• Dainik Bhaskar Hindi
  • City
  • Student hangs, hangs, dies: First lover's student killed life by consuming poison outside the girl's house

दैनिक भास्कर हिंदी: छात्रा झूली फांसी पर , मौत : पहले प्रेमी छात्र ने युवती के घर के बाहर जहर खाकर दी थी जान

September 17th, 2019

डिजिटल डेस्क /नौगांव/हरपालपुर । शासकीय पॉलिटेक्निक कॉलेज नौगांव की एक छात्रा ने हरपालपुर स्थित अपने निवास पर फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। इस छात्रा ने अपने एक सहपाठी के खिलाफ दुष्कृत्य का मामला नौगांव थाना में दर्ज कराया था। 12 दिन पहले वह युवक इस छात्रा के हरपालपुर स्थित निवास के सामने गंभीर हालत में मिला था, उसकी इलाज के दौरान मौत हो गई। इस घटना के 12 दिन बाद सोमवार की दोपहर छात्रा ने अपने घर के बाथरूम में फांसी लगाकर आत्महत्या का प्रयास किया। गंभीर हालत में इसे इलाज के लिए जिला अस्पताल ले जाया जा रहा था कि रास्ते में इसकी मौत हो गई। 
हरपालपुर के रघुराजगंज मोहल्ला में रहने वाले नरेन्द्र वैद्य की बेटी साक्षी वैद्य ने सोमवार को दोपहर 12 बजे अपने घर में बाथरूम में फांसी लगा ली। हरपालपुर टीआई दिलीप पांडेय ने बताया कि नरेन्द्र वैद्य ने उन्हें मोबाइल पर सूचित किया कि उनकी बेटी दोपहर 12 बजे नहाने के लिए बाथरूम में गई। काफी देर तक जब वह बाथरूम से बाहर नहीं निकली और आवाज देने पर जब उसने जवाब नहीं दिया तो बाथरूम का दरवाजा तोड़कर देखा गया तो उनकी बेटी साक्षी फांसी पर लटकी हुई थी। इस पर तुरंत उसे फांसी से उतारकर नगर के प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र ले गए। उसे नौगांव के लिए रैफर कर दिया गया। नौगांव के बाद से जिला अस्पताल रैफर किया गया। जब उसके परिजन उसे अस्पताल इलाज के लिए ले जा रहे थे तो दोपहर करीब 2.30 बजे मऊसहानियां के निकट साक्षी ने दम तोड़ दिया। हरपालपुर थाना पुलिस ने मर्ग कायम किया है।
12 दिन पहले युवक की हुई थी मौत
सोमवार को मृत हुई छात्रा साक्षी वैद्य शासकीय पॉलिटेक्निक कॉलेज नौगांव में अध्ययनरत थी। करीब 15 दिन पहले इसने अपने कॉलेज में सेकंड ईयर के छात्र शिवम् गुप्ता के खिलाफ नौगांव थाने में दुष्कृत्य का मामला दर्ज कराया था। मामला दर्ज होने के बाद 4 सितम्बर को शिवम् गुप्ता साक्षी के घर के सामने रात करीब 2.30 बजे अचेत अवस्था में मिला था। इस युवक की भी इलाज के लिए ग्वालियर ले जाते समय रास्ते में मौत हो गई थी। शिवम् ने पत्र में अपने प्रेम प्रसंग व आत्महत्या के लिए साक्षी के परिजनों को दोषी ठहराया था।