नशीला पदार्थ खाने से आधा दर्जन छात्राएं बीमार

Almost half a dozen girls are ill for taking drugs
नशीला पदार्थ खाने से आधा दर्जन छात्राएं बीमार
नशीला पदार्थ खाने से आधा दर्जन छात्राएं बीमार

डिजिटल डेस्क,मंडला। राष्ट्रीय माध्यमिक शिक्षा मिशन के आदिवासी कन्या हॉस्टल घुघरी में प्रबंधन की लापरवाही से 6 छात्राएं अस्पताल पहुंच गई। छात्राओं की तबीयत मादक पदार्थ खाने से बिगड़ी है। छात्राओं को बेहोशी की हालत में हॉस्पिटल पहुंचाया गया। इसमें एक छात्रा को गंभीर हालत में जिला अस्पताल रेफर किया गया। हॉस्टल प्रबंधन के द्वारा राजनीतिक दखल से मामला दबाने का प्रयास किया जा रहा है। घुघरी पुलिस समेत प्रशासनिक अधिकारियों के द्वारा मामले की जांच की जा रही है।

जानकारी के अनुसार जिले में बालिका शिक्षा को बढ़ावा देने के लिए हर ब्लाक में एक से अधिक हॉस्टल खोले गए है। जिससे दूरदराज वनांचल क्षेत्र की बलिकाओं को हाई और हायर सेंकेडरी की शिक्षा मिल सके। हॉस्टल में बदइंतजामी और अव्यवस्था के कारण सरकार की मंशा में अधिकारी और अधीक्षक पानी फेर रहे है। हॉस्टल में किसी की कोई निगरानी नहीं है। सौ सीटर कक्षा 9 से 12 तक की छात्राओं के लिए साल भर पहले शिक्षा विभाग राष्ट्रीय माध्यमिक शिक्षा मिशन से खोले गए घुघरी कन्या हॉस्टल अधीक्षक की लापरवाहीं के कारण छात्राओं की जान जाने तक का खतरा है।

यहां कक्षा 12 की 6 छात्राएं प्रियका पिता बलराम, प्रेमलता पिता भगती, सरोज पिता कामूलाल, आशा पिता श्रीलाल, माया पिता तुलसी, सरला पिता भगत सिंह ने मादक पदार्थ मुनक्का का सेवन कर लिया। छात्राओं ने रसगुल्लेी मुन्नका को गले उतारा कुछ देर के बाद हॉस्टल में रोने गाने की आवाज आने लगी। पेट दर्द होने के बाद छात्राएं बेहोश हो गई।

 यह देखकर अन्य छात्राओं में दहशत बन गई। आनन फानन में हॉस्टल अधीक्षिका के द्वारा एक वाहन से स्वास्थ्य केन्द्र पहुंचाया गया। यहां रात भर इलाजरत रहने के बाद सुबह के समय छात्राओं के स्वास्थ्य में सुधार देखने को मिला। इसमें एक छात्रा प्रियंका की हालत खराब होने के कारण घुघरी स्वास्थ्य केन्द्र से परिजन हॉस्टल से मिली सूचना के बाद  जिला अस्पताल में भर्ती कराया है। 

Created On :   9 Sep 2017 4:11 PM GMT

और पढ़ेंकम पढ़ें
Next Story