Dainik Bhaskar Hindi

फादर टॉम को छुड़ाने के लिए कोई फिरौती नहीं दी : केन्द्र सरकार

फादर टॉम को छुड़ाने के लिए कोई फिरौती नहीं दी : केन्द्र सरकार

जिटल डेस्क, नई दिल्ली। केन्द्र सरकार ने IS के चंगुल से केरल के फादर टॉम को छुड़ाने में फिरौती देने के सवालों को सिरे से खारिज कर दिया है। बुधवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस में पूछे गए एक सवाल का जवाब देते हुए विदेश राज्य मंत्री वी के सिंह ने कहा कि फादर टॉम को IS आतंकियों से मुक्त कराने के लिए सरकार ने कोई फिरौती नही दी है। उन्होंने कहा कि यह काम बेहद शांति से और सावधानीपूर्वक किया गया है और हम खुश है कि हम उन्हें IS के चंगुल से छुड़वाने में कामयाब हुए।

गौरतलब है कि यमन में मार्च 2016 में किडनैप हुए 57 वर्षीय भारतीय पादरी फादर टॉम उझुन्नालिल को ओमान के विदेश मंत्रालय के हस्तक्षेप के बाद मंगलवार को IS आतंकियों के चंगुल से छुड़ा लिया गया। फादर टॉम को यमन के अदन में स्थित मदर टेरेसा के मिशनरीज ऑफ चैरिटी द्वारा संचालित एक वृद्धाश्रम से किडनैप किया गया था। भारतीय पादरी की रिहाई ओमान के सुल्तान कुबूस बिन अल सईद अल सईद के हस्तक्षेप के बाद संभव हुई है। फादर टॉम केरल में कोट्टायम जिले के रामापुरम के रहने वाले हैं। 

उल्लेखनीय है कि फादर के अपहरण के बाद एक वीडियो सामने आया था, जिसमें फादर ने भारत सरकार और पोप फ्रांसिस से मदद की गुहार की थी। उस वीडियो में उन्होंने शिकायत की थी, 'यदि मैं यूरोपीय पादरी होता तो मेरे अपहरण को ज्यादा गंभीरता से लिया गया होता और रिहाई के लिए विशेष प्रयास किए जाते। चूंकि मैं भारतीय हूं, इसलिए मेरे अपहरण को ज्यादा महत्व नहीं दिया गया।'

Similar News
यमन में IS के चंगुल से छुड़ाए गए केरल के फादर टॉम

यमन में IS के चंगुल से छुड़ाए गए केरल के फादर टॉम

3 साल में विदेशों में फंसे 80 हजार लोगों को निकाला : सुषमा स्वराज

3 साल में विदेशों में फंसे 80 हजार लोगों को निकाला : सुषमा स्वराज

एक बार फिर देश की बेटी ने लगाई सुषमा स्वराज से मदद की गुहार

एक बार फिर देश की बेटी ने लगाई सुषमा स्वराज से मदद की गुहार

पाकिस्तान क्यों नहीं चाहता अपने ही नागरिकों का भला : सुषमा स्वराज

पाकिस्तान क्यों नहीं चाहता अपने ही नागरिकों का भला : सुषमा स्वराज

भारतीय छात्र को कैलिफोर्निया में मारी गोली, सुषमा ने दूतावास से मांगी रिपोर्ट

भारतीय छात्र को कैलिफोर्निया में मारी गोली, सुषमा ने दूतावास से मांगी रिपोर्ट

LIFE STYLE

FOLLOW US ON