•  20°C  Mist
Dainik Bhaskar Hindi

Home » City » Incredible specimen of art and culture is the caves of Chandrapur

कला और संस्कृति का नायाब नमूना है चंद्रपुर की गुफाएं

BhaskarHindi.com | Last Modified - September 08th, 2017 10:20 IST

डिजिटल डेस्क,चंद्रपुर। चंद्रपुर की प्राचीन धरोहर पुरातत्व कला का अद्भुत नमूना है।  महाकाली मंदिर और ताड़ोबा को यदि एकसाथ जोड़ दिया जाए तो चंद्रपुर जिले में पर्यटन दिलों को छूने वाला है। तहसील के देऊलवाड़ा, विंजासन, शहर के राका तालाब और गवराला के साथ ही बल्लारपुर तहसील के सास्ती व कोठारी, नागभीड़ तहसील के मोहाड़ी, कोरपना तहसील की कारवाही, जिवती की परमडोली, वरोरा की भटाला व मूल तहसील की जुनासूर्ला की 12 गुफाओं का महाराष्ट्र की नामी 1200 गुफाओं में समावेश है। भद्रावती तहसील की 5 गुफाओं में विंजासन गुफाएं पर्यटकों के आकर्षण का केंद्र हैं। इन्हें बौद्ध गुफाओं के नाम से पहचाना जाता है। यहां पर तीन गुफाएं हैं। इनका निर्माण पहली शताब्दी के सातवाहन काल में राजा विजय सातकर्णी द्वारा किए जाने की बात कही जाती है। यह गुफाएं दो चरणों में बनायी गई थीं। 

ऐतिहासिक तथ्यों के अनुसार हिनयान पंथ के अनुयायियों ने ध्यान व प्रार्थना सभागृह का निर्माण किया। महायान पंथ के अनुयायियों ने भगवान गौतम बुद्ध की भव्य प्रतिमा का निर्माण किया। यहां की अन्य गुफाओं में देऊलवाड़ा की दो गुफाएं सातवाहन काल में हिनयान पंथ के साधकों के जरिए निर्मित कराई जाने की बात कही जाती है। दूसरी गुफा लगभग 7वीं सदी में बनाई गई है। इसमें शंख लिपि को उकेरा गया है। राजा हर्षवर्धन के समय की लिपि भी यहां पर दिखाई देती है। राका तालाब व गवराला की गुफाएं 5 वीं सदी में राजे वाकाटक के कार्यकाल की बताई जाती हैं। इसमें विष्णु के नृसिंह अवतार उकेरे गए हैं। 

जिवती तहसील के परमडोली की गुफा जो कि शंकरलोधी के नाम से मशहूर है, यह प्रागैतिहासिक होकर कुछ ऊंचाई पर होने से लोगों ने यहां लकड़ी की सीढ़ी लगा रखी है। गुफा में शिवलिंग स्थापित है। 6वीं सदी में निर्मित वरोरा तहसील की भटाला की गुफा राष्ट्रकुटों के समय की है। यहां पर भी शिवलिंग है। बल्लारपुर के कोठारी की सातवाहन कालीन गुफाएं मानवनिर्मित है। दूसरी सास्ती की गुफाएं प्रागैतिहासिक होने के साथ ही दोनों रेतीलें पत्थरों को आकार देकर बनाई गई है। दोनों वर्धा नदी के किनारे ही स्थित हैं। कोरपना तहसील के कारवाही की गुफा नानक पठार के नाम से जानी जाती है। पहली शताब्दी में हिनयान पंथ के साधकों साधनागृह के रूप में इसका निर्माण किया था। नागभीड़ तहसील के मोहाड़ी की पांडव गुफाएं सातवाहन काल में बनाई गई हैं। इसमें दो प्रवेश द्वार हैं। इसे भी प्रार्थनागृह के रूप में इस्तेमाल किया जाता था। ऐसा माना जाता है कि मूल तहसील के जुनासूर्ला में दक्षिण छोर पर एक बड़े पत्थर के भीतर प्राकृतिक रूप से बने सभागृह जैसे स्थल को पहली सदी में उपयोग में लाया जाता था।

loading...
Que.

क्या नोट बंदी के फैसले से अर्थव्यवस्था ख़राब हुई ?

