comScore

© Copyright 2019-20 : Bhaskarhindi.com. All Rights Reserved.

 टीकमगढ़ से दिल्ली तक 190 रुपए में सफर, 105 रुपए में ग्वालियर

September 12th, 2020 15:42 IST
 टीकमगढ़ से दिल्ली तक 190 रुपए में सफर, 105 रुपए में ग्वालियर

 जनरल कोच में सीट आरक्षण से 15 रुपए बढ़ा किराया, अन्य क्लास में रहेगा यथावत
डिजिटल डेस्क  टीकमगढ़ ।
क्षेत्रवासियों के लिए अच्छी खबर है। शनिवार 12 सितंबर से 105 रुपए में ग्वालियर और 190 रुपए में नई दिल्ली तक टीकमगढ़ से रेल सफर कर सकेंगे। पहले ट्रेन की शुरुआत 27 अप्रैल से की जानी थी, लेकिन कोरोना संक्रमण के कारण स्थगित कर दी गई थी। अब यात्रियों को जनरल कोच में आरक्षित सीट के कारण 15 रुपए किराया अधिक देना पड़ेगा। अन्य क्लास में किराया पूर्व अनुसार रहेगा।  
बहुप्रतीक्षित खजुराहो-कुरुक्षेत्र रेलसेवा का शुभारंभ शनिवार को होगा। ट्रेन शुरू होने से पहले ही तीन दिन के स्लीपर कोच फुल हो गए हैं। एनसीआर झांसी के अनुसार कुरुक्षेत्र-खजुराहो एक्सप्रेस ट्रेन (01841) 12 सितंबर से खजुराहो और 13 सितंबर से ट्रेन (01842) कुरुक्षेत्र से पटरी पर दौड़ेगी। खजुराहो से शाम 6:35 बजे चलकर रात 8:43 पर टीकमगढ़ से निकलकर अगले दिन सुबह 8:25 बजे ह.निजामुद्दीन पहुंचेगी। छतरपुर, टीकमगढ़, ललितपुर, झांसी, ग्वालियर, आगरा, मथुरा के रास्ते प्रतिदिन चलाई जाएगी। ट्रेन में 2 एसएलआर कोच, 10 जनरल कोच, 5 स्लीपर, 2 थर्ड एसी कोच, 2 द्वितीय श्रेणी एसी कोच और 1 प्रथम श्रेणी एसी कोच रहेंगे। जनरल कोच में सीट आरक्षण मिलने के कारण अप्रैल की अपेक्षा 15 रुपए किराया बढ़ाया गया है। 
प्रमुख स्टेशनों का श्रेणीवार किराया
स्टेशन    1 एसी    2 एसी    3 एसी    स्लीपर    जनरल
कुरुक्षेत्र    2485    1485    1040    385    230
नईदिल्ली    2100    1260    885    325    190
मथुरा    1645    985    695    255    155
आगरा    1465    880    620    230    140
ग्वालियर    1175    710    505    180    105
दिल्ली तक 325 रुपए में स्लीपर का सफर
रेलवे की सूची के अनुसार सामान्य श्रेणी में खजुराहो से कुरुक्षेत्र का किराया 255 रुपए निर्धारित किया गया है। टीकमगढ़ से कुरुक्षेत्र का किराया 230 रुपए लगेगा। टीकमगढ़ से नई दिल्ली तक 190 रुपए, मथुरा 155, आगरा 140, ग्वालियर 105 और झांसी का किराया 80 रुपए देना होगा। स्लीपर क्लास में टीकमगढ़ से कुरुक्षेत्र का 385, नई दिल्ली 325, मथुरा 255, आगरा 230, ग्वालियर 180 और झांसी तक 145 रुपए किराया देकर सफर कर सकेंगे। एसी कोच का प्रथम, द्वितीय और तृतीय श्रेणी अनुसार किराया तय किया गया है।

कमेंट करें
mTxF1
NEXT STORY

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। किसी के लिए भी प्रॉपर्टी खरीदना जीवन के महत्वपूर्ण कामों में से एक होता है। आप सारी जमा पूंजी और कर्ज लेकर अपने सपनों के घर को खरीदते हैं। इसलिए यह जरूरी है कि इसमें इतनी ही सावधानी बरती जाय जिससे कि आपकी मेहनत की कमाई को कोई चट ना कर सके। प्रॉपर्टी की कोई भी डील करने से पहले पूरा रिसर्च वर्क होना चाहिए। हर कागजात को सावधानी से चेक करने के बाद ही डील पर आगे बढ़ना चाहिए। हालांकि कई बार हमें मालूम नहीं होता कि सही और सटीक जानकारी कहा से मिलेगी। इसमें bhaskarproperty.com आपकी मदद कर सकता  है। 

जानिए भास्कर प्रॉपर्टी के बारे में:
भास्कर प्रॉपर्टी ऑनलाइन रियल एस्टेट स्पेस में तेजी से आगे बढ़ने वाली कंपनी हैं, जो आपके सपनों के घर की तलाश को आसान बनाती है। एक बेहतर अनुभव देने और आपको फर्जी लिस्टिंग और अंतहीन साइट विजिट से मुक्त कराने के मकसद से ही इस प्लेटफॉर्म को डेवलप किया गया है। हमारी बेहतरीन टीम की रिसर्च और मेहनत से हमने कई सारे प्रॉपर्टी से जुड़े रिकॉर्ड को इकट्ठा किया है। आपकी सुविधाओं को ध्यान में रखकर बनाए गए इस प्लेटफॉर्म से आपके समय की भी बचत होगी। यहां आपको सभी रेंज की प्रॉपर्टी लिस्टिंग मिलेगी, खास तौर पर जबलपुर की प्रॉपर्टीज से जुड़ी लिस्टिंग्स। ऐसे में अगर आप जबलपुर में प्रॉपर्टी खरीदने का प्लान बना रहे हैं और सही और सटीक जानकारी चाहते हैं तो भास्कर प्रॉपर्टी की वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं।

ध्यान रखें की प्रॉपर्टी RERA अप्रूव्ड हो 
कोई भी प्रॉपर्टी खरीदने से पहले इस बात का ध्यान रखे कि वो भारतीय रियल एस्टेट इंडस्ट्री के रेगुलेटर RERA से अप्रूव्ड हो। रियल एस्टेट रेगुलेशन एंड डेवेलपमेंट एक्ट, 2016 (RERA) को भारतीय संसद ने पास किया था। RERA का मकसद प्रॉपर्टी खरीदारों के हितों की रक्षा करना और रियल एस्टेट सेक्टर में निवेश को बढ़ावा देना है। राज्य सभा ने RERA को 10 मार्च और लोकसभा ने 15 मार्च, 2016 को किया था। 1 मई, 2016 को यह लागू हो गया। 92 में से 59 सेक्शंस 1 मई, 2016 और बाकी 1 मई, 2017 को अस्तित्व में आए। 6 महीने के भीतर केंद्र व राज्य सरकारों को अपने नियमों को केंद्रीय कानून के तहत नोटिफाई करना था।