2 माह से नहीं आई प्रेग्नेंसी जाँच किट: शासकीय एल्गिन अस्पताल से निराश होकर लौट रहीं महिलाएँ

September 20th, 2021

डिजिटल डेस्क  जबलपुर । शासकीय एल्गिन अस्पताल में आने वाली महिलाओं की गर्भावस्था संबंधी जाँच इन दिनों नहीं हो पा रही है। ऐसा इसलिए क्योंकि पिछले दो महीने से प्रेग्नेंसी जाँच किट यहाँ मुहैया नहीं हो रही है। इसीलिए बाहरी दुकानों से उन्हें महँगे दामों पर यह किट खरीदकर अपनी प्रेग्नेंसी का पता लगाना पड़ रहा है। 
एक साल में आतीं हैं 15 हजार किटें
 जानकारों की मानें तो एल्गिन अस्पताल में आने वाली महिलाओं के लिए राज्य शासन द्वारा प्रतिवर्ष 15 हजार जाँच िकटें उपलब्ध करवाई जाती हैं। इसके लिए बाकायदा टेंडर प्रक्रिया आयोजित की जाती है और इसी के पश्चात हर महीने महिलाओं की गर्भावस्था संबंधी जाँच किट के माध्यम से हो पाती है। जिस कंपनी द्वारा यह किट मुहैया कराई जा रही थीं, पिछले दिनों  उसका टेंडर समाप्त हो चुका है इसीलिए अब ये किटें उपलब्ध नहीं हो पा रही हैं। 
जिम्मेदार भी बैठे खामोश
यहाँ चिंताजनक बात यह है कि एल्गिन अस्पताल में दूर-दूर से आने वाली महिलाओं को जहाँ प्रेग्नेंसी जाँच किट के अभाव में परेशान होना पड़ रहा है, वहीं प्रबंधन से जुड़े आला-अधिकारी भी खामोश हैं और उनके द्वारा न तो शासन से किट उपलब्ध करवाने प्रस्ताव ही भेजे जा रहे हैं और न ही स्थानीय स्तर पर कोई व्यवस्था इस दिशा में की जा रही है। इसी के चलते महिलाओं एवं उनके परिजनों को भी परेशान होना पड़ रहा है और कब तक यह समस्या यूँ ही बनी रहेगी, इस बारे में भी कोई कुछ बताने तैयार नहीं है। 
प्रतिमाह भटक रहीं सैकड़ों महिलाएँ
एल्गिन अस्पताल में प्रतिदिन शहरी एवं ग्रामीण इलाकों से लगभग 30 महिलाएँ अपनी प्रेग्नेंसी संबंधी जाँच कराने पहुँचती हैं। इस तरह प्रतिमाह 900 महिलाएँ गर्भावस्था का परीक्षण कराने आती हैं लेकिन पिछले दो महीने से किट के अभाव में यहाँ आकर भी उनकी जाँच नहीं हो पा रही। अस्पताल में किट नहीं होने के कारण महिलाओं को बाहरी दुकानों से महँगे दामों पर उक्त किट खरीदकर अपनी प्रेग्नेंसी का पता करना पड़ रहा है।
प्रस्ताव भेज दिया है
इनका कहना है
मरीजों की जाँच नियमित रूप से हो सके, इसके लिए हमने शासन से किट के लिए माँग की है।  इस दिशा में रेट कॉन्ट्रेक्ट भी हो चुके हैं। हमें पूरी उम्मीद है कि किट आगामी दिनों में अवश्य ही उपलब्ध हो जाएगी। 
-डॉ. संजय मिश्रा, क्षेत्रीय संचालक स्वास्थ्य सेवाएं

खबरें और भी हैं...