दैनिक भास्कर हिंदी: Cyclone Tauktae Updates: गोवा में तबाही मचाने के बाद गुजरात की ओर बढ़ा 'तौकते' कल सुबह मांगरोल के पास तट से टकराएगा

May 16th, 2021

डिजिटल डेस्क, गांधीनगर। अरब सागर से उठे चक्रवाती तूफान तौकते गोवा के तटीय क्षेत्र से टकराया। गोवा में इस चक्रवात की वजह से जनहानि नहीं हुई पर बिजली प्रभावित हुई। चक्रवात की वजह से बिजली के पोल बुरी तरह से ध्वस्त हुए है। बिजली विभाग बिजली के पोल को यथास्थान लगाने की कोशिश कर रही है लेकिन तेज हवाओं के कारण यह संभव नहीं हो पा रहा है।

 

 

अब ये तूफान 160-175 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार वाली तेज हवाओं के साथ गुजरात की ओर बढ़ रहा है। भारतीय मौसम विभाग के मुताबिक ये तूफान गुजरात के वेरावल और पोरबंद के बीट मांगरोल के पास तट से टकराएगा। तूफान की वजह से मुंबई सहित उत्तरी कोंकण में कुछ स्थानों पर रविवार से ही तेज हवा के साथ भारी बारिश हो सकती है। अगले 12 घंटे बेहद खतरनाक बताए जा रहे हैं। ये चक्रवात धीरे-धीरे एक बड़े तूफान का रूप ले रहा है। यह तूफान 18 मई की सुबह गुजरात के पोरबंदर और महुआ कोस्ट के बीच से गुजरेगा।

गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रुपानी ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के तहत चक्रवात के लिए की गई तैयारीयों का जायजा लिया। उन्होंने अस्पतालों के बारे में जानकारी ली, जिन्हें कोविड सेंटर की तरह इस्तेमाल किया जा रहा है। इसके अलावा 175 मोबाईल ICU गाड़ियों की सुविधा उपलब्ध करवाई जाएगी। जहां कही भी मरीजों को जरुरत पड़ेगी।

वहीं, महाराष्ट्र में 17 मई को होने वाले टीकाकरण को रोक दिया गया है।यह फैसला मेयर एस.चहल ने लिया है। टीकाकरण मंगलवार सुबह से शुरु हो जाएगा।  कर्नाटक में इस चक्रवात की वजह से 4 लोगों की मौत हो गई और 73 लोग इससे प्रभावित हुए हैं। इस चक्रवात की वजह से 312 लोगों को अपना घर खाली करना पड़ा।

 

 

एनडीआरएफ की टीम के अनुसार चक्रवात को मद्देनजर रखते हुए टीम की संख्या बढ़ा दी गई है। पहले जहां 53 टीमें कर्नाटक. केरल, गोवा, महाराष्ट्र, गुजरात में काम करने वाली थी, अब वहां 100 टीमे काम करेगी। 100 में 42 पहले ही जमीनी स्तर पर काम कर रही, 26 टीम प्रतीक्षा कर रही है और 32 टीमें मदद की तैयारी में काम कर रही है। जिन राज्यों में जरुरत पड़ेगी वहां ये पहुंच जाएगी।
 

 

भारतीय मौसम विभाग के अनुसार शनिवार देर रात 2.30 बजे ये चक्रवात गोवा के पणजी तट से 150 किलोमीटर दक्षिण पश्चिम में, मुंबई से 490 किलोमीटर दक्षिण, गुजरात के वेरावल से 880 किलोमीटर दक्षिण-दक्षिण पश्चिम में था। तूफान के दौरान बारिश के साथ 150 से 160 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से हवा चल सकती है। महाराष्ट्र, केरल और गुजरात के तटों पर तीन दिन तक तूफान का असर रहने की आशंका है। तूफान का असर तमिलनाडु, कर्नाटक, पश्चिमी राजस्थान और लक्षद्वीप में भी हो सकता है। यहां चर्चा कर दें कि तूफान को ‘तौकते' नाम म्यांमार ने दिया है। यह एक बर्मी शब्द है जिसका अर्थ है गेको, एक 'छिपकली' है। इस साल भारतीय तट पर यह पहला चक्रवाती तूफान होगा।

 

 

भारतीय मौसम विभाग के मुताबिक चक्रवाती तूफान के अगले कुछ घंटों में 'अत्यंत भीषण चक्रवाती तूफान' में बदलने की संभावना है। इसके उत्तर-उत्तर-पश्चिमी दिशा की तरफ बढ़ने और लगभग 18 मई को पोरबंदर तथा नलिया के बीच गुजरात तट को पार करने की उम्मीद है। केंद्र और तटीय राज्यों की सरकारें चक्रवात से निपटने की तैयारी कर रही हैं।

 

 

 

खबरें और भी हैं...