दैनिक भास्कर हिंदी: 108 एम्बुलेंस में नहीं प्राथमिक उपचार के लिए दवाईयां, ठेका कंपनी की लापरवाही

August 20th, 2017

डिजिटल डेस्क, मंडला। प्राथमिक उपचार के साथ त्वरित स्वास्थ्य सेवाएं उपलब्ध कराने के लिए चलाई जा रही 108 एम्बुलेंस घायल, मरीज और प्रसूता को सिर्फ हॉस्पिटल पहुंचाने के काम आ रही है। इन वाहनों में प्राथमिक उपचार के लिए दवाईयां उपलब्ध नहीं है। जिसके कारण मरीजों को प्राथमिक उपचार नहीं मिल पा रहा है। हॉस्पिटल आने तक उसकी हालत नाजुक हो रही है। इसको लेकर स्वास्थ्य विभाग का भी ध्यान नहीं है। 

मंडला जिला के थाना क्षेत्रों में 108 एम्बुलेंस का संचालन किया जा रहा है। यहां मंडला, महाराजपुर, नैनपुर, बीजाडांडी, निवास, नारायणगंज, मोहगांव, घुघरी, मवई, बिछिया, मोतीनाला में एम्बुलेंस चल रही है। यहां महाराजपुर से सर्वसुविधायुक्त एएलएस वाहन का संचालन किया गया है। लेकिन इस वाहन मे प्राथमिक उपचार के लिए मरहम पट्टी, दर्द के इंजेक्शन और प्रसव किट उपलब्ध नहीं कराई गई है। जिसके चलते इस वाहन में सिर्फ मरीजों को हॉस्पिटल तक पहुंचाने का काम हो रहा है। जिले की सभी 108 एम्बुलेंस में उपचार की कोई सुविधा नहीं थी। एक दिन पहले ही दवाईयां आई है। महाराजपुर के वाहन में दवाईयां न होने के कारण घायलों को हॉस्पिटल पहुंचाने से पहले, मरहम पट्टी नहीं हो पा रही है, जिससे रक्त स्त्राव नहीं रूकता। इससे मरीजों की हालत नाजुक हो रही है। ठेका कंपनी द्वारा लापरवाही बरती जा रही है और इसका खामियाजा गरीब मरीजों को उठाना पड़ रहा है। 

वाहन में लगा दिये पुराने उपकरण

ठेका जिगित्सा हेल्थ केयर को मिलने के बाद पांच वाहन बदले गए है और शेष वाहनों को भी बदला जाना है। महाराजपुर का वाहन बदल दिया गया है लेकिन इसमें पुराने उपकरण लगा दिए गए है। वेंटीलेटर और मॉनीटर पुराना ही है। यहां वाहन में नए उपकरण उपलब्ध नहीं कराए गए है। 

आधे वाहन खस्ताहाल

मंडला जिले में आधे वाहन खस्ताहाल चल रहे है। मंडला महाराजपुर, बिछिया, घुघरी और नारायणगंज को छोड़कर 6 वाहन जर्जर है। इससे मरीजों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। कंपनी को ठेका मिले हुए पांच माह से अधिक समय हो गया है लेकिन वाहन नहीं बदल पाए है। ठेका कंपनी द्वारा सुधार नहीं लाया जा रहा है। 

 

खबरें और भी हैं...