डेंगू का डंक - जिला अस्पताल में नहीं हो रही जांच: एंटीजन किट नहीं, एलाइजा टेस्ट के लिए प्रशिक्षित कर्मचारी का रोना

September 7th, 2021

 डिजिटल डेस्क  मंडला। प्रदेश भर में डेंगू से हाहाकार मचा हुआ है। लेकिन मंडला जिला अस्पताल में अभी तक डेंगू के लिए टेस्ट नहीं किये जा रहे है।  यहां एंटीजन टेस्ट बंद कर दिये गये और एजाइजा टेस्ट के लिए प्रशिक्षित कर्मचारी का रोना है। जिसके चलते संदिग्ध मरीजों की जांच नहीं हो रही है। इससे डेंगू के केस सामने नही आ रहे है और डेंगू से निपटने के लिए कोई तैयारी नहीं दिख रही है।जानकारी के मुताबिक डेंगू के मामले पूरे प्रदेश में बढ़ रहे है। डिंडौरी, जबलपुर, सिवनी में भी केस आ रहे है। मंडला में भी एक केस डेंगू का जबलपुर के प्राइवेट अस्पताल में सामने आ चुका है। जिला अस्पताल में भी डेंगू संदिग्ध मरीज पहुंच रहे है। लेकिन डेंगू की पुष्टि नही हो पा रही है। दरअसल जिला अस्पताल मे ंडेंगू की जांच नही होने के कारण केस नहीं निकल रहे है। यहां जांच की व्यवस्था होने के बावजूद लापरवाही की जा रही है। एंटीजन टेस्ट किट अस्पताल में नही है। हालाकि एंटीजन टेस्ट को डेंगू में मान्य नहीं किया जा रहा है। जिसके चलते एंटीजन टेस्ट का औचित्य है। जिला अस्पताल में एलाइजा टेस्ट की व्यवस्था है। किट भी मौजूद है लेकिन कर्मचारियों को रोना बना हुआ है। डेंगू जांच के लिए दो कर्मचारी प्रशिक्षित है। जिसमें एक का घुघरी तबादला हो गया है और दूसरे कर्मचारी की सेवाएं ब्लड बैंक में ली जा रही है। इस स्थिति में पैथालॉजी जांच के लिए आने वाले केस को लौटाया जा रहा है। जिससे मरीजों की जांच और बेहतर उपचार नहीं हो पा रहा है।
प्लेटलेट्स काउंट करा रहे है-
अस्पताल में डेंगू के संदिग्ध मरीजों की जांच ना कर प्लेटलेट्स काउंस करने के लिए जांच हो रही है। मंगलवार को बिछिया से आई डेंगू संदिग्ध 21 वर्षीय मरीज की डेंगू जांच की बजाय प्लेटलेट्स काउंट करने के लिए जांच कराई गई। इसके अलावा बच्चा वार्ड में भर्ती 10 वर्ष की जांच नही हो पाई। इसके अलावा पीकू में भर्ती बच्चों को भी जांच उपलब्ध नहीं होने की बात कहीं गई। इस तरह संदिग्ध मरीजो मेें डेंगू की पुष्टि नहीं हो पा रही है।
इनका कहना है
जिला अस्पताल में जांच की व्यवस्था है, अगर डॉक्टर जांच लिख रहे है तो जांच होनी चाहिये, कर्मचारियों के लिए आदेश जारी कर रहे है कि एलाइजा टेस्ट किया जाए।
डॉ कृपाराम शाक्य, सीएस जिला अस्पताल मंडला.
 

खबरें और भी हैं...