•  19°C  Mist
Dainik Bhaskar Hindi

Home » City » Rats eating dead body in mortuary house of MAYO hospital nagpur

पोस्टमार्टम रूम में चूहे कुतर गए शव, देखते ही परिजनों के उड़े होश

BhaskarHindi.com | Last Modified - September 13th, 2017 22:52 IST

पोस्टमार्टम रूम में चूहे कुतर गए शव, देखते ही परिजनों के उड़े होश

डिजिटल डेस्क, नागपुर। इंदिरा गांधी शासकीय चिकित्सा महाविद्यालय एवं अस्पताल (मेयो) में बुधवार को एक बड़ी लापरवाही का भांडाफोड़ हुआ। पोस्टमार्टम रूम में रखा शव चूहों ने बुरी तरह कुतर दिया। जिससे मृतक का चेहरा इतना खराब हो गया कि शिनाख्त करने पहुंचे परिजन डर के मारे चिल्ला उठे। हैरानी की बात है कि ऐसी बड़ी लापरवाही पर फॉरेंसिक मेडिसिन विभाग प्रमुख डॉ. मकरंद व्यवहारे पर्दा डालते दिखाई दिए। उन्होंने इस घटना से साफ इनकार कर दिया। हालांकि मामले में चिकित्सा शिक्षा मंत्री गिरीश महाजन ने स्पष्ट कहा कि दोषियों को बख्शा नहीं जाएगा।

शव देखते ही परिजन के उड़े होश
मृतक के दोस्त प्रमोद जनबंधू के मुताबिक इंदौरा चौक निवासी मधुकर टेंभुर्णे फोटोग्राफी करता था। मंगलवार को उसने फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली थी। पुलिस ने शाम 6 बजे उसका शव मेयो में पोस्टमार्टम के लिए भेजा था। लेकिन जब बुधवार दोपहर 12 बजे परिजन शव लेने पहुंचते तो देखते ही उनके होश उड़ गए। 

बार-बार हुई लापरवाही
आपको बता दें यहां ऐसी घटनाएं पहले भी हो चुकी हैं। जिसका जमकर विरोध हुआ था। भारत लाल उर्फ आजाद साहू की मृत्यु 22 जुलाई 1999 को हुई थी। परिजन ने मृतक की इच्छा अनुसार उन्होंने बॉडी डोनेट कर दी। इसके बाद 5 अगस्त को जब अस्पताल पहुंचे, तो शव अस्त-व्यस्त हालात में मिला था। उसी दौरान तीन और शवों को चूहे कुतर गए थे, लेकिन अस्पताल प्रशासन पर कोई फर्क नहीं पड़ा।

loading...
Que.

क्या नोट बंदी के फैसले से अर्थव्यवस्था ख़राब हुई ?

Similar News
जिला अस्पताल खुद ही बीमार, मरीजों की जान से खिलवाड़ !

जिला अस्पताल खुद ही बीमार, मरीजों की जान से खिलवाड़ !

गरीब मरीजों के नि:शुल्क इलाज के लिए खुले निजी अस्पतालों के द्वार

गरीब मरीजों के नि:शुल्क इलाज के लिए खुले निजी अस्पतालों के द्वार

नाशिक के नवजात बच्चों की मौत के मामले में कठोर नियमावली : स्वास्थ्य मंत्री

नाशिक के नवजात बच्चों की मौत के मामले में कठोर नियमावली : स्वास्थ्य मंत्री

अब नासिक बना नवजातों के लिए कब्रगाह, 1 महीने में 55 बच्चों की मौत

अब नासिक बना नवजातों के लिए कब्रगाह, 1 महीने में 55 बच्चों की मौत

टेमीफ्लू के लिए भटकता रहा युवक, निजी अस्पताल ने किया इलाज से इंकार

टेमीफ्लू के लिए भटकता रहा युवक, निजी अस्पताल ने किया इलाज से इंकार

समाचार पर अपनी प्रतिक्रिया यहाँ दें l

एक नज़र इधर भी
loading...

FOLLOW US ON