comScore

72वां जन्मदिन मना रहे हैं अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप, ये हैं जिंदगी से जुड़ी दिलचस्प बातें

September 05th, 2018 18:26 IST
72वां जन्मदिन मना रहे हैं अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप, ये हैं जिंदगी से जुड़ी दिलचस्प बातें

हाईलाइट

  • दुनिया के सबसे शक्तिशाली राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप अपना 72 वां जन्मदिन मना रहे है।
  • ट्रंप रिपब्लिकन पार्टी के नेता है।
  • 9 नवंबर 2016 को ट्रंप ने डेमोक्रेटिक पार्टी की उम्मीदवार हिलेरी क्लिंटन को हराकर राष्ट्रपति चुनाव में जीत हासिल की थी।
  • ट्रंप अमेरिका के बिजनेस पर्सन, लेखक, टीवी कलाकार और WWE के आयोजक रहे चुके है। इसके अलावा उनका रियल स्टेट का बहुत बड़ा व्यवसाय है।

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। दुनिया के सबसे शक्तिशाली राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप अपना 72 वां जन्मदिन मना रहे है। ट्रंप रिपब्लिकन पार्टी के नेता है। 9 नवंबर 2016 को ट्रंप ने डेमोक्रेटिक पार्टी की उम्मीदवार हिलेरी क्लिंटन को हराकर राष्ट्रपति चुनाव में जीत हासिल की थी। बता दें कि ट्रंप नेता होने के साथ-साथ अमेरिका के एक बड़े बिजनेसमैन, टीवी पर्सनालिटी और लेखक भी हैं। आइए जानते है ट्रंप के बर्थडे पर उनकी लाइफ से जुड़ी दिलचस्प बातें।

पारिवारिक जिंदगी

डोनाल्ड ट्रंप का जन्म 14 जून, 1946 को क्वींस, न्यूयॉर्क सिटी में हुआ था। ट्रंप अपने माता-मरियम ऐनी और फ्रेड ट्रम्प के साथ क्वींस में रहते थे। इन्होंने प्रेस्बिटेरियन ईसाई धर्म को माना था। ट्रंप के शादी से पहले कई अफेयर थे। 1977 में ट्रंप ने पूर्व ओलिंपिक खिलाड़ी इवाना से शादी की थी। लेकिन ये शादी 1991 तक ही चल सकी। इसके बाद 1993 में ट्रंप ने एक्ट्रेस मार्ला को अपना जीवनसाथी बनाया और फिर मार्ला को भी 1999 में तलाक दे दिया। जिसके 6 साल बाद ट्रंप ने अपनी तीसरी शादी मॉडल मेलानिया से की। ट्रंप को तीन पत्नियों से पांच बच्चे हैं जिनका नाम जूनियर डोनाल्ड ट्रंप, इवांका ट्रंप, एरिक ट्रम्प, टिफ़नी ट्रम्प और बेरोन ट्रम्प है। 

बहुमुखी प्रतिभा के धनी है ट्रंप

अमेरिका के राष्ट्रपति बनने से पहले ट्रंप अपनी लाइफ में बहुत कुछ ऐसा कर चुके हैं जिससे हर कोई जनने की इच्छा रखता है। ट्रंप की लाइफ राष्ट्रपति बनने से पहले बहुत अलग थी। ट्रंप अमेरिका के बिजनेस पर्सन, लेखक, टीवी कलाकार और WWE के आयोजक रहे चुके है। इसके अलावा उनका रियल स्टेट का बहुत बड़ा व्यवसाय है। 

भाषणों से रहते हैं सुर्खियों में

डोनाल्ड ट्रंप अक्सर अपने बेबाक भाषणों को लेकर चर्चा में रहते हैं। टेलीविजन और अखबार की सुर्खियों में रहने के पीछे भी यही वजह है। ट्रंप जब भी भाषण देते हैं तो उस पर दुनिया भर के मीडिया पर्सन की नजर होती है। 

अर्थशास्त्र के महारथी

डोनाल्ड ट्रंप ने अपनी शुरूआती शिक्षा व्हार्टन स्कूल से हासिल की थी। इसके बाद फोडर्म विश्वविद्यालय और पेन्सिलवेनिया विश्वविद्यालय के वार्टन स्कूल ऑफ फाइनेंस एंड कॉमर्स से  पढ़ाई की। ट्रंप को अर्थशास्त्र का अच्छा जानकार माना जाता है। उन्होंने अर्थशास्त्र में स्नातक की डिग्री हासिल की है। ट्रंप कॉलेज के समय से ही पिता की कंपनी में अपना काम शुरू कर दिया था। 
कामयाब कारोबारी ट्रंप

डोनाल्ड ट्रंप ने अपने पिता की कंपनी “एलिज़ाबेथ ट्रम्प एंड सन” कॉलेज की पढाई के समय जॉइन की थी। यह कंपनी ब्रुकलिन, कुईंस, और स्टेटन आइलैंड में माध्यम वर्ग के माकन किराये पर देती थी। ट्रंप इस कारोबार में बहुत ही ज्यादा ध्यान देने लगे जिसमें उन्होंने $5लाख का निवेश किया। इस प्रोजेक्ट में कुल 1200 अपार्टमेंट सिनसिनाटी शहर में बनाये गए जो लगभग 2 वर्षों के भीतर 100% लोगों ने किराये में ले लिया। जिससे डोनाल्ड ट्रंप एक कामयाब अमरीकी कारोबारी बने गए। आज उनके पास अरबों रुपए की संपत्ति है। न्यूयॉर्क के बेहद महंगे मैनहैटन इलाक़े में उनके पास अच्छी ख़ासी जायदाद है। अगर कहे कि एक रईस अमरीकी हैं तो गलत नहीं होगा। 

यौन उत्पीड़न के आरोप

राष्‍ट्रपति के तौर पर ट्रंप के एक वर्ष के कार्यकाल में उन पर एक दर्जन से अधिक महिलाओं ने यौन आरोप लगाए हैं। आरोप लगाने वाली महिलाओं में मॉडल से लेकर अभिनेत्रियां तक शामिल हैं। करीब 14 महिलाएं ऐसी हैं जिन्होंने ट्रंप पर यौन उत्पीड़न का आरोप लगाया है। जिनमें जेसिका लीड्स, स्टॉर्मी डेनियल्स, रेचेल क्रूक्स, सैमंथा होलवे, समर जेरवोस, क्रिस्टीन एंडरसन, लीसा बोयने, जेसिका ड्राक, जिला हार्थ, कैथी हेलर, निनी लाकसोनन, मिंजी मैकगिलिवरे, नताशा स्टोयनोफ, टेंपल टागार्ट और कारेना वर्जीनिया का नाम शामिल है।

हिलेरी को हराकार बने थे राष्ट्रपति

अमेरिका के 45 वें राष्ट्रपति के तौर पर ट्रंप ने 9 नवम्बर 2016 को 276 वोटों के साथ ये सर्वोच्च पद हासिल किया था। राष्ट्रपति पद की उम्मीदवार हिलेरी को 218 वोट ही मिले थे। ट्रंप अपने चुनावी अभियान के दौरान गैर अमेरिकी मुसलमानों को अमेरिका में एंट्री नहीं देने को लेकर सुर्ख़ियों में आए थे. उन्होंने पद संभालते ही सात मुस्लिम बहुल देशों- ईरान, इराक, सीरिया, लीबिया, यमन, सूडान और सोमालिया के नागरिकों के अमेरिका में एंट्री पर बैन लगाया था।

कमेंट करें
9SpzP