दैनिक भास्कर हिंदी: जहां बैठक करता था वाझे उस होटल-फ्लैट पर छापा, महिला साथी पर भी NIA का शिकंजा

April 1st, 2021

डिजिटल डेस्क, मुंबई। एंटीलिया विस्फोटक और मनसुख हिरन हत्या मामले की छानबीन कर रही राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) ने गुरूवार को दक्षिण मुंबई के एक रेस्टारेंट, ठाणे के वसई और मीरारोड के एक फ्लैट पर छापेमारी की। गिरगांव इलाके में जिस रेस्टारेंट पर छापेमारी की गई शक है कि वहां मामले के मुख्य आरोपी सचिन वाझे ने कई बार बैठकें की हैं। एनआईए अधिकारियों ने रेस्टारेंट के मालिक और कर्मचारियों से भी पूछताछ की और यह जानने की कोशिश की कि वाझे ने कब-कब और किन-किन लोगों के साथ यहां बैठक की थी। एनआईए के हाथ वसई इलाके की सीसीटीवी तस्वीरें भी लगीं हैं जिसमें वाझे मामले में गिरफ्तार एक और आरोपी विनायक शिंदे के साथ नजर आ रहा है। वरली सी लिंक की भी एक सीसीटीवी तस्वीर एनआईए को मिली है जिसमें वाझे और शिंदे एक ऑडी कार में नजर आ रहे हैं। एनआईए ने बुधवार की रात वसई इलाके से सचिन वाझे के एक और लग्जरी कार जब्त की थी। बरामद की गई काले रंग की ऑडी कार भी वाझे के ही नाम पर दर्ज है। वाझे ने हिरन की हत्या के ठीक पहले इस कार का इस्तेमाल किया था। जांच एजेंसी अब तक कुल आठ गाड़ियां जब्त कर चुकी है। एनआईए को अभी मामले में एक स्कोडा कार की भी तलाश है।    

धमकी का अंडरवर्ल्ड कनेक्शन

एंटीलिया के बाहर खड़ी विस्फोटक भरी स्कॉर्पियो कार की जिम्मेदारी लेने से जुड़ा जो संदेश पोस्ट किया गया था उसमें अंडरवर्ल्ड का कनेक्शन सामने आ रहा है। जैश उल हिंद नाम के संगठन ने इसकी जिम्मेदारी ली थी लेकिन बाद में खुलासा हुआ था कि तिहाड़ जेल में बंद इंडियन मुजाहिद्दीन के तहसीन अख्तर ने टेलीग्राम चैनल के जरिए धमकी भरा यह संदेश भेजा था। जांच एजेंसियों को सुराग मिले हैं कि धमकी भरा संदेश पोस्ट करने के लिए वसई से एक अंडरवर्ल्ड के गुर्गे के जरिए जेल के भीतर संदेश भिजवाया गया था। जिस पर संदेश पहुंचाने का शक है वह फिलहाल एक अस्पताल में इलाज करा रहा है।   

सचिन वाझे की महिला साथी पर शिकंजा, एनआईए 15 दिनों से कर रही थी तलाश

वहीं एनआईए को गुरुवार को बड़ी कामयाबी मिली है। एनआईए मीना जॉर्ज नाम की उस महिला तक पहुंच गई है जो सचिन वाझे के साथ दक्षिण मुंबई के ट्राइडेंट होटल में देखी गई थी। महिला सीसीटीवी में वाझे के साथ नजर आई थी और उसके हाथ मे पैसे गिनने की मशीन भी थी। पिछले 15 दिनों से जांच एजेंसी मीना की तलाश कर रही थी। ठाणे जिले के मीरारोड इलाके में स्थित जिस फ्लैट पर एनआईए ने छापेमारी की मीना वहां किराये पर रहती थी। यह फ्लैट पियूष गर्ग नाम के व्यक्ति का है। एनआईए सूत्रों के मुताबिक मीना वाझे के काले धन को सफेद करने में मदद करती थी। एनआईए ने मीरारोड के फ्लैट पर तलाशी के साथ मीना से पूछताछ भी की। देर रात उसे एनआईए ऑफिस ले जाया गया है। वही रेस्टोरेंट में छापेमारी के दौरान एनआईए ने वह दस्तावेज बरामद किए हैं जिसका इस्तेमाल फर्जी नाम पर सिमकार्ड हासिल करने के लिए किया गया था। इस मामले में रेस्तरां का मैनेजर संदेह के घेरे में है।

 

खबरें और भी हैं...