मंडला: भवन में आधा दर्जन लगे छत्ता, किसी ने नहीं दिया ध्यान

March 2nd, 2022

डिजिटल डेस्क , मंडला।निवास विकासखंड के ग्राम बिसौरा हाईस्कूल में सुबह करीब 10.30 मधुमक्खियों ने हमला कर दिया। इसमें एक अतिथि शिक्षक समेत एक दर्जन विद्यार्थी घायल हुये है। अतिथि शिक्षिक और एक छात्रा गंभीर रूप से घायल हुई है। घायलों का उपचार सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र निवास में किया गया है।
जानकारी के मुताबिक शासकीय हाईस्कूल बिसौरा में सुबह 10.20 बजे अतिथि शिक्षक टीकाराम रैदास और कक्षा नौवी के विद्यार्थी स्कूल पहुंचे। यहां शिक्षक ताला खोल रहे थे, और विद्यार्थी पीछे खड़े थे, तभी अचानक मधुमक्खियों के झुंड ने हमला बोल दिया। यहां मधुमक्खी का झुंड अतिथि शिक्षक और विद्यार्थियों को काटने लगा। जिससे यहां अफरा तफरी मच गई। यहां ताला नही खुल पाने के कारण सभी ग्राउंड की तरफ भागे, लेकिन झुंड ने पीछा नही छोड़ा, जिसके चलते जान बचाने के लिए विद्यार्थी और शिक्षक खेतों के तरफ भागे। लेकिन मधुमक्खियों के हमला करना नही छोड़ा। इस हमले में एक दर्जन विद्यार्थी घालय हुये है। अतिथि शिक्षक टीकाराम रैदास और छात्रा जयश्री मिश्रा ज्यादा गंभीर रूप से घायल हुये है। इसके अलावा अमिता रजक, शैलेंद्र मरावी समेत अन्य छात्र छात्राएं भी घायल है। सभी को सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र लाया गया। जहां सभी का प्राथमिक उपचार किया गया है।
ढ़ाबा में छिपे तब बची जान-
अतिथि शिक्षक टीकाराम रैदास और छात्रा जयश्री मिश्रा पर मधुमक्खी के हमले के दौरान बचना मुश्किल हो रहा है। ढ़ाबा की तरफ भागकर पहुंचे। यहां ढ़ाबा संचालक के द्वारा शटर गिराया गया, तब झुंड के पीछा छोड़ा। इस दौरान सैकड़ो मधुमक्खी हमला कर चुकी थी। अगर ढ़ाबा तक नही पहुंच पाते, तो जान बचाना मुश्किल हो जाता।
पहले भी हो चुकी घटनाएं-
यहां स्कूल में मधुमक्खी के द्वारा हमला करने की यह पहली घटना नही है। स्कूल भवन में आधा दर्जन छत्ता लगे हुये है। इससे पहले भी अतिथि टीकाराम रैदास और एक दो स्कूल पर मधुमक्खी घायल कर चुकी है। जिससे यहां मधुमक्खी का खतरा पहले से बना हुआ था। बुधवार को मधुमक्खी के झुंड के बड़ा हमला कर दिया।
छत्ता निकालने पर नहंीं दिया गया ध्यान-
यहां स्कूल में मधुमक्खी के छत्ते को लेकर कई बार विभागीय अधिकारियों को स्कूल प्रबंधन के द्वारा पत्र लिखकर छत्ता हटवाने का आग्रह किया गया था, बीईओ को कई बार आवेदन करने के बाद यहां सुनवाई नही हुई। यहां छत्ता निकालने पर ध्यान नहीं दिया गया। जिसके कारण यह घटना हो गई।
छात्रों में दहशत, हटाने की मांग-
यहां विद्यार्थियों ने बताया है कि इस घटना के बाद विद्यार्थियों में मधुमक्खी को लेकर दहशत बन गई है। यहां अभी एग्जाम होना है, स्कूल की कक्षाओं को संचालन भी होगा। जिससे फिर घटना होने की संभावना है। विद्यार्थियों के द्वारा मांग की जा रही है कि मधुमक्खी के छत्ता हटाये जाए।