•  26°C  Sunny
Dainik Bhaskar Hindi

Home » International » US pause military aid to Pakistan

आतंक पर अमेरिका की सख्ती, पाकिस्तान की सैन्य सहायता रोकी

BhaskarHindi.com | Last Modified - September 02nd, 2017 09:27 IST

आतंक पर अमेरिका की सख्ती, पाकिस्तान की सैन्य सहायता रोकी

डिजिटल डेस्क, वॉशिंगटन। अमेरिका ने आतंकवाद के खिलाफ पाकिस्तान पर कार्रवाई का दबाव और बढ़ाते हुए उसे मिलने वाली 255 मिलियन डॉलर की सैन्य सहायता शुक्रवार को रोक दी। अमेरिकी रक्षा सचिव जिम मैटिस ने कहा, ‘अमेरिका उस पाकिस्तान के साथ मिलकर काम करना चाहता है, जो एक जिम्मेदार देश की तरह आतंक का खात्मा करे।’

अमेरिकी विदेश मंत्रालय ने कांग्रेस को यह साफ कर दिया है कि वह पाकिस्तान को दी जाने वाली 255 मिलियन डॉलर की सैन्य सहायता को रोक रहा है। यह सहायता तब तक रुकी रहेगी, जब तक पाकिस्तान उन आतंकी गुटों के खिलाफ कार्रवाई नहीं करता, जो अफगानिस्तान के लिए खतरा बने हुए हैं। गौरतलब है कि अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने पिछले दिनों नई अफगान नीति में पाकिस्तान की ओर साफ इशारा किया था कि वह तालिबान को अपने यहां समर्थन दे रहा है। इसके बाद पाकिस्तान में इस बयान को लेकर तीखी प्रतिक्रिया हुई थी और अमेरिका का विरोध कर रही भीड़ को खदेड़ने के लिए पुलिस को आंसू गैस के गोले छोड़ने पड़े थे।

हक्कानी नेटवर्क और तालिबान पर ठोस कार्रवाई हो

अमेरिकी विदेश मंत्रालय के अधिकारियों ने कहा कि जब तक पाकिस्तान अपने यहां हक्कानी नेटवर्क और अन्य आतंकी समूह का सफाया करने के लिए ठोस कदम नहीं उठाएगा, तब तक उसे सैन्य सहायता नहीं दी जाएगी। हक्कानी नेटवर्क का अफगान तालिबान के साथ घनिष्ठ संबंध है, जो कि अफगानिस्तान के काबुल और अन्य इलाकों में हुए हाल के हमलों के लिए जिम्मेदार रहा है।

दबाव बढ़ाने के सिवा और कोई रास्ता नहीं 

हालांकि, ट्रंप प्रशासन के इस कदम को अमेरिकी रणनीतिकार उलझन भरी स्थिति मान रहे हैं। वॉशिंगटन में नियर ईस्ट पॉलिसी इंस्टीट्यूट के जानकार जिम जेफरिस का कहना है कि अमेरिका अभी भी यह तय नहीं कर पाया है कि उसे पाकिस्तान को गैर नाटो देशों के साझेदार देश के रूप में किस तरह से देखना चाहिए। यही नहीं, अमेरिकी रणनीतिकार भी अभी यह तय नहीं कर सके हैं कि उसे अफगानिस्तान में कितने सैनिकों को तैनात रखना चाहिए। जेफरिस का कहना है कि अमेरिकी कदम का विरोश करने के सिवा पाकिस्तान के पास और कोई विकल्प भी नहीं है। लेकिन उसे यह सोचना होगा कि मौजूदा हालात में ट्रंप प्रशासन भी पाकिस्तान पर दबाव और बढ़ाने के सिवा कुछ और कर नहीं सकता। 

loading...
Que.

क्या नोट बंदी के फैसले से अर्थव्यवस्था ख़राब हुई ?

Similar News
गोवा पहुंचा अमेरिकी पोत 'USS Pearl Harbor'

गोवा पहुंचा अमेरिकी पोत 'USS Pearl Harbor'

अमेरिका ने दो IS आतंकियों को 'ग्लोबल टेररिस्ट' घोषित किया

अमेरिका ने दो IS आतंकियों को 'ग्लोबल टेररिस्ट' घोषित किया

बेनकाब हुआ PAK, अंतरराष्ट्रीय आतंकी संगठन घोषित हुआ 'हिज्बुल मुजाहिदीन'

बेनकाब हुआ PAK, अंतरराष्ट्रीय आतंकी संगठन घोषित हुआ 'हिज्बुल मुजाहिदीन'

चीन के सामने एक ताकतवर देश की तरह पेश आ रहा है भारत : अमेरिकी रक्षा विशेषज्ञ

चीन के सामने एक ताकतवर देश की तरह पेश आ रहा है भारत : अमेरिकी रक्षा विशेषज्ञ

ट्रंप का इमिग्रेशन सिस्टम: अच्छी इंग्लिश जरूरी, अमेरिका में आसानी से नहीं मिलेगी JOB

ट्रंप का इमिग्रेशन सिस्टम: अच्छी इंग्लिश जरूरी, अमेरिका में आसानी से नहीं मिलेगी JOB

अमेरिका-रूस के रिश्तों में दरार, रूस ने 755 अमेरिकी राजनायिकों से कहा 'देश छोड़ें'

अमेरिका-रूस के रिश्तों में दरार, रूस ने 755 अमेरिकी राजनायिकों से कहा 'देश छोड़ें'

अब नॉर्थ कोरिया के 'बैलिस्टिक मिसाइल' की जद में कई अमेरिकी शहर

अब नॉर्थ कोरिया के 'बैलिस्टिक मिसाइल' की जद में कई अमेरिकी शहर

अमेरिका ने उत्तर कोरिया के खिलाफ सैन्य कार्रवाई की चेतावनी दी

अमेरिका ने उत्तर कोरिया के खिलाफ सैन्य कार्रवाई की चेतावनी दी

भारत से रक्षा सहयोग बढ़ाएगा अमेरिकी , 621.5 अरब डॉलर का विधेयक पारित

भारत से रक्षा सहयोग बढ़ाएगा अमेरिकी , 621.5 अरब डॉलर का विधेयक पारित

समाचार पर अपनी प्रतिक्रिया यहाँ दें l

एक नज़र इधर भी
loading...

FOLLOW US ON