Dainik Bhaskar Hindi

गौरक्षकों ने BJP नेता को भी नहीं बख्शा, बीजेपी सदस्य निकले इस्माइल

गौरक्षकों ने BJP नेता को भी नहीं बख्शा, बीजेपी सदस्य निकले इस्माइल

डिजिटल डेस्क,नागपुर। देश में अब हालात ये हो गए हैं कि गौमाता की भक्ति में अंधे गौरक्षक अब सत्ताधारी पार्टी के नेताओं तक को नहीं बख्श रहे हैं। दरअसल बुधवार को नागपुर के जलालखेड़ा में चार लोगों ने बीफ ले जाने की सदेंह में एक युवक की जमकर पीटाई कर दी थी। इसके बाद मामले ने तूल पकड़ लिया था, एक हिन्दी अखबार की रिर्पोट के अनुसार जिस शख्स की पिटाई की गई थी, वो कोई और नहीं बल्कि भारतीय जनता पार्टी के अल्पसंख्यक मोर्चा के सदस्य सलीम इस्माइल शाह थे।

इस घटना का वीडियो सामने आने के बाद मोरेश्वर तांडुलकर, अश्विन उइक, जनार्दन चौधरी और रामेश्वर तायवड़े को पुलिस ने गिरप्तार कर लिया है। पुलिस ने सभी आरोपियों पर “गंभीर रूप से चोट पहुंचाने” का मामला दर्ज किया है। सभी आरोपियों को पांच दिन की पुलिस हिरासत में भेज दिया गया है। नागपुर देहात के बीजेपी प्रमुख राजीव पोतदार ने घटना की निंदा की है। तांडुलकर एक स्थानीय निर्दलीय विधायक के लिए काम करता है। विधायक बच्चू कादू ने कहा कि तांडुलकर ने जो किया वो गलत है “लेकिन वो एक कार्यकर्ता हैं जिसने  कई अच्छे काम किए हैं।”

जलालखेड़ा थाने के पुलिस इंस्पेक्टर ने बताया कि कटोल के रहने वाले शाह अमनेर गांव से अपने घर लौट रहे थे। उनकी मोटरसाइकिल में 15 किलो मीट था। तभी चार लोगों ने उन्हें घेर लिया और बीफ ले जाने का आरोप लगाकर पीटने लगे। शाह को गंभीर चोट लगी है जिसके बाद उन्हे अस्पताल में भर्ती कराए गया था।” हालांकि शाह को घटना के अगले दिन गुरुवार (12 जुलाई) को तकलीफ की शिकायत पर अस्पताल ले जाया गया था। नागपुर देहात से पुलिस एसपी शैलेष बालकावड़े ने कहा कि शाह अभी सदमे में हैं और हम कोई जोखिम नहीं लेना चाहते इसलिए अभी उनकी चिकत्सकीय निगरानी की जा रही है। तिवारी के अनुसार शाह द्वारा ले जाए जा रहे मीट को फोरेंसिक लैब भेज दिया गया है ताकि जांच की जा सके कि वो बीफ था या नहीं। तिवारी के अनुसार शाह के खिलाफ किसी तरह का मामला दर्ज नहीं किया गया है। शाह कटोल में एक सामुदायिक कार्यक्रम के लिए मीट लेकर जा रहे थे।

Most Popular

FOLLOW US ON