दैनिक भास्कर हिंदी: कंपनी की अनोखी पहल : पर्यटकों के जन्मदिन पर उनसे कराते हैं पौधारोपण

April 1st, 2018

डिजिटल डेस्क, मुंबई। कृष्णा शुक्ला। हर व्यक्ति के लिए उसका जन्मदिन खास होता है और इस दिन समाज के लिए कुछ करने का अवसर मिले तो मन प्रसन्न होना स्वभाविक हैं। पर्यटन क्षेत्र कि एक सुप्रसिद्ध कंपनी अपने पर्यटकों को इस तरह का मौका प्रदान करती है। महिंद्रा हरियाली प्रोजेक्ट को महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस से भी सराहना मिल चुकी है। क्लब महिंद्रा ने यह पर्यावरण स्नेही अभियान की शुरुआत की है।

क्लब महिंद्रा के कुंभलगढ़ रिसार्ट के प्रबंधक सुप्रियो धाली बताते हैं कि हमारे पास यहां आने वाले पर्यटकों की पूरी जानकारी हमारे पास होती। उस दिन जिस पर्यटक का जन्मदिन होता है, उसके हाथों पोधारोपड़ कराया जाता है। उस पेड़ पर रोपड़ करने वाले व्यक्ति के नाम की पट्‌टीका भी लगाई जाती है। उसके बाद हम उस पौधे की देखभाल करते। धाली ने बताया कि वर्षों बाद पर्यटक जब फिर लौट कर पौधारोपड़ वाले स्थान पर आते हैं तो अपने हाथों रोपे गए पौधे को पेड़ बनता देख कर खुश हो जाते हैं। 

कंपनी उपलब्ध कराती है जगह, पेड़ों की करती है देखभाल 
देश भर में नए-नए पर्यटन स्थल खोजने के लिए मशहूर क्लब महिंद्रा के महाप्रबंधक (संचार) प्रमूच गोयल ने बताया कि हमने महाराष्ट्र में बड़े पैमाने पर महिंद्रा हरियाली प्रोजेक्ट के अंतर्गत वृक्षारोपण किया है। हमारे द्वारा लगाए गए सौ में से 85 प्रतिशत वृक्ष फल-फूल रहे हैं। पेडों के रखरखाव को लेकर महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने भी सराहना की है। गोयल कहते हैं,‘हम चाहते है कि हर कोई एक पेड़ लगाकर अपने जन्मदिन को खास व यादगार बनाए।

इससे देश में हरियाली बढेगी साथ ही हम लोगों को पर्यावरण प्रदूषण को लेकर भी जागरुक करते हैं। प्रयोग के तौर पर हमने राजस्थान के कुंभलगढ रिसार्ट से इसकी शुरुआत की है। संतुलित विकास की अवधारणा पर विश्वास करने वाले क्लब महिंद्रा पर्यावरण संरक्षण के साथ ही ग्रामीण विकास व गरीब बच्चों की शिक्षा को लेकर भी प्रतिबद्ध हैं।  

वर्षों बाद पेड़ों पर अपनी नाम पट्टीका देख खुश होते हैं सैलानी  

सुप्रियो धाली ने बताया कि हमने महाराष्ट्र के लोनावाला के टूंगी गांव में हर दिन अपने वाहन से बच्चों को स्कूल पहुंचाते हैं। क्योंकि स्कूल दूर होने की वजह से ये बच्चे विद्यालय नहीं जा पाते थे। कई बच्चों को साइकिल भी दी गई है। राजस्थान के बीड़ की भागल गांव की जर्जर हो चुके सरकारी स्कूल का पुनर्निर्माण भी कराया है। साथ ही  इस स्कूल से कक्षा पांचवी की पढाई पूरी करने वाले दो बच्चों की कत्रा 12 वी तक की पढाई का खर्च उठाते हैं। इसके लिए एक लड़ेक और एक लड़की का चुनाव किया जाता है।