दैनिक भास्कर हिंदी: जल्द खुलेगी टेक होम राशन फैक्ट्री, आंगनवाड़ी केंद्रों में जाएगा पोषण आहार

July 31st, 2018

डिजिटल डेस्क, मंडला। राज्य सरकार आंगनवाड़ी में पोषण आहार के लिए नई व्यवस्था शुरू करने जा रही है। आंगनवाड़ी केंद्रों में बच्चों के लिए वितरित होने वाले पोषण आहार में गड़बड़ी रोकने के लिए यह कवायद की गई। खिचड़ी, दलिया, ब्रेड जैसी वस्तुओं का एक ही स्थान पर निर्माण के लिए मंडला रसैयादोना में टेक होम राशन फैक्ट्री तैयार की जा रही है। एक साल बाद इस फैक्ट्री का संचालन जिला पंचायत की निगरानी में आजीविका के महिला स्वसहायता समूह के माध्यम से किया जाएगा।

बताया गया है कि आंगनवाड़ी केन्द्रों में गर्भवती महिलाओं और बच्चों को मिलने वाले पोषण आहार में गड़बडी होती रही है। सरकार के द्वारा जिस संस्था को पोषण आहार वितरण की जिम्मेदारी दी गई। जिसमें कई प्रकार की शिकायतें सामने आई हैं। यहां तक हाईकोर्ट ने भी इस मामले को लेकर सरकार से जबाब मांगा। इसके बाद सरकार के द्वारा प्रदेश के सात जिलो में टेक होम राशन फैक्ट्री लगाने का प्रस्ताव पारित किया। जिसमें मंडला जिले को भी शमिल किया गया।

टेक होम राशन फूड फैक्ट्री में कई टन पोषण आहार तैयार करने वाली मशीन लगाई जाएगी। इस फूड फैक्ट्री के निर्माण का काम रसैयादोना में किया जा रहा है। जिला पंचायत मंडला ने करीब साढ़े सात करोड़ की लागत से निर्माण का काम ग्रामीण यांत्रिकी सेवा को दिया गया है। निर्माण कार्य शुरू कर दिया गया। जिसमें लगभग एक साल का समय लग सकता है। एक बार यह व्यवस्था शुरू होने से आंगनवाड़ी केंद्रों में पोषण आहार वितरण में बदलाव होगा। जिसका सीधा प्रभाव केन्द्रो में देखने को मिलेगा।

सात स्थानों पर बन रही फैक्ट्री
आजीविका मिशन के बीडी भौंसरे ने बताया है कि मध्यप्रदेश के सात जिले रीवा, सागर, होशंगाबाद, धार, मंडला, देवास और शिवपुरी में फैक्ट्री निर्माण किया जा रहा है। जिसमें समूह की महिलाएं पोषण आहार तैयार करेंगी। इस व्यवस्था का संचालन पंचायत एवं ग्रामीण विकास के अंतर्गत एनआरएलएम राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन के स्वयं सहायता समूहों के माध्यम से किया जाएगा। महिला एवं बाल विकास विभाग आंगनवाड़ी के माध्यम से वितरण किया जाएगा।

महिला समूह होंगे सशक्त 
स्कूल यूनीफार्म सिलाई का काम देने के साथ मंडला के आजीविका समूह को अब टेक होम राशन की जिम्मेदारी मिल जाएगी। जिससे समूह की महिलाओं को काम मिलेगा। स्व सहायता समूहों को सीधे तौर पर फायदा होगा। इसके लिए समूहों को पोषण आहार बनाने के लिए प्रशिक्षित किया जाएगा। इन समूहों को फेडरेशन उद्योग लगाने के लिए भवन निर्माण कराकर हैंडओवर किया जाएगा। 

इनका कहना है
पोषण आहार का निर्माण कराने का काम महिला समूह को दिया जाएगा। आंगनवाड़ी केन्द्रो में महिलाओ और बच्चो को गुणवत्ता युक्त आहार मिलेगा। इस व्यवस्था से काफी बदलाव देखने को मिलेगा।
बीडी भौंसरे, डीएम, आजीविका

रसैयादोना में फैक्ट्री का निर्माण शुरू कर दिया गया। यहां पोषण आहार तैयार होगा। निविदा समय पर फैक्ट्री निर्माण के लिए प्रयास किए जा रहे हैं।
मनोज धुर्वे