दैनिक भास्कर हिंदी: धीमी गति से काम करने पर चीन की कंपनी का ठेका रद्द करेगी रेलवे

June 18th, 2020

हाईलाइट

  • धीमी प्रगति के कारण चीन की एक कंपनी का ठेका रद्द करने का निर्णय लिया है
  • यह ठेका 471 करोड़ रुपये का है। रेलवे ने कहा कि कंपनी को 2019 तक काम पूरा कर लेना था
  • लेकिन अभी तक वह सिर्फ 20 प्रतिशत ही काम कर पायी है

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। रेलवे ने कानपुर और मुगलसराय के बीच 417 किलोमीटर लंबे खंड पर सिग्नल व दूरसंचार के काम में धीमी प्रगति के कारण चीन की एक कंपनी का ठेका रद्द करने का निर्णय लिया है। मालगाड़ियों की आवाजाही के लिये समर्पित इस खंड 'ईस्टर्न डेडिकेटेड फ्रेट कॉरिडोर' के सिग्नल व दूरसंचार का काम रेलवे ने 2016 में चीन की कंपनी बीजिंग नेशनल रेलवे रिसर्च एंड डिजायन इंस्टीट्यूट को दिया था। 

यह ठेका 471 करोड़ रुपये का है। रेलवे ने कहा कि कंपनी को 2019 तक काम पूरा कर लेना था, लेकिन अभी तक वह सिर्फ 20 प्रतिशत ही काम कर पायी है।

उधर, कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी के सेना को लेकर पूछे गए सवाल पर विदेश मंत्रालय ने प्रतिक्रिया दी है। राहुल के सैनिकों को निहत्थे भेजे जाने की बात को सिरे से खारिज करते हुए विदेश मंत्री एस. जयशंकर ने कहा कि तथ्यों को ठीक से समझ लेना चाहिए। 

सैनिक पोस्ट छोड़ते ही हथियारों से लैस हो जाते हैं। गलवान घाटी में भी एक भी भारतीय सैनिक निहत्था नहीं था। हर सैनिक के पास हथियार थे, लेकिन समझौतों के मुताबिक वहां हथियारों का इस्तेमाल नहीं किया जाना था और नहीं किया गया। उन्होंने कहा, गतिरोध के वक्त हथियारों का इस्तेमाल नहीं करने की लंबी परंपरा (19966 और 2005 समझौतों के तहत) रही है।

खबरें और भी हैं...