छिंदवाड़ा: 80 में डील, 25 हजार की रिश्वत लेते महिला अकाउंटेंट ट्रेप

February 23rd, 2022

डिजिटल डेस्क, छिंदवाड़ा। कलेक्ट्रेट परिसर के जनजातीय कार्य विभाग में मंगलवार को जबलपुर लोकायुक्त ने कार्रवाई करते हुए  महिला अकाउंटेंट को रंगे हाथ गिरफ्तार किया। सेवा पुस्तिका में सुधार के लिए महिला कर्मचारी  संगीता झाड़े ने 80 हजार की डील की थी, पहली किश्त के 25 हजार रुपए वसूलते ही लोकायुक्त की टीम ने अकाउंटेंट को रिश्वत की रकम के साथ गिरफ्तार कर लिया। मुख्य कलेक्ट्रेट कार्यालय में हुई इस ट्रेपिंग की कार्रवाई से पूरे परिसर में हडक़ंप मच गया था।
लोकायुक्त पुलिस ने बताया कि अमरवाड़ा तहसील के लहगड़ुआ निवासी 32 वर्षीय नीलेश पिता गंगाराम सूर्यवंशी ने शिकायत दर्ज कराई थी कि जनजातीय कार्य विभाग में पदस्थ अकाउंटेंट श्रीमति झाड़े सेवा पुस्तिका में सुधार के लिए 80 हजार की डिमंाड कर रही है। प्रार्थी के पिता गंगाराम सोनपुर बालक आश्रम में भृत्य के पद पर पदस्थ है। सेवा पुस्तिका में गलती से उसके पिता की उम्र दो साल ज्यादा दर्ज हो गई है। शिकायत के आधार पर लोकायुक्त पुलिस ने मंगलवार दोपहर मुख्य कार्यालय में प्रार्थी को 25 हजार की रिश्वत लेकर पहुंचाया। कलेक्ट्रेट परिसर की प्रथम मंजिल पर मौजूद कार्यालय के बाहर जैसे ही अकाउंटेंट ने रिश्वत की रकम ली, वैसे ही दो महिला पुलिस कर्मचारियों ने उसे पकड़ लिया। मामला पंजीबद्ध करते हुए आरोपी महिला अकाउंटेंट को मुचलके पर जमानत भी दे दी गई है।
लंबे समय से कर रही थी परेशान
बताया जा रहा है कि सेवा पुस्तिका में सुधार के नाम पर महिला अकाउंटेंट लंबे समय से प्रार्थी के पिता को परेशान कर रही थी। कई दिनों से प्रार्थी सुधार के लिए जनजातीय कार्य विभाग के चक्कर काट रहा था, लेकिन रिश्वत की रकम नहीं मिल पाने की वजह से महिला अकाउंटेंट द्वारा उसे हर बार नई डेट दे दी जाती थी। तंग आकर प्रार्थी ने इस बात की शिकायत जबलपुर लोकायुक्त से कर दी।
कर्मचारियों में मचा हडक़ंप
जैसे लोकायुक्त की कार्रवाई जनजातीय कार्य विभाग में हुई वैसे ही पूरे परिसर में हडक़ंप मच गया। जनजातीय कार्य विभाग के एक कमरे को पूरी तरह सील कर दिया गया था। जहां किसी को भी कार्रवाई के दौरान आने-जाने की इजाजत नहीं थी। वहीं कलेक्ट्रेट परिसर के अन्य कर्मचारी भी जनजातीय कार्य विभाग के सामने आकर एकत्र हो गए थे।
जांच में लिया मामला
लोकायुक्त पुलिस ने कार्रवाई के बाद पूरा प्रकरण जांच में लिया है। मीडिया को दिए बयान में लोकायुक्त पुलिस ने बताया कि जांच के बाद यदि अन्य किसी कर्मचारी अधिकारी का नाम भी सामने आता है तो उसके खिलाफ भी लोकायुक्त की कार्रवाई की जाएगी।
ये थे लोकायुक्त की टीम में शामिल
मंगलवार को हुई कार्रवाई में लोकायुक्त की टीम में निरीक्षक स्वप्निल दास, मंजू किरण तिर्की, निरीक्षक भूपेंद्र दीवान, आरक्षक जुवेद खान, अतुल श्रीवास्तव, विजय बिष्ट, लक्ष्मी रजक, सुरेंद्र राजपूत शामिल थे।