Dainik Bhaskar Hindi

आर्मी से हथियार लूटने पर अबु को आका ने दिया था 1 लाख इनाम, जानें पूरी कहानीं

आर्मी से हथियार लूटने पर अबु को आका ने दिया था 1 लाख इनाम, जानें पूरी कहानीं

 

डिजिटल डेस्क, श्रीनगर। मंगलवार तड़के भारतीय सेना को बड़ी सफलता हाथ लगी। सेना लश्कर-ए-तयैबा के चीफ कमांडर अबु दुजाना को मार गिराया है। अबु दुजाना को पांच महीने पहले लश्कर कमांडर अबु कासिम की मुठभेड़ में मौत के बाद चीफ कमांडर बनाया गया था। पिछले साल उधमुपर में सेना के काफिले पर हमले में भी वो शामिल था। दुजाना पर 8 लाख रुपए का इनाम घोषित किया गया था। वो हाल में हुई एक मुठभेड़ में बचकर भागा था। यहां हम आपको दुजाना की लाइफ के बारे में कुछ खास बातें बताने जा रहे हैं... 

रिपोर्ट्स के मुताबिक दुजाना को भारत में हमले के लिए पाकिस्तान से उसका आका सैफुल्ला साजिद निर्देश देता था। उसके आका ने भारतीय फौज से हथियार लूटने पर लश्कर कमांडर को एक लाख इनाम देने का भी ऐलान किया था।  

भारतीय सेना ने कश्मीर से आतंकियों का सफाया करने के लिए 'ऑपरेशन ऑलआउट' अभियान चलाया है। इसके तहत आतंकियों की एक लिस्ट तैयार की गई है। जिसके आधार पर अलग-अलग इलाकों में आतंकियों के खिलाफ सर्च ऑपरेशन कर उन्हें मारा जा रहा है। इस ऑपरेशन के जरिए अब कर करीब 100 आतंकियों को घाटी में मारा जा चुका है। 

कैसे ढेर हुआ दुजाना

सुबह 4 से 5 बजे के बीच सेना ने मुठभेड़ शुरू की। इसके बाद सेना और आतंकियों के बीच मुठभेड़ हुई। एक घर में दुजाना छिपा था। वहां से उसने करीब 4 घंटे तक एक भी गोली नहीं चलाई। लेकिन सेना को यकीन था की वो उसी घर में है और सेना ने घर को घेरे रखा।घंटो इनतेजार के बाद सेना ने उस घर को रॉकेट लॉन्चर दागा और आग लगा दी। दुजाना के अलावा एनकाउंटर में आरिफ ललहारी भी मारा गया है। 

दुजाना पहले सुरक्षाबलों को दे चुका था चकमा

19 जुलाई को भी सेना ने अबु दुजाना को घेरा था। पुलवामा के बंदेरपुरा गांव में सेना और एसओजी के जवानों ने अबु दुजाना को पकड़ने के लिए जाल बिछाया था। लेकिन दुजाना चकमा देकर फरार हो गया था। उससे पहले मई महीने में भी सुरक्षाबलों ने हकरीपोरा गांव में ही सुरक्षाबलों ने दुजाना की घेराबंदी की थी। उस दौरान गांववालों की पत्थरबाजी के बीच अबु दुजाना फरार होने में सफल रहा था।

FOLLOW US ON