Dainik Bhaskar Hindi

यहां बगैर शिक्षक होती है पढ़ाई, आलम ये है कि...

यहां बगैर शिक्षक होती है पढ़ाई, आलम ये है कि...

डिजिटल डेस्क, शहडोल। जनपद पंचायत सोहागपुर अंतर्गत ग्राम पंचायत अरझुला स्थित हायर सेकेंडरी स्कूल घोर अव्यवस्था का शिकार है। विद्यालय में कक्षा 9 से 12 वीं तक 153 छात्र-छात्राएं दर्ज हैं। एक प्राचार्य सहित कुल तीन शिक्षक पदस्थ हैं। प्राचार्य एक महीने से अवकाश पर हैं। कुछ दिनों से एक और शिक्षक छुट्टी पर चली गईं। बचे एक मात्र शिक्षक शासकीय कार्य की ऑन लाइन फीडिंग कराने चले गए। इस प्रकार की स्थिति आए दिन बनी रहती है। आलम यह है कि इस सत्र की पढ़ाई तक अभी प्रारंभ नहीं हो सकी है।

जानकारी के अनुसार प्रिंसिपल ममता दबे प्रवेश उत्सव के बाद करीब पिछले 1 माह से स्कूल नहीं आ रही हैं, तो दूसरी मैडम 3 दिन से छुट्टी पर हैं। वही एक शिक्षक विद्यालय संबंधित कुछ जानकारी फीडिंग के लिए गए थे। छात्रों को बैठने के लिए 3 कमरे हैं। जिसमें 11वीं और 12वीं के छात्र एक साथ बैठते हैं। 9वीं और 10वीं के छात्र अलग-अलग बैठते हैं। विद्यालय आबादी क्षेत्र से दूर एकांत में होने के कारण शिक्षक मनमानी चलाते हैं। शिक्षक आए दिन स्कूल से नदारद रहते हैं। बचाव के लिए छुट्टी का आवेदक पत्र बिना दिनांक डाले चपरासी के पास छोड़कर चले जाते हैं। ऐसे हालातों को देखकर अभिभावकों में चिंता है।

तीन बजे पहुंचे और छुट्टी करा दी

बुधवार को दोपहर एक बजे तक एक भी शिक्षक में उपस्थित नहीं थे। बच्चे बाहर इधर-उधर खेल रहे थे। करीब 3 बजे शिक्षक पाठक आए और मुझे काम करना है, का हवाला देकर स्कूल की छुट्टी कर दी। छात्रों ने बताया कि यह आज भर की बात नहीं है। जब से स्कूल शुरु हुआ है यही स्थिति रहती है। कोई भी कक्षा नियमित रूप से नहीं लग पाती। कक्षा में बैठकर अपने मन से कुछ भी पढ़ते रहते हैं।

पढ़ाई हो रही है प्रभावित

कक्षा नवमी से बारहवीं तक में करीब डेढ़ सौ छात्रों पर 2 शिक्षक हैं, जिसमें गणित, इंग्लिश व राजनीतिक विज्ञान के पढ़ाई की जाती है। अभी कुछ चैप्टर ही पढ़ाई गई है, बाकी विषयों की किताब खुली तक नहीं हैं। स्कूल खुले एक माह से भी ज्यादा समय बीत चुका है और अभी तक पढाई शुरू नहीं हुआ है। छात्रों ने बताया कि कुछ दिनों बाद मासिक टेस्ट परीक्षा होना है और पढ़ाई शून्य हैं ऐसे में हम परीक्षा में क्या लिखेंगे। विषयवार शिक्षक व रोज-रोज देर से स्कूल आ रहे शिक्षकों के कारण छात्रों की पढ़ाई प्रभावित हो रही है।

यह भी है समस्या

छात्रों ने बताया कि बीते वर्ष दिए गए परीक्षा की अंकसूची अभी तक नहीं मिली है। वहीं पढ़ाई के अभाव में कुछ छात्र दूसरे स्कूल में प्रवेश के लिए टीसी मांगने पर शिक्षकों द्वारा डांट-फटकार कर चुप करा दिया जाता है। छात्रों के अनुसार विद्यालय से मिलने वाली पुस्तकों का आज तक वितरण नहीं हुआ है, इसके लिए छात्रों ने विद्यालय के प्रिंसिपल को जिम्मेदार ठहराया है। शंकुल प्रभारी दीपक निगम ने कहा कि प्राचार्य छुट्टी पर हैं यह सही है। विद्यालय में समस्या तो है, जिससे वरिष्ठ अधिकारियों को अवगत करा दिया गया है।

Most Popular
LIFE STYLE

FOLLOW US ON