहीं 32 करोड़ में बनेगी घमापुर-रांझी फोरलेन, दोबारा तैयार होगा प्रस्ताव

मुरैना में बनेगी 'अग्नि मिसाइल', अधर में लटक जाएगा जबलपुर डिफेंस क्लस्टर

मुरैना में बनेगी 'अग्नि मिसाइल', अधर में लटक जाएगा जबलपुर डिफेंस क्लस्टर

स्वाइन फ्लू का प्रकोप : एक की मौत, दो मरीजों के सेंपल पॉजिटिव

स्वाइन फ्लू का प्रकोप : एक की मौत, दो मरीजों के सेंपल पॉजिटिव

समाचार पर अपनी प्रतिक्रिया यहाँ दें l

FOLLOW US ON