Dainik Bhaskar Hindi

नीतीश ने गृह मंत्रालय रखा अपने पास, 28 मंत्रियों को मिले ये विभाग

डिजिटल डेस्क, पटना। बिहार में सीएम नीतीश कुमार की नई सरकार के 27 मंत्रियों ने शनिवार शाम को शपथ ग्रहण की है। इसके बाद नीतीश ने सभी विभागों को बांटते हुए गृह मंत्रालय, सामान्य प्रशासन, कार्मिक विभाग और अन्य जो किसी को नहीं मिले वे मंत्रालय अपने पास रख लिए। सुशील कुमार मोदी बिहार सरकार में डिप्टी सीएम पद समेत वित्त, व्यसायिक टैक्स, वन और आईटी विभाग के मंत्री बनाए गए।

इस मंत्रिमंडल में नीतीश ने 27 विधायकों को जगह दी है, जिसमें जदयू के 14 और बीजेपी के 12 सदस्य शामिल हैं। जबकि एक अन्य LJP पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष व रामविलास के भाई पशुपति कुमार पारस ने भी मंत्री पद की शपथ ली है। बिहार के राज्यपाल केसरीनाथ त्रिपाठी नए मंत्रियों को पद एवं गोपनीयता की शपथ दिलाई है।

नीतीश कैबिनेट में शामिल जेडीयू मंत्री

  • विजेंद्र प्रसाद यादव को नीतीश सरकार में ऊर्जा विभाग का मंत्री बनाया गया। वे सुपौल से जेडीयू विधायक है। पिछली सरकार में भी मंत्री थे।
  • राजीव रंजन सिंह उर्फ ललन सिंह को मिला जल संसाधन विभाग। ये लोकसभा और राज्यसभा सांसद रहे चुके हैं और नीतीश कुमार के बहुत करीबी हैं। नीतीश सरकार में पहले भी पीडब्ल्यूडी मंत्री थे।
  • श्रवण कुमार को ग्रामीण विकास, संसदीय कार्य मंत्री बनाया गया। श्रवण कुमार नालंदा से जेडीयू के विधायक हैं। पहले भी नीतीश सरकार में ग्रामीण विकास मंत्री रह चुके हैं।
  • जय कुमार सिंह को मिला उद्योग मंत्रालय। ये दिनारा से जदयू विधायक हैं। नीतीश सरकार में उद्योग मंत्री थे।
  • कृष्णनंदन प्रसाद वर्मा को नीतीश सरकार ने 'शिक्षा विभाग' की जिम्मेदारी दी है। घोसी से जेडीयू विधायक। महागठबंधन सरकार में PHED मंत्री थे।
  • महेश्वर हजारी को भवन निर्माण मंत्रालय की जिम्मेदारी सौंपी गई। ये कल्याणपुर से जेडीयू विधायक हैं। पहले नगर विकास व आवास मंत्री थे। रामविलास पासवान के रिश्तेदार हैं।
  • शैलेश कुमार ग्रामीण विकास विभाग के मंत्री बनाए गए। ये जमालपुर से जेडीयू विधायक हैं। महागठबंधन सरकार में ग्रामीण विकास मंत्री थे। एलजेपी को हराकर विधायक बने।
  • संतोष निराला को परिवहन मंत्रालय की कमान सौंपी गई। ये राजपुर (बक्सर) से जेडीयू विधायक। महागठबंधन सरकार में भी थे मंत्री। जेडीयू में दलित चेहरा। 2010 में पहली बार बने विधायक। SC/ST कल्याण मंत्री भी रह चुके हैं।
  • खुर्शीद उर्फ फिरोज़ अहमद ने ली शपथ। सिकटा से जेडीयू विधायक। महागठबंधन सरकार में भी थे मंत्री। बीजेपी को हराकर बने थे विधायक।
  • मदन सहनी को खाद्य एवं उपभोक्ता मंत्री बनाया गया। इससे पहले भी ये खाद्य एवं उपभोक्ता संरक्षण मंत्री रह चुके हैं। ये निषाद से जेडीयू में विधायक हैं।
  • कपिलदेव कामत को पंचायती राज मंत्री बनाया गया। ये बाबूबरही से विधायक हैं।
  • दिनेश चंद्र यादव को लघु सिंचाई, आपदा प्रबंधन विभाग सौंपे गए। ये सिमरी बख्तियारपुर से जेडीयू विधायक हैं।
  • रमेश ॠषिदेव को अनुसूचित जनजाति विभाग दिया गया। ये पार्टी में दलित समाज का चेहरा भी हैं।
  • कुमारी मंजू वर्मा को समाज कल्याण विभाग का मंत्री बनाया गया। ये चेरिया बरियारपुर से जेडीयू विधायक हैं। इससे पहले भी महागठबंधन सरकार में सामाजिक कल्याण मंत्रालय में मंत्री रह चुकी हैं।

