रतन नगर में आलीशान बंगला, लग्जरी कारें सहित करोड़ों की सम्पत्ति उजागर: आय से अधिक सम्पत्ति मामले में ननि के सहायक यंत्री के घर ईओडब्ल्यू का छापा

August 3rd, 2022

डिजिटल डेस्क जबलपुर। नगर निगम में पदस्थ सहायक यंत्री आदित्य शुक्ला के पास आय से अधिक सम्पत्ति होने के मामले में ईओडब्ल्यू की टीम ने बुधवार की सुबह 9 बजे उनके रतन नगर स्थित निवास पर छापा मारा। कार्रवाई के दौरान आलीशान बंगला, लग्जरी कारें व बैंक खाते में साढ़े 6 लाख जमा होने की जानकारी सामने आई है। जानकारी के अनुसार सहायक यंत्री की आय से 203 गुना अधिक सम्पत्ति का खुलासा हुआ है जो कि करोड़ों की बताई जा रही है।
सूत्रों के अनुसार ननि में पदस्थ सहायक यंत्री आदित्य शुक्ला के पास उद्यान अधिकारी का दायित्व था। करीब 6 माह पूर्व उन्हें वहाँ से हटाकर ननि के पीडब्ल्यूडी विभाग में भेजा गया था। सहायक यंत्री के पास आय से अधिक सम्पत्ति होने की गोपनीय तरीके से जाँच कराई गई थी। जाँच में यह तथ्य सामने आए थे कि उन्होंने सेवाकाल के दौरान आय से अधिक सम्पत्ति अर्जित की है जिसके बाद मामला दर्ज किया गया था। सुबह टीम ने उनके रतन नगर स्थित निवास पर छापामारी की जाँच की जिसमें रतन नगर में 39 सौ वर्गफीट के भूखंड पर बने आलीशान भवन, 15 सौ वर्गफीट के पैतृक भूखंड पर निर्मित कराए गए नए भवन के दस्तावेज, 3 लग्जरी कारें, बाइक, मोपेड व बैंक खाते में 6 लाख 40 हजार जमा होने के दस्तावेज मिले। टीम ने सभी दस्तावेजों को जब्त कर जाँच में लिया है।
बंगले का नापजोख कराया
छापे की कार्रवाई के दौरान सहायक यंत्री के आलीशान मकान की कीमत का आंकलन करने के लिए पीडब्ल्यूडी की टीम को बुलाया गया था। दोपहर के बाद टीम के सदस्य मौके पर पहुँचे और बंगले की नापजोख कर निर्माण का जायजा लिया गया है।
15 लाख के जेवर 75 लाख की कारें
जानकारी के अनुसार कार्रवाई के दौरान घर से मिले सोने-चाँदी के जेवरों की कीमत करीब 15 लाख रुपए बताई जा रही है। वहीं बर्तनों की कीमत दो लाख व कारों की कीमत करीब 75 लाख रुपए बताई जा रही है। जाँच टीम द्वारा सहायक यंत्री की अचल सम्पत्ति का पता लगाया जा रहा है, वहीं एक बैंक लाकर का पता चला है जो कि गुरुवार को खुलवाया जाएगा।
गोपनीय जाँच में हुआ खुलासा
आय से अधिक सम्पत्ति के मामले में सहायक यंत्री की गोपनीय जाँच कराई गई थी। जाँच में सेवाकाल के दौरान 203 गुना अधिक सम्पत्ति उजागर होने पर मामला दर्ज किए जाने के बाद टीम द्वारा छापा मारा गया है।
देवेंद्र प्रताप सिंह, एसपी, ईओडब्ल्यू