Dainik Bhaskar Hindi

बेंगलुरू रिजॉर्ट में कांग्रेस के विधायकों को कराये जा रहे हैं 'तिरुपति बालाजी' के दर्शन

बेंगलुरू रिजॉर्ट में कांग्रेस के विधायकों को कराये जा रहे हैं 'तिरुपति बालाजी' के दर्शन

डिजिटल डेस्क,नई दिल्ली। गुजरात में कांग्रेस के विधायकों को इस्तीफा देने से रोकने के लिए सरकार ने सभी विधायकों को बेंगलुरु के गोल्फ कोर्स रिजॉर्ट में भेज दिया है ।इतना ही नहीं तमाम विधायकों से उनके मोबाइल फोन तक ले लिए गए हैं, ताकि वे किसी के साथ कांटेक्ट में न रहें। बताया जा रहा है कि कांग्रेस की योजना है सभी विधायकों को 7 अगस्त तक वहीं रखने की है। और  8 अगस्त की सुबह सभी विधायक अहमदाबाद पहुंचेंगे और वहां से सीधे गांधीनगर जाकर राज्यसभा चुनाव के लिए वोट डालेंगे। गुजरात कांग्रेस में वरिष्ठ नेता वाघेला के कारण फूट पड़ गई है। जिसे पार्टी के वरिष्ठ नेता अहमद पटेल की राज्यसभा उम्मीदवारी संकट में नजर आ रही है।

गौरतलब है कि बेंगलुरु में विधायकों के माइंड को डाइवर्ट करने के लिए पार्टी कई प्रोग्राम बना रही है। रविवार को सभी विधायकों को तिरुपति बालाजी के दर्शन कराने ले जाया जायेगा। सूत्रों के अनुसार बताया गया कि तमाम विधायक तिरुपति के दर्शन कर भगवान से गुजरात को बाढ़ के प्रकोप से बचाने के लिए प्रार्थना करेंगे। इसी के ही साथ आने वाले दिनों में इनके लिए बहुत से प्रोग्रामों का आयोजन किया जायेगा। 

बेंगलुरू ट्रिप से थमा इस्तीफों का दौर
 गुजरात से विधायकों को दूर ले जाने का फायदा हुआ है अब इस्तीफों का सिलसिला थमता नजर आ रहा है। कांग्रेस के एक विधायक व सीनियर नेता सीके राउल के इस्तीफे की अटकलें लगाइ जा रही थी। माना जा रहा था कि वह शनिवार को कांग्रेस से इस्तीफा दे देंगे। बताया जा रहा है कि उन्होंने यह कहते हुए इस्तीफा नहीं दिया कि पहले वो अपने कार्यकर्ताओं से बात करेंगे, तभी वह कोई फैसला लेंगे। राउल शंकर सिंह वाघेला के बेहद करीबी हैं, और उनके मंत्रिमंडल में भी रह चुके हैं। वाघेला के बेटे महेंद्र सिंह ने भी अपना टर्म पूरा न होने तक इस्तीफा न देने का फैसला लिया है। इस बीच, वाघेला ने सफाई दी है कि इस्तीफों में उनका हाथ नहीं है। 

LIFE STYLE

FOLLOW US ON