comScore

© Copyright 2019-20 : Bhaskarhindi.com. All Rights Reserved.

 कोयले में मिलाकर भेजा पत्थर, इन्क्वायरी शुरू-ट्रांसपोर्टर्स व रेल कर्मियों पर गिर सकती है गाज

 कोयले में मिलाकर भेजा पत्थर, इन्क्वायरी शुरू-ट्रांसपोर्टर्स व रेल कर्मियों पर गिर सकती है गाज

डिजिटल डेस्क सिंगरौली(मोरवा)। सिंगरौली रेलवे स्टेशन से शुरू की गई निजी कोयला साइडिंग स्पर नम्बर-3 से बीते महीनों में की गई हेराफेरी की कडिय़ां खुलने लगी हैं। मामले में कोयले के एक बड़े ग्राहक संस्थान ने रेल बोर्ड में शिकायत की है कि उन्हें निर्धारित गेे्रड के कोयले में अधिकांश कोयला घटिया किस्म का भेजा गया है। उसमें भारी मात्रा में पत्थर और राख मिली होने की भी शिकायत की गई है। शिकायत को लेकर रेलवे ने इन्क्वायरी शुरू कर दी है जिसके लिए सिंगरौली रेलवे स्टेशन के रेल कर्मियों और परिवहन कर्ताओं के साथ सांठ-गांठ रखने वाले कर्मचारियों में हडक़म्प की स्थिति बन गयी है। सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक इस हेराफेरी में सिंगरौली के स्टेशन के कर्मचारी जांच की जद मे हंै। जिसके लिये रेलवे की उच्च स्तरीय टीम स्टेशन से लेकर मंडल कार्यालय और हाजीपुर जोन तक रिकार्ड ख्ंागाल रही है। बताया तो यह भी जा रहा है आला अधिकारी चपेट में आ सकते हैं। सिंगरौली से गैर प्रांतों में स्थित विद्युत उत्पादक कम्पनियों को कोयला भेजने की धुन में स्पर साइडिंग से दो दर्जन से अधिक निजी ट्रांसपोर्टर्स कोयले के कारोबार में लगे थे। जिसमें नामीगिरामी कम्पनियां भी है। 
शुरूआती दौर में हुआ हेरफेर
शुरूआती दौर से ही बिना प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड की अनुज्ञा लिए हुए है लाखों टन कोयला सिंगरौली से दिल्ली, गाजियाबाद और हरियाणा, पंजाब, यूपी व राजस्थान के पावर प्लांटों पर भेज दिया गया है। जिसको लेकर कभी कोयले में पत्थर मिक्स किये जाने तो कभी डिसेलिंग प्लांट से निकले रिजेक्ट कोयले को मिलाकर भेजे जाने की खबरें आम हो रही थी। निर्धारित मात्रा से कई गुना अधिक कोयले का स्टॉक जमाकर वारफेज की धज्जियां उड़ाने वाले ट्रांसपोर्टर्स और रेलवे के गुर्गे इन्क्वायरी सामने आने से सांसत मे हैं। जिसको लेकर शिकंजा कसा जा रहा है यदि जांच निष्पक्ष रूप से हुई तो इस खेल में लगे रेल कर्मचारियों को इसका बड़ा खामियाजा भुगतना पड़ सकता है। जिस तेजी से अप्रैल से लेकर जून के महीने तक कोयले की अंधाधुंध ट्रांसपोॢटंग की गई है उसके परिणाम अब सामने आने लगे हैं।
जमा है हजारों टन जला हुआ कोयला
कोयला परिवहनकर्ताओं की मनमानी से पत्थर राख मिक्स कोयले को मालगाड़ी में लोड करने की लत और रेल कर्मियों की मिलीभगत से किये जाने वाले गोरखधंधे का आलम यह है कि एडवांस रकम लगाकर कोयला खरीदने वाले कोयला कारोबारियों को अपने स्टॉक में हजारों टन कोयला जल जाने की फिक्र नहीं रही। क्योंकि उन्हें क्वालिटी से कोई सरोकार नहीं रहा, किसी भी तरह कोयले की क्वांटिटी पूरी कर लेने से अभी भी कोल स्टॉक यार्ड में हजारों टन जला हुआ कोयला व उसकी राख जमा है।
 

कमेंट करें
LDtCm
NEXT STORY

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। किसी के लिए भी प्रॉपर्टी खरीदना जीवन के महत्वपूर्ण कामों में से एक होता है। आप सारी जमा पूंजी और कर्ज लेकर अपने सपनों के घर को खरीदते हैं। इसलिए यह जरूरी है कि इसमें इतनी ही सावधानी बरती जाय जिससे कि आपकी मेहनत की कमाई को कोई चट ना कर सके। प्रॉपर्टी की कोई भी डील करने से पहले पूरा रिसर्च वर्क होना चाहिए। हर कागजात को सावधानी से चेक करने के बाद ही डील पर आगे बढ़ना चाहिए। हालांकि कई बार हमें मालूम नहीं होता कि सही और सटीक जानकारी कहा से मिलेगी। इसमें bhaskarproperty.com आपकी मदद कर सकता  है। 

जानिए भास्कर प्रॉपर्टी के बारे में:
भास्कर प्रॉपर्टी ऑनलाइन रियल एस्टेट स्पेस में तेजी से आगे बढ़ने वाली कंपनी हैं, जो आपके सपनों के घर की तलाश को आसान बनाती है। एक बेहतर अनुभव देने और आपको फर्जी लिस्टिंग और अंतहीन साइट विजिट से मुक्त कराने के मकसद से ही इस प्लेटफॉर्म को डेवलप किया गया है। हमारी बेहतरीन टीम की रिसर्च और मेहनत से हमने कई सारे प्रॉपर्टी से जुड़े रिकॉर्ड को इकट्ठा किया है। आपकी सुविधाओं को ध्यान में रखकर बनाए गए इस प्लेटफॉर्म से आपके समय की भी बचत होगी। यहां आपको सभी रेंज की प्रॉपर्टी लिस्टिंग मिलेगी, खास तौर पर जबलपुर की प्रॉपर्टीज से जुड़ी लिस्टिंग्स। ऐसे में अगर आप जबलपुर में प्रॉपर्टी खरीदने का प्लान बना रहे हैं और सही और सटीक जानकारी चाहते हैं तो भास्कर प्रॉपर्टी की वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं।

ध्यान रखें की प्रॉपर्टी RERA अप्रूव्ड हो 
कोई भी प्रॉपर्टी खरीदने से पहले इस बात का ध्यान रखे कि वो भारतीय रियल एस्टेट इंडस्ट्री के रेगुलेटर RERA से अप्रूव्ड हो। रियल एस्टेट रेगुलेशन एंड डेवेलपमेंट एक्ट, 2016 (RERA) को भारतीय संसद ने पास किया था। RERA का मकसद प्रॉपर्टी खरीदारों के हितों की रक्षा करना और रियल एस्टेट सेक्टर में निवेश को बढ़ावा देना है। राज्य सभा ने RERA को 10 मार्च और लोकसभा ने 15 मार्च, 2016 को किया था। 1 मई, 2016 को यह लागू हो गया। 92 में से 59 सेक्शंस 1 मई, 2016 और बाकी 1 मई, 2017 को अस्तित्व में आए। 6 महीने के भीतर केंद्र व राज्य सरकारों को अपने नियमों को केंद्रीय कानून के तहत नोटिफाई करना था।