comScore

Indian Railways: 1 जून से पटरियों पर दौड़ेंगी 200 पैसेंजर्स ट्रेनें, टिकट बुकिंग शुरू, देखें लिस्ट


हाईलाइट

  • तत्काल या प्रीमियम तत्काल की सुविधा नहीं होगी
  • कंफर्म टिकट होने पर ही स्टेशन पर एंट्री मिलेगी
  • IRCTC की वेबसाइट पर बुकिंग शुरू

​डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। कोरोना महासंकट और लॉकडाउन के बीच अन्य प्रदेशों में फंसे लोगों के लिए राहत भरी खबर है। स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय (MoHFW) व गृह मंत्रालय (MHA) के परामर्श से रेल मंत्रालय ने 1 जून से 200 यात्री ट्रेनों के संचालन की घोषणा की थी। अब भारतीय रेलवे ने 200 जोड़ी ट्रेनों की लिस्ट जारी कर दी है। इन ट्रेनों में सफर करने के लिए यात्री टिकट की बुकिंग IRCTC की वेबसाइट और मोबाइल ऐप की मदद से आज (21 मई) से शुरू कर सकेंगे। इनके लिए एडवांस रिजर्वेशन पीरियड 30 दिन होगा, आरएसी और वेटिंग लिस्ट के नियम पहले की तरह होंगे। 

भारतीय रेलवे द्वारा जारी ट्रेनों की लिस्ट में दुरंतो, संपर्क क्रांति, जन शताब्दी और पूर्वा एक्सप्रेस जैसी गाड़ियां शामिल हैं। इन गाड़ियों में एसी और नॉन एसी कोच होंगे और यात्रियों को जनरल कोच में बैठने के लिए भी रिजर्वेशन लेना होगा। यानी ट्रेन में कोई अनरिजर्व्ड कोच नहीं होगा। वहीं तत्काल या प्रीमियम तत्काल की सुविधा नहीं होगी। कंफर्म टिकट होने पर ही स्टेशन पर एंट्री मिलेगी।

स्लीपर का किराया देकर जनरल कोच में बैठना होगा
रेलवे अधिकारियों के मुताबिक, 1 जून से चलने वालीं ट्रेनों का किराया सामान्य ही होगा, लेकिन जनरल कोच में सीट बुक करने के लिए भी स्लीपर का किराया देना होगा। रेलवे ने कहा है कि सभी यात्रियों को सीट मिलेगी यानी कोई वेटिंग नहीं होगी। कोई भी यात्री वेटिंग टिकट पर यात्रा नहीं कर पाएगा। किसी भी तरह से अनारक्षित टिकट नहीं मिलेगा और न ही तत्काल टिकट की कोई व्यवस्था है।

रेल मंत्री ने की थी ट्रेनों के संचालन की घोषणा
बता दें कि देश में एक जून से नॉन एसी ट्रेनें चलाए जाने की रेलवे मंत्री पीयूष गोयल ने घोषणा की थी। उन्होंने कहा था कि इन ट्रेनों की बुकिंग भी IRCTC की वेबसाइट के जरिए ही होगी। रेलवे के इस कदम से प्रवासी मजदूर जो अपने घरों से दूर दूसरे राज्य में फंसे हैं उन्हें राहत मिलेगी। लॉकडाउन के चलते विभिन्न राज्यों में फंसे प्रवासी मजदूरों को उनके घर पहुंचाने के लिए रेलवे श्रमिक स्पेशल ट्रेनों का संचालन कर रहा है।

राज्यों से श्रमिकों की सहायता करने की अपील
इसके अलावा गोयल ने राज्यों से अनुरोध किया था कि वह श्रमिकों की सहायता करें और नजदीकी मेन लाइन स्टेशन के पास उनका पंजीकरण करवा कर लिस्ट रेलवे को उपलब्ध कराएं, जिससे रेलवे श्रमिक स्पेशल ट्रेनों का संचालन कर सके। गोयल ने कहा था कि मजदूरों से आग्रह है कि वे अपने स्थान पर ही रहें। भारतीय रेलवे जल्द ही उन्हें उनके गंतव्य तक पहुंचाएगा। 

12 मई से शुरू हुईं स्पेशल ट्रेनें चलना
बता दें कि लॉकडाउन के कारण रेल सेवा पूरी तरह से ठप थी। रेलवे ने पहले अलग-अलग राज्यों में फंसे प्रवासी मजदूरों के लिए पहले श्रमिक स्पेशल ट्रेन चलाने का फैसला लिया। इस ट्रेन से प्रवासी लोगों को उनके राज्यों तक पहुंचाया जा रहा है। वहीं 12 मई से 15 जोड़ी स्पेशल ट्रेन भी पटरी पर दौड़ना शुरू हुई। हालांकि, 15 जोड़ी स्पेशल ट्रेनें पूरी तरह से एसी हैं। ये ट्रेन नई दिल्ली और देश के अलग-अलग 15 हिस्सों में चलाई जा रही हैं।

कमेंट करें
qdl49
कमेंट पढ़े
Bharati Banerjee May 26th, 2020 09:35 IST

good decision

Bharati Banerjee May 26th, 2020 09:35 IST

good decision