comScore

© Copyright 2019-20 : Bhaskarhindi.com. All Rights Reserved.

OnePlus 6T का टीजर जारी, 17 अक्टूबर को हो सकता है लॉन्च

September 20th, 2018 13:56 IST

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। चीनी कंपनी OnePlus मौजूदा स्मार्टफोन फीचर को ध्यान में रखते हुए जल्द अपना नया फोन OnePlus 6T लॉन्च करने जा रही है। हाल ही में कंपनी ने Amazon India की वेबसाइट पर OnePlus 6T का डेडिकेटेड टीजर जारी किया है। इसमें OnePlus 6T के साथ Coming Soon लिखा नजर आ रहा है। यह फोन एक्सक्लूसिव तौर पर सिर्फ Amazon पर मिलेगा। वहीं कंपनी ने एक टीवी कमर्शियल भी जारी किया है। जिसमें ब्रांड एंबेसडर अमिताभ बच्चन OnePlus के साथ दिखाई दे रहे हैं, वीडियो में वे फोन को एक अलग अंदाज में अनलॉक करते दिखाई दे रहे हैं। इसे देखते हुए कहा जा सकता है कि इस फोन में इन-डिस्प्ले फिंगरप्रिंट दिया जाएगा। हालांकि CNET को दिए इंटरव्यू में कंपनी द्वारा इस बात की पुष्टि पहले ही की जा चुकी है।

बता दें कि इस प्रीमियम फोन की कुछ स्पेसिफिकेशन पहले लीक हुई हैं, जिसके अनुसार फोन में लेटेस्ट वाटरड्रॉप नॉच डिस्प्ले दिया जा सकता है। खबरों की मानें तो इस फोन की कीमत करीब 39,500 रुपए होगी, जिसे 17 अक्टूबर सुबह 11 बजे लॉन्च किया जाएगा। फिल्हाल इस फोन की लॉन्च डेट या कीमत को लेकर कंपनी ने कोई जानकारी नहीं दी है। कितना खास होगा OnePlus 6T, आइए जानते हैं:-

डिस्प्ले
इस फोन में 6.28 इंच की FHD आॅप्टिक AMOLED डिस्प्ले दी जा सकती है। जो 1080 x 2280 पिक्सल का रेजोल्यूशन देगी। इसमें लेटेस्ट वाटरड्रॉप नॉच डिस्प्ले का उपयोग किया जा सकता है, जिसमें पतले बेजल दिए जाएंगे। डिस्प्ले में फिंगरप्रिंट सेंसर दिया जाएगा, जो सबसे पहले Vivo X21 में देखने को मिला था।

कैमरा
कैमरा की बात करें तो फोन में ट्रिपल सेटअप वाला रियर कैमरा दिया जा सकता है। जो LED फ्लैश लाइट के साथ आएगा। इसके अलावा फोन में 24 मेगापिक्सल का फ्रंट कैमरा दिया जा सकता है।

रैम/ मेमोरी
इस फोन में 8 GB रैम के साथ क्वालकॉम स्नैपड्रैगन 845 चिपसेट प्रोसेसर दिया जा सकता है। OnePlus 6T में नया प्लेटफार्म Android 9 Pie मिल सकता है। फोन में स्टोरेज क्षमता 256 GB दी जाएगी।

बैटरी
फोन में लंबे टाॅकटाइम के लिए 3500 mAh की बिग बैटरी दी जा सकती हैै, जो यह फास्ट चार्ज टेक्नॉलजी को सपोर्ट करेगी।

कनेक्टिविटी
इस फोन में 4G LTE, वाई-फाई 802.11, डुअल बैंड, हाॅटस्पाॅट, ब्लूटूथ 5.0, यूएसबी टाइप-सी, एनएफसी, 3.5 एमएम आॅडियो जैक दिया जाएगा। 

कमेंट करें
OwtuT
कमेंट पढ़े
kuljinder singh September 12th, 2018 11:48 IST

nice article www.technologyguruji.com

NEXT STORY

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। किसी के लिए भी प्रॉपर्टी खरीदना जीवन के महत्वपूर्ण कामों में से एक होता है। आप सारी जमा पूंजी और कर्ज लेकर अपने सपनों के घर को खरीदते हैं। इसलिए यह जरूरी है कि इसमें इतनी ही सावधानी बरती जाय जिससे कि आपकी मेहनत की कमाई को कोई चट ना कर सके। प्रॉपर्टी की कोई भी डील करने से पहले पूरा रिसर्च वर्क होना चाहिए। हर कागजात को सावधानी से चेक करने के बाद ही डील पर आगे बढ़ना चाहिए। हालांकि कई बार हमें मालूम नहीं होता कि सही और सटीक जानकारी कहा से मिलेगी। इसमें bhaskarproperty.com आपकी मदद कर सकता  है। 

जानिए भास्कर प्रॉपर्टी के बारे में:
भास्कर प्रॉपर्टी ऑनलाइन रियल एस्टेट स्पेस में तेजी से आगे बढ़ने वाली कंपनी हैं, जो आपके सपनों के घर की तलाश को आसान बनाती है। एक बेहतर अनुभव देने और आपको फर्जी लिस्टिंग और अंतहीन साइट विजिट से मुक्त कराने के मकसद से ही इस प्लेटफॉर्म को डेवलप किया गया है। हमारी बेहतरीन टीम की रिसर्च और मेहनत से हमने कई सारे प्रॉपर्टी से जुड़े रिकॉर्ड को इकट्ठा किया है। आपकी सुविधाओं को ध्यान में रखकर बनाए गए इस प्लेटफॉर्म से आपके समय की भी बचत होगी। यहां आपको सभी रेंज की प्रॉपर्टी लिस्टिंग मिलेगी, खास तौर पर जबलपुर की प्रॉपर्टीज से जुड़ी लिस्टिंग्स। ऐसे में अगर आप जबलपुर में प्रॉपर्टी खरीदने का प्लान बना रहे हैं और सही और सटीक जानकारी चाहते हैं तो भास्कर प्रॉपर्टी की वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं।

ध्यान रखें की प्रॉपर्टी RERA अप्रूव्ड हो 
कोई भी प्रॉपर्टी खरीदने से पहले इस बात का ध्यान रखे कि वो भारतीय रियल एस्टेट इंडस्ट्री के रेगुलेटर RERA से अप्रूव्ड हो। रियल एस्टेट रेगुलेशन एंड डेवेलपमेंट एक्ट, 2016 (RERA) को भारतीय संसद ने पास किया था। RERA का मकसद प्रॉपर्टी खरीदारों के हितों की रक्षा करना और रियल एस्टेट सेक्टर में निवेश को बढ़ावा देना है। राज्य सभा ने RERA को 10 मार्च और लोकसभा ने 15 मार्च, 2016 को किया था। 1 मई, 2016 को यह लागू हो गया। 92 में से 59 सेक्शंस 1 मई, 2016 और बाकी 1 मई, 2017 को अस्तित्व में आए। 6 महीने के भीतर केंद्र व राज्य सरकारों को अपने नियमों को केंद्रीय कानून के तहत नोटिफाई करना था।