नमाज पर विवाद : गुरुग्राम मैदान में मुस्लिम समुदाय के लोग कर रहे थे जुमे की नमाज अदा, हिंदू संगठन ने दे दिया धरना

December 4th, 2021

हाईलाइट

  • हिंदू संगठनों के लगभग 10 लोगों को हिरासत में

डिजिटल डेस्क, गुरुग्राम। खुले मैदान में शुक्रवार को नमाज अदा करने को लेकर विवाद तब फिर से शुरू हो गया, जब इस्लामिक आस्था से जुड़े 200-300 से अधिक लोगों ने यहां सेक्टर-37 मैदान में जुमे की नमाज अदा की। शुक्रवार की नमाज के विरोध में हिंदू संगठनों के सदस्यों ने धरना दिया। गुरुग्राम पुलिस ने एक औद्योगिक क्षेत्र सेक्टर -37 में शुक्रवार की नमाज को बाधित करने की कोशिश करने के आरोप में एक दक्षिणपंथी समूह के प्रमुख दिनेश ठाकुर सहित हिंदू संगठनों के लगभग 10 लोगों को हिरासत में लिया। भारत माता वाहिनी समूह ने सार्वजनिक पार्कों और स्थानों में नमाज अदा करना बंद करने की मांग की।

तनावपूर्ण स्थिति को देखते हुए किसी अप्रिय घटना से बचने के लिए कई पुलिस कर्मियों को भी मौके पर तैनात किया गया था। उन्होंने शुक्रवार की नमाज के दौरान हिंदू दक्षिणपंथी सदस्यों को किसी भी तरह का हंगामा करने से रोकने के लिए मैदान की घेराबंदी की। संगठन के कई लोग मैदान में जमा हो गए थे और जय श्री राम, भारत माता की जय और वंदे मातरम जैसे नारे लगाए। पुलिस ने बताया कि हालांकि नमाज के दौरान कोई अप्रिय घटना नहीं हुई और लोगों ने नमाज अदा की और शांति से मैदान से बाहर चले गए। मौके पर मौजूद शहर के सहायक पुलिस आयुक्त (एसीपी) राजेंद्र सिंह ने कहा कि पुलिस ने संगठन के कुछ सदस्यों को हिरासत में लिया है।

उन्होंने आईएएनएस को बताया, हमने समूह के सदस्यों को हिरासत में लिया, जिन्होंने शुक्रवार की नमाज और कानून व्यवस्था की स्थिति को बाधित करने की कोशिश की थी। उन्हें एहतियात के तौर पर हिरासत में लिया गया था और उनके खिलाफ आवश्यक कार्रवाई भी की जाएगी। दिनेश ठाकुर ने गुरुवार को उपायुक्त गुरुग्राम को एक ज्ञापन भी सौंपा था, जिसमें मांग की गई थी कि सार्वजनिक स्थानों पर धार्मिक प्रार्थनाओं को रोका जाए, क्योंकि वे नियमों के खिलाफ हैं। मुस्लिम एकता मंच के अध्यक्ष हाजी शहजाद खान ने कहा, जिला प्रशासन ने हमें सेक्टर-37 मैदान में जुमे की नमाज अदा करने की इजाजत दी है। कई सालों तक यहां करीब 2500 लोग जुमे की नमाज अदा करते थे, जिसे कम कर 200-300 से कर दिया गया है। अगर किसी हिंदू संगठन को कोई समस्या है तो उन्हें जिला प्रशासन से संपर्क करना चाहिए।

हम भी भारत के नागरिक हैं और शहर में सद्भाव चाहते हैं। हम नियमित रूप से संबंधित प्राधिकरण के संपर्क में हैं। प्रशासन ने पहले ही हमारे नामित स्थलों को 37 से घटाकर 20 कर दिया है लेकिन कुछ हिंदू संगठन लगातार हमें अपमानित कर रहे हैं। प्रशासन को ऐसे लोगों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करने की जरूरत है। पिछले शुक्रवार को सेक्टर-37 मैदान में कुछ हिंदू संगठनों द्वारा मुस्लिमों द्वारा धार्मिक नमाज अदा करने का विरोध करने के बाद तनाव पैदा हो गया था।

(आईएएनएस)