comScore

© Copyright 2019-20 : Bhaskarhindi.com. All Rights Reserved.

टूरिस्ट और ऑल इंडिया परमिट पर ले जा रहे थे रूट के यात्री, नौ बसों पर एक लाख का जुर्माना

February 22nd, 2021 13:47 IST
टूरिस्ट और ऑल इंडिया परमिट पर ले जा रहे थे रूट के यात्री, नौ बसों पर एक लाख का जुर्माना



डिजिटल डेस्क शहडोल। प्रदेश स्तर पर शुरू हुई कार्रवाई के बाद भी बस संचालकों की मनमानी जारी है। क्षमता से अधिक सवारियों को बस में बैठाया जा रहा है, वहीं टूरिस्ट परमिट पर सवारी ढोई जा रही हैं। शनिवार देर रात परिवहन विभाग और पुलिस ने संयुक्त रूप से सघन चेकिंग अभियान चलाते हुए इस ने नौ बसों के खिलाफ कार्रवाई की है। बस संचालकों से एक लाख 2 हजार रुपए का जुर्माना वसूल किया गया है।
यह कार्रवाई क्षमता से अधिक सवारियों का परिवहन करने और परमिट शर्तों का उल्लंघन करने पर की गई है। आरटीओ से मिली जानकारी के अनुसार शनिवार रात छत्तीसगढ़ से चलने वाली बसों की सघन जांच की गई। 20 से ज्यादा बसों की जांच की गई। इस दौरान छत्तीसगढ़ और उत्तर प्रदेश के रजिस्ट्रेशन वाली नौ बसों में परमिट की शर्तों का उल्लंघन पाया गया। टूरिस्ट और ऑल इंडिया परमिट पर सवारियों को ले जाया जा रहा था। वहीं बसों में क्षमता से अधिक सवारी बैठाई गई थी। नौ बसों पर एक लाख दो हजार रुपए का जुर्माना किया गया। साथ ही सख्त हिदायद दी गई है कि आल इंडिया परमिट या टूरिस्ट परमिट पर यात्रियों का परिवहन तत्काल प्रभाव से बंद कर दें।
इन बसों पर हुई कार्रवाई-
परिवहन विभाग व पुलिस की टीम ने रात में 20 से अधिक बसों की जांच की। इनमें अधिकतर बसें छत्तीसगढ़ से उत्तर प्रदेश के अलग-अलग शहरों के लिए जा रही थीं। जिन पर कार्रवाई की गई है, उनमें यूपी 78 डीएन 0666, सीजी 07 बीएक्स7711, सीजी 07 बीवाई 8573, सीजी 07 एफ 2470, सीजी 17 केएस7719, सीजी 08 एएन 9752, यूपी 72 एटी 7356, सीजी 07 बीडब्ल्यू 9990, यूपी 72 एटी 7353 बसों के चालान काटे गए हैं।
काफी समय से चल रहा खेल-
आल इंडिया परमिट और टूरिस्ट परमिट पर दूसरे राज्यों में सवारियों को ले जाने का काम काफी समय से चल रहा है। बस संचालक टूरिस्ट परमिट या ऑल इंडिया परमिट जारी करवा लेते हैं। इसके आधार पर दो राज्यों के बीच सवारी ढोने का काम करते हैं। शहडोल आरटीओ आशुतोष भदौरिया ने बताया कि करीब एक माह पहले भी इस तरह के परमिट बंद कर दिए गए थे। अब फिर से ऑलइंडिया परमिट बंद कर दिया जाएगा। उन्होंने कहा कि बस संचालकों से भी कह दिया गया है कि ऑल इंडिया परमिट या टूरिस्ट परमिट में बस रूट मेंटेन नहीं करने दिया जाएगा।

कमेंट करें
wnGNF
NEXT STORY

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। किसी के लिए भी प्रॉपर्टी खरीदना जीवन के महत्वपूर्ण कामों में से एक होता है। आप सारी जमा पूंजी और कर्ज लेकर अपने सपनों के घर को खरीदते हैं। इसलिए यह जरूरी है कि इसमें इतनी ही सावधानी बरती जाय जिससे कि आपकी मेहनत की कमाई को कोई चट ना कर सके। प्रॉपर्टी की कोई भी डील करने से पहले पूरा रिसर्च वर्क होना चाहिए। हर कागजात को सावधानी से चेक करने के बाद ही डील पर आगे बढ़ना चाहिए। हालांकि कई बार हमें मालूम नहीं होता कि सही और सटीक जानकारी कहा से मिलेगी। इसमें bhaskarproperty.com आपकी मदद कर सकता  है। 

जानिए भास्कर प्रॉपर्टी के बारे में:
भास्कर प्रॉपर्टी ऑनलाइन रियल एस्टेट स्पेस में तेजी से आगे बढ़ने वाली कंपनी हैं, जो आपके सपनों के घर की तलाश को आसान बनाती है। एक बेहतर अनुभव देने और आपको फर्जी लिस्टिंग और अंतहीन साइट विजिट से मुक्त कराने के मकसद से ही इस प्लेटफॉर्म को डेवलप किया गया है। हमारी बेहतरीन टीम की रिसर्च और मेहनत से हमने कई सारे प्रॉपर्टी से जुड़े रिकॉर्ड को इकट्ठा किया है। आपकी सुविधाओं को ध्यान में रखकर बनाए गए इस प्लेटफॉर्म से आपके समय की भी बचत होगी। यहां आपको सभी रेंज की प्रॉपर्टी लिस्टिंग मिलेगी, खास तौर पर जबलपुर की प्रॉपर्टीज से जुड़ी लिस्टिंग्स। ऐसे में अगर आप जबलपुर में प्रॉपर्टी खरीदने का प्लान बना रहे हैं और सही और सटीक जानकारी चाहते हैं तो भास्कर प्रॉपर्टी की वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं।

ध्यान रखें की प्रॉपर्टी RERA अप्रूव्ड हो 
कोई भी प्रॉपर्टी खरीदने से पहले इस बात का ध्यान रखे कि वो भारतीय रियल एस्टेट इंडस्ट्री के रेगुलेटर RERA से अप्रूव्ड हो। रियल एस्टेट रेगुलेशन एंड डेवेलपमेंट एक्ट, 2016 (RERA) को भारतीय संसद ने पास किया था। RERA का मकसद प्रॉपर्टी खरीदारों के हितों की रक्षा करना और रियल एस्टेट सेक्टर में निवेश को बढ़ावा देना है। राज्य सभा ने RERA को 10 मार्च और लोकसभा ने 15 मार्च, 2016 को किया था। 1 मई, 2016 को यह लागू हो गया। 92 में से 59 सेक्शंस 1 मई, 2016 और बाकी 1 मई, 2017 को अस्तित्व में आए। 6 महीने के भीतर केंद्र व राज्य सरकारों को अपने नियमों को केंद्रीय कानून के तहत नोटिफाई करना था।