•  19°C  Mist
Dainik Bhaskar Hindi

Home » City » high voltage drama when lover reached court for marriage

लड़का-लड़की कोर्ट मैरिज को राजी, मां बोलीं - यह शादी नहीं हो सकती

BhaskarHindi.com | Last Modified - September 13th, 2017 12:36 IST

लड़का-लड़की कोर्ट मैरिज को राजी, मां बोलीं - यह शादी नहीं हो सकती

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। 90 के दशक में किसी हिन्दी फिल्म में जैसे हीरो-हिरोइन के प्रेम के बीच नायिका के परिजन दीवार बनकर खड़े रहते थे, एेसा ही कुछ नजारा मंगलवार को कलेक्ट्रेट में देखने को मिला। जहां शादी के लिए राजी लड़का-लड़की का विवाह रुकवाने युवती की मां अन्य परिजनों के साथ पहुंच गई और हंगामा शुरु कर दिया। लड़की की मां ने यह कहते हुए आपत्ति दर्ज करवाई की लड़का दिखने में अच्छा नहीं है। काफी देर तक चले हाईवोल्टेज ड्रामे का अंत भी आखिर रुपहले पर्दे पर पेश होने वाली अनगिनत लव स्टोरी की तरह ही हुआ, जब मैरेज रजिस्ट्रार ने दो प्रेमियों की प्रेम को सरकारी मान्यता देते हुए उनकी शादी पर मुहर लगा दी। 
             

 कछयाना मोहल्ला द्वारका नगर निवासी 23 वर्षीय साहिल जेठवानी और लालमाटी निवासी 20 वर्षीय निशा धमोजा ने अपर कलेक्टर कोर्ट में शादी का आवेदन दिया था। आवेदन स्वीकृत होने के बाद नियमानुसार लड़का व लड़की के परिजनों काे दावे आपत्ति पेश करने के लिए नोटिस भेजा गया। प्रेमियों की शादी में लड़के के परिजन तो उसके फैसले से सहमत थे, लेकिन लड़की के परिजनों ने विवाह पर आपत्ति दर्ज करवा दी। लड़की की मां ने कई बार एडीएम कोर्ट पहुंचकर शादी रुकवाने की कोशिश की। युवती की मां का कहना था कि वह अपनी बेटी की शादी साहिल से इसलिए नहीं कराना चाहती, क्योंकि वह दिखने में अच्छा नहीं है। इसी तर्क को साधाते हुए युवती की मां ने मंगलवार को भी शादी रुकवाने की कोशिश की। आखिकार लड़का और लड़की की अापसी रजामंदी और दोनों के बालिग होने के कारण एडीएम आनंद कोपरिहा ने उनकी शादी पर मोहर लगा दी। 

बुलाना पड़ी पुलिस
शादी रुकवाने पहुंचे लड़की के परिजनों ने कार्यालय में जमकर हंगामा मचाया। परिजनों ने हर वो तर्क और तरकीब अपनाई जिससे वे किसी भी तरह शादी रुकवा दें। नौबत छीना-झपटी तक पहुंच गई। जब हालात बिगड़ते दिखे तो पुलिस बल बुलाया गया। तब कहीं जाकर मामला शांत हो पाया। 

हर आपत्ति खारिज
लड़की के परिजनों ने पहले तो लड़के की शक्ल-सूरत का हवाला देकर अपनी आपत्ति दर्ज करवाई। यह नहीं चला तो परिजन कहने लगे इनकी शादी तो मंदिर में हो गई है, फिर यहां शादी क्यों हो। इसका जवाब भी प्रेमी जोड़े ने यह कहते हुए दिया कि मंदिर में सिर्फ माला पहनाकर शादी की है और अब वे रजिस्टर्ड मैरिज करने आए हैं। युगल की इस बात का खंडन भी परिजनों को भारी पड़ा। एडीएम ने समझाया कि शादी के लिए इस तरह की आपत्तियां नहीं चलती। जब लड़का और लड़की एक दूसरे को पसंद करते हैं और दोनों ही राजी हैं तो इसमें कोई कुछ नहीं कर सकता।

loading...
Que.

क्या नोट बंदी के फैसले से अर्थव्यवस्था ख़राब हुई ?

Similar News
गायत्री परिवार के प्रमुख प्रणव पण्डया 16 को जबलपुर प्रवास पर

गायत्री परिवार के प्रमुख प्रणव पण्डया 16 को जबलपुर प्रवास पर

नो एंट्री में ट्रक रोकने पर कांस्टेबल से की हाथापाई, वर्दी भी फाड़ी

नो एंट्री में ट्रक रोकने पर कांस्टेबल से की हाथापाई, वर्दी भी फाड़ी

मामूली विवाद में भाजपा नेता पर चाकू से हमला, आरोपी फरार

मामूली विवाद में भाजपा नेता पर चाकू से हमला, आरोपी फरार

टेमीफ्लू के लिए भटकता रहा युवक, निजी अस्पताल ने किया इलाज से इंकार

टेमीफ्लू के लिए भटकता रहा युवक, निजी अस्पताल ने किया इलाज से इंकार

समाचार पर अपनी प्रतिक्रिया यहाँ दें l

एक नज़र इधर भी
loading...

FOLLOW US ON