comScore

रायपुर : लोकवाणी में ‘जनता की कहानी उनकी जुबानी’

October 12th, 2020 15:49 IST
रायपुर : लोकवाणी में ‘जनता की कहानी उनकी जुबानी’

डिजिटल डेस्क, रायपुर। 11 अक्टूबर 2020 एक नवम्बर, 2020 को छत्तीसगढ़ राज्य के गठन को 20 वर्ष पूरा होगा। नयी सरकार के पौने दो साल की अवधि में किए गए कार्यों पर भी अनेक श्रोताओं ने रेडियोवार्ता लोकवाणी में खुल कर अपने विचार रखे। इन श्रोताओं ने लोकवाणी के लिए अपने अनुभव रिकार्ड कराए थे। श्रोताओं ने योजनाओं की सराहना की और योजनाओं से जुड़ी अपनी कहानियां कह सुनाईं। कर्जमाफी, गोधन न्याय योजना, राजीव गांधी किसान न्याय योजना से किसानों को मिला लाभ दुर्ग जिले के चंदखुरी निवासी श्री पुरैन चन्द्राकर ने लोकवाणी में बताया कि उनके संयुक्त परिवार में 11 एकड़ खेती की जमीन है, सरकार की योजना में उनका 1 लाख 5 हजार रूपए का कर्ज माफ हुआ। करीब 160 क्ंिवटल धान विक्रय करने पर लगभग साढ़े तीन लाख रुपए की राशि मिली। श्री चंद्राकर ने कहा कि इस पैसे से मेरी आर्थिक स्थिति में सुधार हुआ, भूमि सुधार किया, खेतों की फिनिशिंग की और जमीन भी ली, दो गाय भी ली। एक माह में 30 हजार रुपए का गोबर भी उन्होंने बेचा। दुर्ग के लेपरा गांव के श्री जीवन प्रताप सिंह ने बताया कि ‘राजीव गांधी किसान न्याय योजना’ के तहत उन्हें 15 हजार रुपए मिले हैं, जिससे वे काफी खुश हैं। उन्होंने बताया कि कोरोना के चलते काम बंद था, पूरे पैसे खत्म हो गए थे। ऐसे में हम लोगों के पास बहुत समस्या आ गई थी पैसे की। ऐसे समय में हमारे मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल जी ने बहुत ही अच्छे समय में पैसे दिए दिए हैं। मैं उनको बहुत-बहुत धन्यवाद देता हूँ। क्योंकि किसान के पास पैसा नहीं रहेगा तो खेती कैसे करेगा और किसान तो केवल अपने लिए नहीं कमाता है पूरे देश के लिए कमाता है। सोलर लाईट लगने से गांवों के जनजीवन में आया बदलाव बीजापुर के ग्राम पेद्दाकवाली के श्री श्रवण जाडी ने लोकवाणी में बताया कि हमारा गांव बीजापुर जिला मुख्यालय से लगभग 90 कि.मी. की दूरी पर है, जो काफी अन्दरूनी एवं दूरस्थ क्षेत्र है। गांव में सरकार द्वारा सोलर होम लाइट लगाई गई है। जिससे गांव के लोग काफी खुश हैं। अब बच्चे रात में भी पढ़ाई कर सकते हैं। जंगल क्षेत्र होने के कारण रात को बाहर निकलना मुश्किल होता था। सांप, बिच्छू का डर रहता था। बिजली आने से अब रात में खाना बनाने, टी.वी. देखने एवं पंखे का उपयोग कर सकते हैं। मुख्यमंत्री जी इस महत्वपूर्ण कार्य के लिए आपका बहुत-बहुत धन्यवाद। सुपोषण अभियान और ‘स्वर्गीय महेंद्र कर्मा तेंदूपत्ता संग्राहक सामाजिक सुरक्षा योजना’ के लिए श्रोताओं ने मुख्यमंत्री को दिया धन्यवाद दंतेवाड़ा जिले के ग्राम चीतालूर की रहने वाली सुश्री अनिता ठाकुर ने बताया कि मेरे समूह का नाम है माँ दन्तेश्वरी स्व-सहायता समूह है। हमारे जिले में मुख्यमंत्री सुपोषण योजना का शुभारंभ किया गया है और पहली बार स्वास्थ्य को महत्व दिया गया है। हमारे जिले में कुपोषण और एनीमिया को दूर करने के लिए सभी बच्चों एवं माताओं को पौष्टिक गरम भोजन दीदी लोगों के द्वारा बनाकर दिया जाता है, जिसमें उपयोग की जाने वाली सब्जी का उत्पादन भी दीदी लोगों के द्वारा बाड़ियों में किया जाता है। साथ ही सुपोषण योजना में अण्डे महिलाओं और बच्चों को दिए जाते हैं, वह भी जिले के ग्रामीणों द्वारा उपलब्ध कराया जाता है। दंतेवाड़ा जिले के ग्राम बालू की श्रीमती सविता ठाकुर ने बताया कि वे ‘सीता स्व-सहायता सेवा समूह’ की सदस्य हैं। मुख्यमंत्री जी, आपकी सरकार ने जो वादा किया वह पूरा करके दिखाया है। पहले तेंदूपत्ता का मूल्य प्रति मानक बोरा 25 सौ रुपए मिलता था। आपकी सरकार के आने से अब प्रति मानक बोरा 4 हजार रू. मिल रहा है। ऐसे ही इमली इकट्ठा कर बाजार में बेचने पर प्रति किलो 20 से 22 रुपए मिलते थे। आज आपकी पहल के कारण 35 से 40 रू. प्रति किलो में बेच रहे हैं। इस वर्ष जिले में लगभग 3.50 करोड़ रुपए की इमली की खरीदी की गई है। सर, एक बात और बताएं कि उसी इमली का बीज निकालने से अब हमको दोबारा मुनाफा हो रहा है। बीज निकालने का 550 रू. प्रति क्विंटल लाभ मिल रहा है। आपको बहुत-बहुत धन्यवाद कि आपने इमली की रकम बढ़ाई और इमली बीज निकालने से हमें रोजगार भी मिला। सर, हमें किसी भी प्रकार की बीमा योजना का लाभ नहीं मिल रहा था। आज आपके द्वारा ‘स्वर्गीय महेंद्र कर्मा तेंदूपत्ता संग्राहक सामाजिक सुरक्षा योजना’ लागू करके हमारे परिवार का ध्यान रखा गया। उसके लिए आपका बहुत-बहुत धन्यवाद, जय जोहार। राज्य सरकार और जिला प्रशासन के मार्गदर्शन में आमचो बस्तर के तहत हम बच्चों की शिक्षा के लिए नए-नए प्रयोग कर पाए हैं। आमचो बस्तर के तहत बस्तर जिला में काजू, हल्दी, कॉफ़ी में रोजगार से लोगों को आर्थिक उन्नति का अवसर मिला है।

कमेंट करें
7fWVd