दैनिक भास्कर हिंदी: उमरिया-कटनी के बीच चल रहा वैध टीपी पर अवैध रेत का काला कारोबार

May 26th, 2021

70 किमी की दूरी तय करने में लगे 6 घंटे, पौने 2 घंटे 22 चका ट्राला कहां गया किसी को पता नहीं
डिजिटल डेस्क कटनी/उमरिया । रे
त को लेकर समूचे सूबे में चर्चित रहने वाले उमरिया व कटनी जिले के बीच चलने वाले वैध टीपी पर अवैध रेत के काले कारोबार का ताजा मामला मंगलवार को सामने आया। कटनी के एनकेजे थाना पुलिस ने सोमवार-मंगलवार की दरमियानी रात उमरिया की ओर से आ रहे रेत से लोड दो 22 चका ट्राला को रोक कर कागजातों की जांच की तो पता चला कि जिन वाहनों को 70 किलोमीटर की दूरी निर्धारित सवा चार घंटा में तय करना थी वे छह घंटे बाद कटनी पहुंचे। करीब पौने दो घंटे ये ट्राला कहां घूमते रहे, यह अभी तक अज्ञात है। पुलिस के अनुसार दोनों ट्रालों में क्षमता से अधिक रेत लोड थी। चूंकि टीपी की टाइम लिमिट खत्म हो चुकी थी लिहाजा दोनों ट्रालों को मय रेत के जब्त करते हुए प्रकरण जांच हेतु खनिज विभाग को सौंप दिया गया। 
उमरिया की थी टीपी 
सीएसपी (कटनी) शशिकांत शुक्ला ने बताया कि सोमवार-मंगलवार की रात करीब 12.25 बजे तिलक कालेज तिराहा के समीप पुलिस ने जिन दो ट्रालों आरजे-34 जीए 2342 तथा आरजे 34 जीए 2339 को जांच हेतु रोका, उनके वाहन चालकों के पास उमरिया जिले की टीपी थी। यह टीपी 24 मई की शाम 5.45 बजे तथा 6.14 बजे जारी हुई थीं। इन्हें टीपी में दर्ज समयावधि अनुसार सवा चार घंटे में कटनी पहुंच जाना चाहिए था। पुलिस के अनुसार दोनों वाहनों चालक भगवत सिंह सरदार व बलविंदर सिंह सरदार उप्र के लखीमपुर खीरी के रहने वाले हैं। पुलिस ने इन दोनों के विरुद्ध प्रकरण दर्ज किया है।
आरएसआई स्टोन वल्र्ड के पास है ठेका
वैध टीपी पर चलने वाले अवैध रेत के काले कारोबार की जड़ें जिस उमरिया जिले से जुड़ी मिलीं, वहां की 27 रेत खदानों का ठेका आरएसआई स्टोन वल्र्ड के पास है। कटनी पुलिस ने भी इस बात की पुष्टि की है कि ट्राला चालकों के पास उमरिया जिले की टीपी थी। हालांकि पुलिस ने यह कहते हुए कि मामला खनिज विभाग से संबंधित है, यह खुलासा नहीं किया है कि टीपी उमरिया जिले की किस खदान से जारी हुई थी। सूत्रों ने दावा किया है कि मामला उमरिया व कटनी जिले की सीमा पर बहने वाली उमरार (उमराड़) नदी की खैरभार खदान से जुड़ा हुआ है। जिला सीमा की खैरभार वह खदान है जो हमेशा से ही रेत के अवैध उत्खनन व रेत से लेकर जुड़े विवादों को लेकर चर्चित  दिसंबर 2019 में तो रेत को लेकर यहां गोली भी चल चुकी है जिसके मुख्य आरोपी पवन पाठक सहित कटनी व सीधी जिले से जुड़े आरोपी अब तक फरार हैं। सूत्रों के अनुसार आरएसआई स्टोन वल्र्ड द्वारा पिछले सप्ताह ही खैरभार खदान से लगे अतरिया में रेत के खनन का काम शुरू किया गया है। वहां से कटनी तक पहुंचने में महज दो घंटे लगते हैं। लेकिन लोडिंग आदि का समय मिलाते हुए सवा चार घंटे की समयावधि इसलिए दर्ज की जाती है कि थोड़ी-बहुत ओवर टाइमिंग के साथ एक टीपी पर कटनी तक के दो फेरे लगाए जा सकें। टीपी जारी होने के 6 घंटे बाद कटनी में पकड़ाए उक्त दो ट्राले यह बदरंग तस्वीर साफ कर देते हैं। 

खबरें और भी हैं...