comScore

छात्रावास प्रकरण: बीईओ और प्राचार्य सस्पेंड, बीएमओ को थमाया नोटिस

छात्रावास प्रकरण: बीईओ और प्राचार्य सस्पेंड, बीएमओ को थमाया नोटिस


डिजिटल डेस्क छिंदवाड़ा/जुन्नारदेव। जुन्नारदेव स्थित आदिवासी छात्रावास में रहने वाली एक दसवीं की छात्रा के गर्भवती होने का मामला उजागर होने पर कलेक्टर डॉ.श्रीनिवास शर्मा ने जांच प्रतिवेदन संभाग आयुक्त को भेजा था। आयुक्त ने विकासखंड शिक्षा अधिकारी एआर लोखंडे और प्राचार्य चंद्रकला सातनकर को सस्पेंड कर दिया  है। वहीं कलेक्टर डॉ.शर्मा ने खंड चिकित्सा अधिकारी जुन्नारदेव डॉ.आरआर सिंह को कारण बताओ नोटिस जारी किया है।  शुक्रवार को छात्रावास में रहने वाली एक छात्रा के पेट में दर्द की शिकायत के चलते उसे अस्पताल लाया गया था। यहां चिकित्सकीय जांच में छात्रा गर्भवती पाई गई। जिसने एक मृत नवजात को जन्म दिया था। इस मामले के उजागर होने के बाद प्रशासनिक अधिकारियों ने मामले की जांच कर प्रतिवेदन कलेक्टर को सौंपा था। जांच प्रतिवेदन कलेक्टर द्वारा संभागीय आयुक्त को भेजा गया था। आयुक्त ने कन्या आश्रम स्कूल प्राचार्य चंद्रकला सातनकर और विकासखंड चिकित्सा अधिकारी एआर लोखंडे ने अपने कर्तव्यों के प्रति लापरवाही और उदासीनता बरती है। जांच रिपोर्ट के आधार पर प्राचार्य और बीईओ को सस्पेंड कर दिया गया है।
बीएमओ को जारी किया नोटिस-
छात्रावास की छात्राओं का प्रतिमाह स्वास्थ्य परीक्षण न करने, नियमित सुपरविजन, मॉनीटरिंग न करने और अपने कर्तव्यों के प्रति लापरवाही बरतने पर बीएमओ डॉ.आरआर सिंह को कारण बताओ नोटिस जारी किया गया है। तीन दिनों के भीतर सीएमचओ के अभिमत के साथ अपना स्पष्टीकरण प्रस्तुत करने निर्देश दिए गए है। यदि जवाब संतोषजनक नहीं होता है तो उनके विरुद्ध अनुशासनात्मक कार्रवाई की जाएगी।
आरोपी की गिरफ्तारी कर भेजा जेल-
नवेगांव थाना प्रभारी ब्रजेन्द्र सोलंकी ने बताया कि आरोपी निलेश कुमरे को शुक्रवार को ही हिरासत में ले लिया गया था। शुक्रवार को उसकी गिरफ्तारी कर उसे न्यायालय में पेश किया गया था। यहां से उसे जेल भेज दिया गया है। आरोपी के खिलाफ दुष्कर्म और पास्को एक्ट के तहत मामला दर्ज किया गया है।

कमेंट करें
eF7Tv