दैनिक भास्कर हिंदी: इस एक विटामिन की कमी के चलते होता है पुरूषों और महिलाओं की फर्टिलिटी पर असर

May 6th, 2020

हाईलाइट

  • विटामिन डी की कमी से होता है फर्टिलिटी पर असर
  • विटामिन डी की कमी पूरी करने के लिए सूर्य की रोशनी में रहे
  • जानें क्या है विटामिन डी की कमी के लक्षण

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। आज की भागदौड़ भरी जिंदगी में ये जरूरी है कि हम अपनी सेहत का ख्याल रखें। हम जो भी चीज खाते-पीते है उसका सीधा असर हमारे हैल्थ पर पड़ता है और बहुत जल्दी ही वो हमारे शरीर व चेहरे पर दिखने लगता है। यही वजह है कि डाइट हमारे जीवन जीने के तरीके यानी लाइफस्टाइल में अहम भूमिका निभाती है। जितनी जरूरी हमारी डाइट होती है उतना ही जरूरी है हमारे शरीर के लिए पोषक तत्वों की आपूर्ति। खासकर हमारे जीवन में विटामिन्स का भरपूर मात्रा में होना अति अवश्यक है। इसलिए हमें विटामिन्स से भरपूर चीजें खानी चाहिए।

फेमस पोर्न स्टार मिया खलीफा की चौंकाने वाली डिमांड, कहा- मुझे कपड़ो के साथ...

प्रेग्नेंसी से बचने के लिए कब ना करें सेक्स, कैसे होते है प्रेग्नेंट, जानें

विटामिन्स के कई फायदे होते हैं, लेकिन हर चीज सही मात्रा में ही खाना-पीना चाहिए क्योंकि किसी भी चीज कि अधिकता नुकसान देह होती है। खासकर बात जब शरीर की हो तो विशेष रूप से इस बात का ख्याल रखना चाहिए। विटामिन्स में मौजूद पोषक तत्व ऐसे तो कई शारीरिक कार्यों के लिए जरूरी और उचित हैं लेकिन खास तौर पर इसका हमारे इम्यून सिस्टम, प्रजनन क्षमता, स्किन केयर और स्ट्रेस कम करने मे महत्वपूर्ण योगदान रहता है। 

क्या जानते है कि पुरूष और महिलाओं की फर्टिलिटी एक विशेष प्रकार की विटामिन की कमी के चलते प्रभावित होती है। विटामिन डी की कमी के चलते महिला व पुरूष दोनों को हि काफी हद तक परेशानी का सामना करना पड़ सकता है क्योंकि इसका सीधा असर फर्टिलिटी पर होता है। इतना ही नहीं विटामिन डी की कमी डिमेंशिया और सेहत में गिरावट का कारण बनती है। इसलिए ध्यान रखें की त्वचा का रंग जितना गहरा होगा, विटामिन डी उतना ही कम बनेगा और फिर धीरे धीरे इसकी कमी भी होती चली जाएगी। बहुत ज्यादा वजन भी आपको विटामिन डी की कमी की ओर ले जाता है।

भोजन के माध्यम से और सूर्य के प्रकाश के संपर्क में आने से विटामिन डी मिलता है। अधिकांश वयस्कों के लिए, विटामिन डी की कमी चिंता का विषय नहीं है। कुछ, विशेष रूप से गहरे रंग की त्वचा वाले और 65 वर्ष से अधिक उम्र के वयस्कों को इस स्थिति का अधिक खतरा होता है। ज्यादातर लोगों में कोई लक्षण नहीं होते हैं। गंभीर मामलों में विटामिन डी की कमी के कारण पतली, भंगुर या मिसफेन हड्डियां हो सकती हैं। हालांकि विटामिन डी सप्लीमेंट इसका मुख्य उपचार है। विटामिन डी कैल्शियम को पचाने में और अवशोषण में शरीर की मदद करता है। शरीर की कोशिकाओं को स्वस्थ रखने के लिए यह भोजन और अन्य विकल्पों से कैल्शियम ग्रहण करता है।

विटामिन डी कुछ खाद्ध पदार्थों में भी उपस्थित होता है जैसे दूध में। इसके अलावा कुछ अन्य खाद्ध पदार्थ जैसे की मछली और डेरी उत्पाद में भी इसकी मौजूदगी होती है। हालांकि सिर्फ आहार के माध्यम से विटामिन डी की पूर्ति करना संभव नहीं है। 

विटामिन डी की कमी से थकान, हड्डियों में दर्द, शरीर के पीछे निचले हिस्से में दर्द, अवसाद, घाव को भरने में अधिक वक्त लगना, हड्डियों में कमी, बाल ड़ना, मांसपेशियों में दर्द आदि की समस्याएं होती हैं। 

इसके अलावा अगर आपकी जीवन शैली या दिनचर्या इश प्रकार की है कि आप सूर्य की रोशनी नहीं ले पाते तब आपको निम्न लक्षण महसूस हो सकते है, जिससे आपको अनुभव हो जाएगा कि आपको विटामिन डी की कमी है।

विटामिन डी की कमी के लक्षण
1. उदास रहना
2. वजन बढ़ना
3. बार-बार संक्रमण की चपेट में आना
4. अधिक थकान महसूस करना
5. घाव आसानी से न भर पाना 
6. हड्डियों की कमी
7. पाचन संबंधी परेशानी
8. हड्डियों और जोड़ो पर दर्द होना
9. सिर से पसीना आना
10. बाल झड़ना

 

विटामिन डी की कमी के कारण
इसका मुख्य कारण होता है सूर्य की रोशनी नहीं ले पाना या फिर विटामिन डी को अपने आहार में सम्मिलित ना करना।


विटामिन डी की कमी से बचाव
विटामिन डी युक्त खाद्ध पदार्थ खाना शुरू करें। 
रोजाना 15-20 मिनट धूप लें।
प्रत्येक दिन सूर्य की रोशनी में कुछ समय व्यतीत करें।
यदि पेट, लिवर और किडनी संबंधित बीमारी है तो इन्हें ठीक करने के लिए दवाईयां लें और इनकी स्थिति में सुधार लाएं। 
विटामिन डी के सप्लीमेंट का उपयोग करें।


विटामिन डी के कुछ अन्य स्त्रोत और खाद्ध पदार्थ
1. स्त्रोत-----
मशरूम
अंडा
दूध 
कलेजी 
पनीर

 

2.खाद्ध पदार्थ-----
डेरी उत्पाद
संतरे का जूस
सोया मिल्क
अनाज 

सनी लियोन का ब्लैक शॉर्ट ड्रेस में ग्लैमर, पति संग किया कुछ ऐसा...देखें वीडियो

खबरें और भी हैं...