comScore

पिता की आत्मा की शांति के लिए सुपारी देकर कराई 70 वर्षीय बुजुर्ग की हत्या, दो सगे भाइयों समेत छह गिरफ्तार

पिता की आत्मा की शांति के लिए सुपारी देकर कराई 70 वर्षीय बुजुर्ग की हत्या, दो सगे भाइयों समेत छह गिरफ्तार

डिजिटल डेस्क, मुंबई। अंधविश्वास के चलते 70 वर्षीय बुजुर्ग की सुपारी देकर हत्या के मामले में पुलिस ने दो सगे भाइयों समेत छह आरोपियों को गिरफ्तार किया है। वारदात महानगर के मुलुंड इलाके की है। बुजुर्ग की हत्या के लिए चार आरोपियों को 70 हजार रुपए की सुपारी दी गई थी। आरोपियों ने तीन और लोगों की हत्या की साजिश रची थी लेकिन पुलिस ने हत्या की गुत्थी जल्द सुलझाकर दूसरे लोगों की जान बचा ली। दरअसल बुजुर्ग का 2 अक्टूबर को एक दुकान के सामने शव मिला था। दुकान के बाहर सो रहे बुजुर्ग की धारदार हथियार से वार कर जान ली गई थी। शुरूआती छानबीन में हत्या की कोई वजह पुलिस को समझ नहीं आई क्योंकि हत्या लूटपाट के इरादे से नहीं हुई थी। बुजुर्ग की सीधी किसी से दुश्मनी भी नहीं नजर आ रही थी। मामले की गंभीरता को देखते हुए पुलिस ने जांच के लिए पांच टीमें बनाई। पुलिस वालों ने आसपास के इलाकों में रहने वाले लोगों से पूछताछ शुरू की। इसी बीच पता चला कि इलाके में रहने वाले दीपक मोेरे और विनोद मोरे नाम के दो भाई हैं, जिस बुजुर्ग की हत्या हुई उनके साथ समाज के कुछ लोगों खुश नहीं थे। दरअसल दोनों के पिता की करीब एक महीने पहले मौत हो गई थी।

आरोपियों को शक था कि समाज के ही कुछ लोगों ने जादू टोना कराया था इसीलिए उनकी जान गई। यही नहीं ये लोग मोरे भाइयों के पिता के अंतिम संस्कार में नहीं शामिल हुए और परिवार को सांत्वना देने भी नहीं पहुंचे, इससे उनकी नाराजगी और बढ़ गई। पुलिस ने दोनों भाइयों को हिरासत में लेकर पूछताछ की, तो उन्होंने कहा कि उन्हें लगा कि उनके पिता को तभी शांति मिलेगी, जब उन लोगों की भी मौत हो जाए, जिन्होंने जादू टोना कर उनकी जिंदगी छीनी। इसके बाद आरोपियों ने चार ऐसे लोगों की पहचान की जिनकी वे अपने पिता की आत्म की शांति के लिए हत्या कराना चाहते थे।

दोनों भाईयो से सबसे पहले हत्या के लिए बुजुर्ग को चुना क्योंकि वे दुकान के बाहर सड़क किनारे अकेले सोते थे। हत्या के लिए आसिफ शेख, मोइनु्द्दीन अंसारी. आरिफ अब्दुल खान और शाहनवाज शेख नाम के आरोपियों को सुपारी दी गई। हत्या के बाद आरोपी अजमेर दरगाह भाग गए थे लेकिन पुलिस उनके पीछे वहां पहुंचे तो वे भागकर वापस मुंबई आ गए। डीसीपी प्रशांत कदम ने बताया कि सभी छह आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया गया है मामले की छानबीन की जा रही है।  

कमेंट करें
EpbR4