नीतीश कैबिनेट में शामिल बीजेपी पार्टी के मंत्री

  •  नंदकिशोर यादव सड़क निर्माण मंत्री बनाए गए। इससे पहले भी वे पीडब्ल्यूडी, स्वास्थ और पर्यटन मंत्री रह चुके हैं। साथ ही जेपी आंदोलन में सक्रिय नेता थे।
  •  प्रेम कुमार को कृषि विभाग का मंत्री बनाया गया। ये अति पिछड़ा वर्ग से आते हैं। गया से बीजेपी के विधायक है। सात बार विधायक रह चुके हैं।
  •  राम नारायण मंडल को राजस्व मंत्री बनाया गया। ये बीजेपी के बांका से विधायक हैं। पार्टी के बिहार से वाइस प्रेसिडेंट भी हैं।
  •  सुरेश शर्मा को नगर विकास मंत्रालय की कमान सौंपी गई। ये मुजफ्फरपुर से बीजेपी विधायक हैं। 2010 में पहली बार बने थे विधायक।
  •  प्रमोद कुमार को पर्यटन मंत्रालय मिला है। ये पूर्वी चंपारण से बीजेपी विधायक हैं। एबीवीपी और आरएसएस भी जुड़े रहे हैं।
  •  मंगल पांडे को स्वास्थ्य मंत्री बनाया गया। शिमला से समय पर नहीं लौटने के कारण उन्हें बाद में देर शाम शपथ दिलाई गई।
  •  विनोद नारायण झा को PHED विभाग का मंत्री बनाया गया। बिहार बीजेपी के प्रवक्ता। बीजेपी से एमएलसी हैं।
  •  विजय कुमार सिन्हा को श्रम संसाधन विभाग का मंत्री बनाया गया। ये लखीसराय से बीजेपी विधायक हैं और पहली बार मंत्री बनाए गए।
  •  राणा रणधीर सिंह को सहकारिता मंत्री बनाया गया। ये मधुबन से बीजेपी विधायक हैं।
  •  विनोद कुमार सिंह को खान व भूतत्व मंत्रालय सौंपा गया। ये प्राणपुर से बीजेपी विधायक हैं।
  •  कृष्ण कुमार ॠषि को कला संस्कृति विभाग का मंत्री बनाया गया। ये बनमनखी से विधायक हैं। 
  •  बृजकिशोर बिंद को पिछड़ा एवं अतिपिछड़ा विभाग का मंत्री बनाया गया। बृजकिशोर चैनपुर से विधायक हैं।

रामविलास पासवान के भाई और उन्हीं की पार्टी लोक जनशक्ति पार्टी (एलजेपी) से विधायक पशुपति कुमार पारस को पशु एवं मत्स्य पालन विभाग का मंत्री बनाया गया। वहीं पूर्व मुख्यमंत्री जीतनराम मांझी और आरएलएसपी विधायक सधांशु शेखर को भी मंत्री बनाए जाने की चर्चा थी, लेकिन ऐंसा संभव नहीं हो सका। रालोसपा के उपेंद्र कुशवाह को भी कैबिनेट में जगह नहीं मिली है। वहीं इस कैबिनेट विस्तार के बाद शाम 7.30 बजे नए मंत्रिमंडल की बैठक होगी।

LIFE STYLE

FOLLOW US ON