comScore

Coronavirus: वायरस की चपेट में आया व्यापार, किसान फिर होंगे लाचार !

Coronavirus: वायरस की चपेट में आया व्यापार, किसान फिर होंगे लाचार !

हाईलाइट

  • कोरोना वायरस के कारण इंटरनेशनल मार्केट में मंदी
  • भारत में तमाम तेल-तिलहनों में मंदी है बरकरार

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। चीन में कोरोना वायरस का प्रकोप गहराने से दुनियाभर के बाजारों में मंदी का माहौल है, जिससे कृषि उत्पाद बाजार भी प्रभावित हुआ है। इसके चलते पाम तेल के दाम में आई भारी गिरावट से भारत में तमाम तेल-तिलहनों में मंदी छा गई है। ऐसे में किसानों की परेशानी बढ़ेगी क्योंकि रबी सीजन की फसल की आवक जोर पकड़ने पर उनको सरसों और अन्य तिलहन फसलों का उचित दाम नहीं मिल पाएगा।

बता दें कि चीन पाम तेल का प्रमुख आयातक है, लेकिन कोरोना वायरस फैलने के बाद चीन में उसके आयात पर काफी असर पड़ा है जिसके कारण पाम के प्रमुख उत्पादक देश मलेशिया और इंडोनेशिया में पाम तेल दाम में भारी गिरावट आई है। पाम तेल दुनिया में सबसे सस्ता तेल में शुमार है, लिहाजा इसका भाव घटने से अन्य खाद्य तेलों में भी नरमी बनी हुई है।

ये भी पढ़ें : कच्चे तेल पर कोरोना वायरस का कहर, 7 सप्ताह के निचले स्तर पर ब्रेंट क्रूड

तेलों के दाम में नरमी
भारत में पाम तेल के दाम में बीते एक महीने में करीब 10 रुपए प्रति किलो की गिरावट आई है। पाम तेल सस्ता होने से सरसों, सोयाबीन, मूंगफली समेत अन्य तेलों के दाम में भी नरमी का रुख बना हुआ है। मल्टी कमोडिटी एक्सचेंज (एमसीएक्स) पर पाम तेल का भाव एक महीने में जहां 824.4 रुपए प्रति 10 किलो तक चला गया था वहां गुरुवार को घटकर 723.5 रुपए प्रति 10 किलो पर आ गया।

सॉल्वेंट एक्सट्रैर्क्‍स एसोसिएशन के कार्यकारी निदेशक डॉ. बी. वी मेहता ने बताया कि इस समय दुनियाभर में खाद्य तेल के कारोबार में सुस्ती का मुख्य कारण कोरोना वायरस का प्रकोप है। इसके कारण चीन के आयात पर प्रतिकूल असर पड़ा है। उन्होंने कहा कि चीन खाने के तेल खासतौर से पाम तेल का एक बड़ा आयातक है, इसलिए चीन की खरीदारी प्रभावित होने से तेल-तिलहन बाजार में मंदी का माहौल है।

देश के कुछ बाजारों में सरसों की अगैती फसल की आवक अभी शुरू ही हुई है, लेकिन इसका दाम सरकार द्वारा तय न्यूनतम समर्थन मूल्य से नीचे चल रहा है। ऐसे में मार्च से जब सरसों की आवक जोर पकड़ेगी तब भाव और नीचे आ सकता है। डॉ. बी. वी. मेहता ने कहा, अगर यह स्थिति आगे भी बनी रहती है तो किसानों को रबी तिलहनों का वाजिब दाम दिलाने के लिए सरकार को एमएसपी पर खरीदारी की व्यवस्था करनी होगी।

ये भी पढ़ें : खाद्य तेल की महंगाई बेकाबू, एक महीने में 15 फीसदी बढ़ा पाम तेल का दाम

किसान होंगे परेशान !
डॉ. मेहता ने कहा कि चिंता इस बात की है कि अगर किसानों को तिलहन फसलों का अच्छा भाव नहीं मिलेगा तो इसकी खेती में उनकी दिलचस्पी कम होगी जिससे खाद्य तेल के मामले में भारत के आत्मनिर्भर बनने के लक्ष्य को हासिल करना मुश्किल हो जाएगा। उन्होंने बताया कि अंतर्राष्ट्रीय बाजार में पाम तेल का दाम करीब 100 डॉलर प्रति टन टूट गया है। उन्होंने कहा कि दाम के लिहाज से मूंगफली सोया तेल और सूर्यमुखी तेल से महंगा है जबकि पाम तेल सबसे सस्ता है, इसलिए इसमें गिरावट का असर सभी तेलों व तिलहनों पर पड़ा है।

कृषि उत्पादों का देश में सबसे बड़ा वायदा बाजार नेशनल कमोडिटी एंड डेरीवेटिव्स इंडेक्स (एनसीडीएक्स) पर सरसों के फरवरी महीने के वायदा भाव में बीते एक महीने में 400 रुपए प्रति क्विंटल की गिरावट आई है। एनसीडीएक्स पर सरसों का भाव एक महीने पहले 13 जनवरी को 4,490 रुपए प्रतिक्विंटल था जोकि गुरुवार को घटकर 4,039 रुपए प्रतिक्विंटल पर आ गया। सरकार ने चालू रबी सीजन के लिए सरसों का एमएसपी 4,425 रुपए प्रति क्विंटल तय किया है।

ये भी पढ़ें : मलेशिया से रिफाइंड पाम तेल आयात पर लगी रोक, घरेलू उद्योग को होगा फायदा

कमेंट करें
LZwJV