Similar News
ट्रिपल तलाक पर फैसले का कुछ इस अंदाज में स्वागत, देखें वीडियो

ट्रिपल तलाक पर फैसले का कुछ इस अंदाज में स्वागत, देखें वीडियो

100 गुलामों से बढ़ा समुदाय, भारत में यहां बसता है 'अफ्रीका'

100 गुलामों से बढ़ा समुदाय, भारत में यहां बसता है 'अफ्रीका'

लीडर हो तो ऐसा : बराक ओबामा के इस tweet ने रच दिया इतिहास

लीडर हो तो ऐसा : बराक ओबामा के इस tweet ने रच दिया इतिहास

इतिहास की किताब से 'मुगल' हुए गायब, 'शिवाजी' को जगह

इतिहास की किताब से 'मुगल' हुए गायब, 'शिवाजी' को जगह

MP के स्कूलों में '1962 युद्ध' का पढ़ाया जा रहा गलत इतिहास

MP के स्कूलों में '1962 युद्ध' का पढ़ाया जा रहा गलत इतिहास

क्या हुआ जब 12 अगस्त को नागपुर में भड़की अगस्त क्रांति की चिंगारी, जानिए वरिष्ठ इतिहासकार डॉ. शर्फुद्दीन साहिल से

क्या हुआ जब 12 अगस्त को नागपुर में भड़की अगस्त क्रांति की चिंगारी, जानिए वरिष्ठ इतिहासकार डॉ. शर्फुद्दीन साहिल से

यहां श्रीकृष्ण ने रखे थे कदम, इस बावड़ी में उनके घोड़े पीते थे पानी, जानिए इतिहास

यहां श्रीकृष्ण ने रखे थे कदम, इस बावड़ी में उनके घोड़े पीते थे पानी, जानिए इतिहास

श्रावण पुर्णिमा पर महबूबा मुफ्ती पहुंची रघुनाथ मंदिर

श्रावण पुर्णिमा पर महबूबा मुफ्ती पहुंची रघुनाथ मंदिर

कबड्डी देखना पसंद करता है इंडिया, 'प्रो-कबड्डी लीग' सीजन-5 में 59 फीसदी बढ़े फैंस

कबड्डी देखना पसंद करता है इंडिया, 'प्रो-कबड्डी लीग' सीजन-5 में 59 फीसदी बढ़े फैंस

जानिए क्या है पवनी के ऐतिहासिक किले की कहानी ?

जानिए क्या है पवनी के ऐतिहासिक किले की कहानी ?

अब हिस्टोरिकल सीरियल में नजर आने वाले हैं मोहित रैना

अब हिस्टोरिकल सीरियल में नजर आने वाले हैं मोहित रैना

देखरेख के अभाव में बदहाल हो रहीं चंदेल कालीन प्रतिमाएं

देखरेख के अभाव में बदहाल हो रहीं चंदेल कालीन प्रतिमाएं

हमारे जवानों ने रचा इतिहास, बिना ऑक्सीजन एवरेस्ट फतह 

हमारे जवानों ने रचा इतिहास, बिना ऑक्सीजन एवरेस्ट फतह 

इतिहासकारों का दावा- ईसा मसीह जैसा कोई शख्स कभी पैदा ही नहीं हुआ

इतिहासकारों का दावा- ईसा मसीह जैसा कोई शख्स कभी पैदा ही नहीं हुआ

चैंपियंस ट्रॉफी में उलटफेर, विश्व की बेहतरीन टीम को बांग्लादेश ने हराया

चैंपियंस ट्रॉफी में उलटफेर, विश्व की बेहतरीन टीम को बांग्लादेश ने हराया

चीन की धमकी- 1962 के युद्ध से सबक ले भारत

चीन की धमकी- 1962 के युद्ध से सबक ले भारत

इंडिया में पहली बार हुआ यूट्रस का सफल प्रत्यारोपण 

इंडिया में पहली बार हुआ यूट्रस का सफल प्रत्यारोपण 

जानिए महिमापुर की 'बावड़ी' का इतिहास

जानिए महिमापुर की 'बावड़ी' का इतिहास

वर्धा का 'लक्ष्मी नारायण मंदिर' जानिए इतिहास

वर्धा का 'लक्ष्मी नारायण मंदिर' जानिए इतिहास

झारखंड की राज्यपाल ने देखी अजंता की गुफाएं

झारखंड की राज्यपाल ने देखी अजंता की गुफाएं

वो देखने गए गुफा, फिर क्या हुआ ?

वो देखने गए गुफा, फिर क्या हुआ ?

मिताली ने रचा विश्व रिकॉर्ड, महिला क्रिकेट वनडे में खड़ा किया 6000 रनों का पहाड़

मिताली ने रचा विश्व रिकॉर्ड, महिला क्रिकेट वनडे में खड़ा किया 6000 रनों का पहाड़

आस्था और श्रद्धा का केंद्र 'राघादेवी', जानिए क्या है इतिहास ?

आस्था और श्रद्धा का केंद्र 'राघादेवी', जानिए क्या है इतिहास ?

वर्सोवा बीच सफाई अभियान के यें है हीरो

वर्सोवा बीच सफाई अभियान के यें है हीरो

समाचार पर अपनी प्रतिक्रिया यहाँ दें l

एक नज़र इधर भी
loading...

FOLLOW US ON