•  21.1°C  Partly cloudy
Dainik Bhaskar Hindi

Home » City » Horsele's Flight, Selection at Sports Academy Academy

हौसलों की उड़ान, अनाथ आश्रम की संतोषी का खेल अकादमी एकेडमी में चयन

BhaskarHindi.com | Last Modified - July 27th, 2017 15:56 IST

हौसलों की उड़ान, अनाथ आश्रम की संतोषी का खेल अकादमी एकेडमी में चयन

डिजिटल डेस्क, कटनी. शहर के अनाथालय में पली बढ़ी 16 साल की संतोषी ने अपने बुलंद हौसलों से न सिर्फ गरीबी और मजबूरी को हराया, ब्लकि राज्य खेल अकादमी में स्थान हासिल किया। दरअसल संतोषी के माता-पिता की एक हादसे में मौत हो गई थी, इसके बाद उसके नाना-नानी ने उसे और उसकी छोटी बहन को लिटिल स्टार फाउंडेशन की संस्था चिल्ड्रन होम को सौंप दिया था। जहां संतोषी ने पढ़ाई लिखाई के साथ कुछ अलग करने की भी सोची।

सेलिंग खेल में हुआ चयन

हिरवारा स्थित लिटिल स्टार फाउंडेशन के चिल्ड्रन होम में अपनी बहन के साथ रह रही संतोषी निषाद का चयन वर्ष 2017-18 के लिए मध्यप्रदेश राज्य वॉटर स्पोर्ट एकेडमी के अंतर्गत सेलिंग खेल के लिए किया गया है। संतोषी की प्रतिभा के आधार पर बोर्डिंग स्कीम के तहत सेलिंग खेल में चयनित होने वाली संतोषी जिले की पहली खिलाड़ी हैं। प्रदेश शासन मध्यप्रदेश राज्य खेल एकेडमी में संतोषी को उच्च स्तरीय प्रशिक्षण, आवास, भोजन, शिक्षा, किट की मुफ्त में सुविधा उपलब्ध करायेगी।

जन्मदिन पर तोहफा
लिटिल स्टार फाउंडेशन के चिल्ड्रन होम में रह रही संतोषी को यह खुशखबरी उसके 17वें जन्मदिन के ठीक एक दिन बाद 2 जुलाई को मिली। जब मध्यप्रदेश खेल एवं युवा कल्याण विभाग के संचालक उपेन्द्र जैन का उसके चयन से संबंधित पत्र लिटिल स्टार फाउंडेशन पहुंचा। लिटिल स्टार फाउंडेशन के संचालक डॉ. समीर चौधरी ने बताया कि वर्ष 2010 में स्टेशन में रहकर किसी तरह अपने परिवार का पालन पोषण करने वाले संतोषी के नाना एवं नानी ने संतोषी तथा उसकी बहन साधना को उनके हवाले यह कहकर दिया। संतोषी के नाना-नानी दोनों बालिकाओं को उनके बेहतर भविष्य के लिए इस माहौल से दूर रखना चाहते थे।

चिल्ड्रन होम की सहसंचालक डॉ. स्नेह चौधरी ने बताया कि संतोषी काफी मेहनती और लग्नशील है। वह चिल्ड्रन होम के हर काम में हाथ बटाती है तथा अन्य अनाथ बच्चों की देखरेख भी करती है। उन्होंने बताया कि संतोषी द्वारा खेल एवं युवक कल्याण विभाग द्वारा समय-समय पर लगाए गए प्रशिक्षण केन्द्रों में प्रशिक्षण लेकर बेहतर प्रदर्शन किया और जब खेल चुनने की बारी आई तो उसने सेलिंग जैसे साहसी खेल को चुना। उन्होंने बताया कि संतोषी के साथ-साथ उसकी बहन साधना भी इसी तरह लग्नशील है। लिटिल स्टार फाउंडेशन की संचालन समिति ने उसके सुनहरे भविष्य की कामना की गई है।

देश के लिए गोल्ड जीतना सपना

अपनी मेहनत के बलबूते मध्यप्रदेश राज्य खेल एकेडमी में सेलिंग खेल के लिए चयनित होने वाली संतोषी निषाद ने बातचीत में बताया कि उसका सपना इस खेल के लिए अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर देश का प्रतिनिधित्व कर देश के लिए गोल्ड मेडल जीतना है। साथ ही उसने अपनी इस उपलब्धि के लिए लिटिल स्टार फाउंडेशन का भी आभार जताया।

loading...
Que.

क्या नोट बंदी के फैसले से अर्थव्यवस्था ख़राब हुई ?

समाचार पर अपनी प्रतिक्रिया यहाँ दें l

FOLLOW US ON