•  19°C  Mist
Dainik Bhaskar Hindi

Home » Dharm » Navratri Fest. will start from 21st september in the year 2017

नवरात्र में ना करें ये गलतियां, पालकी में सवार होकर आ रही हैं मां 'जगदम्बा'

BhaskarHindi.com | Last Modified - September 14th, 2017 12:00 IST

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। भगवान भोलेनाथ, कृष्ण के बाद अब मां दुर्गा का माह शुरू हो रहा है। 21 सितंबर से नवरात्र प्रारंभ हो रहे हैं। इस इस दिन गुरुवार का संयोग है। विद्वानों का मानना है कि अगर नवरात्रि का की शुरूआत गुरुवार से होती है तो मां जगदम्बा पालकी में सवार होकर आती हैं। 

नवरात्रि में  देवी का पूजन और व्रत अधिक महत्व रखता है। मां जगदम्बा को अपने कठिन तप से प्रसन्न करने के लिए लोग तरह-तरह से व्रत धारण करते हैं, लेकिन इस दौरान कुछ ऐसी भी काम हैं, जो हमें नहीं करना चाहिए। अर्थात नवरात्र के दौरान इन्हें करने से व्रत खंडित हो सकता है या उसका फल प्राप्त नहीं होता।

1. यदि आप इस दौरान कलश की स्‍थापना करते हैं और अखंड ज्योति जला रहे हैं तो इस समय घर को खाली छोड़कर कहीं भी न जाएं।

2. इस बात का ध्यान रखें कि अखंड ज्योति चैबीसों घंटे जलती रहे। इसके बुझने पर आपका व्रत खंडित हो सकता है। इस बेहद अशुभ माना गया है। 

3. विष्‍णु पुराण के अनुसार मां दुर्गा के इन नौ दिनों में दोपहर के वक्त किसी भी स्थिति में सोना नहीं चाहिए। इससे व्रत का फल नहीं मिलता। 

4. इस दौरान बच्चों  का मुंडन करवाना शुभ होता है। नवरात्रि का व्रत रखने वालों को न ही अपने बाल कटवाने चाहिए और न ही शेविंग नहीं चाहिए।

5. यदि व्रत के लिए कोई संकल्प ले रखा है जैसे एक वक्त फलाहर, चप्पल ना पहनना, सिर्फ जल ग्रहण करना आदि तो उनका पालन अनिवार्य है, किंतु इसे शारीरिक सामर्थ्य के अनुसार ही धारण करें। 

loading...
Que.

क्या नोट बंदी के फैसले से अर्थव्यवस्था ख़राब हुई ?

Similar News
नवरात्र 2017ः इस मुहूर्त में करें कलश स्थापना, प्रसन्न होंगी 9 देवियां

नवरात्र 2017ः इस मुहूर्त में करें कलश स्थापना, प्रसन्न होंगी 9 देवियां

पांडवों ने कराया था इस मंदिर का निर्माण, दर्शन मात्र से दुख हो जाते है दूर

पांडवों ने कराया था इस मंदिर का निर्माण, दर्शन मात्र से दुख हो जाते है दूर

यहां पूजी जाती है भगवान शिव की पीठ, पढे़ं केदारनाथ मंदिर के रोचक FACTS

यहां पूजी जाती है भगवान शिव की पीठ, पढे़ं केदारनाथ मंदिर के रोचक FACTS

युगों का रहस्य, 3 दिन के लिए रजस्वला होती हैं ये देवी

युगों का रहस्य, 3 दिन के लिए रजस्वला होती हैं ये देवी

36 अंक है खास, सबसे शक्तिशाली साधना के लिए सिर्फ 3 दिन शेष

36 अंक है खास, सबसे शक्तिशाली साधना के लिए सिर्फ 3 दिन शेष

समाचार पर अपनी प्रतिक्रिया यहाँ दें l

एक नज़र इधर भी
loading...

FOLLOW US ON