अकोला: यूक्रेन में फंसे विद्यार्थियों की सहायता करने की मांग

February 28th, 2022

डिजिटल डेस्क, अकोला। यूक्रेन तथा रूस के बीच युध्द की परिस्थिति निर्माण हो गई है। जिससे पूरे विश्व की निगाहें लगी हुई है। इसके अलावा विदर्भ के छात्र जो शिक्षा ग्रहण करने के लिए गए है वे भी फंस गए है। सरकार उन छात्रों को सकुशल लाने के लिए प्रदेश तथा केंद्र सरकार ने कुछ ठोस उपाययोजना नहीं किया है। विद्यार्थियों को वापस लाने के लिए सरकार गंभीरता से विचार कर उन्हें वापस लाए ऐसी मांग सामाजिक कार्यकर्ता व वंचित बहुजन आघाडी के कार्यकर्ता पराग गवई ने मुख्यमंत्री को ज्ञापन सौंप कर की। ज्ञापन में कहा गया कि युक्रेन में हो रही विषम परिस्थिति को देखते हुए पूरे विश्व की निगाहें जमी हुई है। विविध अंतरराष्ट्रीय व भारतीय मीडिया रिर्पोट के अनुसार सैकड़ों लोग युक्रेन में फंसे हुए है। जिसमें महाराष्ट्र विशेषकर विदर्भ के अलग अलग जिले के विद्यार्थी भी शामिल है। जानकारी के अनुसार बुलढाणा जिले के पांच, चंद्रपुर के 6, यवतमाल के 6, गोदिंया तीन, गडचिरोली दोन तथा अमरावती जिले के 8 विद्यार्थियों का समावेश है। यह सभी विद्यार्थी वैद्यकीय शिक्षा लेने के ए गए थे। युध्द की परिस्थिति को देखते हुए भारत के विदेश मंत्रालय तथा केंद्र सरकार द्वारा किसी प्रकार की ठोस कार्रवाई नहीं की जा रही है। इस मामले को मुख्यमंत्री ने गंभीरता से लेना चाहिए। केंद्र सरकार व विदेश मंत्रालय विद्यार्थियों को वापस लाने के लिए ठोस कार्रवाई करने की चाहिए। युक्रेन में फंसे विद्यार्थियों के अभिभावकों से जिला प्रशासन जानकारी लेकर सरकार को अवगत करवा रहा है। इसके बावजूद स्थानीय प्रतिनिधियों ने सरकार पर दबाव बनाकर विद्यार्थियों को लाने के लिए प्रयास किया जाना चाहिए।