comScore

एक के नाम बना दी दो पात्रता पर्ची- पात्र हितग्राही ननि और खाद्य शाखा के लगा रहे चक्कर

एक के नाम बना दी दो पात्रता पर्ची- पात्र हितग्राही ननि और खाद्य शाखा के लगा रहे चक्कर

 डिजिटल डेस्क कटनी । गरीबों को राशन देने के नाम पर समग्र आईडी और पात्रता पर्ची जारी करने में नगर निगम का बड़ा खेल सामने आया है। जिसमें कई परिवार ऐसे हैं, जिन्हें दो-दो समग्र आईडी  बनाते हुए दो-दो पात्रता पर्ची जारी कर दी गई ।  एक तरफ शहर में 19 हजार परिवारों को सस्ते दर पर गेंहू, चावल के साथ अन्य सामग्री दिए जाने का दावा किया जा रहा है, तो दूसरी तरफ पात्र हितग्राही नगर निगम और खाद्य शाखा के बीच राशन लेने के लिए धक्के खाने को मजबूर हैं। इसके बावजूद गरीबों की समस्याओं पर अफसर आंख बंद किए हुए हैं। यह मामला करीब आठ माह पहले कांग्रेस ने नगर निगम के घेराव में उठाया था, फिर भी कई लोग ऐसे हैं। जिन्हें राशन ही नहीं मिल रहा है।
मां की व्यथा बताने पहुंची बेटी
अमीरगंज निवासी जाहिदा बी के परिवार में नौ सदस्य हैं। इसके बावजूद परिवार को आधे सदस्य के नाम से ही राशन मिल रहा है। पच्चहत्तर वर्षीय बुजुर्ग महिला डेढ़ वर्ष से चक्कर लगाते-लगाते थक गई तो मंगलवार को उसकी बेटी मुमताज बी खाद्य शाखा में अपनी समस्या बताने पहुंची। मुमताज ने बताया कि पिछले डेढ़ वर्ष से उसकी मां नगर निगम और खाद्य शाखा पात्रता पर्ची में नाम जुड़ाने के लिए पहुंच रही है। अब उसकी मां ठीक तरह से चल नहीं पाती। जिसके लिए वह पहले नगर निगम पहुंची तो वहां से उसे खाद्य शाखा भेज दिया गया।
बच्चों का नाम ही नहीं जुड़ा
मंगलवार को मदन मोहन चौबे वार्ड निवासी भोलू सेन अपनी शिकायत लेकर जिला खाद्य आपूर्ति विभाग में पहुंचा। यहां पर उसने बताया कि उसके बच्चों का नाम समग्र आईडी में नहीं जोड़ा गया है। जिससे उसे कम राशन मिल रहा है। इस संबंध में वह पिछले एक वर्ष से नगर निगम के चक्कर लगा रहा है। यहां पर भी उसे निराशा हाथ लगी।
एक ही परिवार को दो कार्ड
शहर के अंदर ऐसे कई लोग मिल जाएंगे। जिनके परिवारों के अलग-अलग समग्र आईडी बने हुए हैं और उन्हें दो-दो पात्रता पर्ची जारी कर दिया है। वार्ड नम्बर 15 निवासी चंदा बाई और चंदा ठाकुर के नाम से दो अलग-अलग पात्रता पर्ची जारी की गई है। अंतर बस इतना है कि एक में सरनेम ठाकुर लिखा गया है तो दूसरे में सरनेम को छिपा दिया गया है। परिवार के सदस्यों की संख्या दोनो में एक जैसे है। तीस किलो के राशन में अलग-अलग पात्रता पर्ची के लिए अलग-अलग दुकानों का भी नाम इसमें लिखा हुआ है।
इनका कहना है
 इस तरह की जानकारी आई है। जिसमें दो-दो आईडी बनाकर नगर निगम ने एक ही परिवार को दो से तीन पात्रता पर्ची जारी कर दी है, जिस परिवार की जानकारी मिली। खाद्य शाखा ने एक ही पर्ची को वैध माना और अन्य पर्ची को निरस्त कर दिया। समग्र आईडी बनाना और पात्रता पर्ची जारी करना स्थानीय निकायों का काम है।  

  के.एस.भदौरिया, सहा.खाद्य आपूर्ति अधिकारी
 

कमेंट करें
DZcjx